अनिल कपूर पिछले 10 सालों से इस बीमारी से थे परेशान, जानें लक्षण और सावधानियां

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


अनिल कपूर पिछले 10 सालों से एचिलिस टेंडन इश्यू से पीड़ित थे

अनिल कपूर पिछले 10 सालों से एचिलिस टेंडन इश्यू से पीड़ित थे

बॉलीवुड अभिनेता अनिल कपूर (Anil Kapoor) ने खुलासा किया है कि वह एचिलिस टेंडन इश्यू (Achilles Tendon Injury) से परेशान रहे थे. इसमें चलने और खड़े रहने में परेशानी होती है.


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    October 17, 2020, 12:09 PM IST

बॉलीवुड अभिनेता अनिल कपूर (Anil Kapoor) ने खुलासा किया है कि वह दस साल तक एचिलिस टेंडन इश्यू (Achilles Tendon Injury) से परेशान रहे थे. एचिलिस टेंडन पिंडली में फाइबर्स टिश्यू का मजबूत जोड़ होता है. अनिल कपूर ने बताया कि वर्ल्ड के हर डॉक्टर ने उन्हें इस समस्या से निजात पाने के लिए सर्जरी कराने की सलाह दी. इसके बाद डॉक्टर मुलर ने उन्हें लंगड़ाकर चलने की समस्या से छुटकारा दिलाने के लिए कायाकल्प ट्रीटमेंट की एक सीरीज बताई. इसमें चलने से लेकर शुरू हुई चीजें रस्सी कूदने (Skipping) तक पहुंची. अनिल कपूर ने एक इन्स्टाग्राम पोस्ट में इन सब बातों का जिक्र किया है.

हाल ही में टेनिस खिलाड़ी सेरेना विलियम्स ने भी एचिलिस इंजरी से परेशानी का जिक्र किया था, इसके बाद वह फ्रेंच ओपन टूर्नामेंट से बाहर हो गईं. एड़ी की हड्डी से और पिंडली की मांसपेशियों से जुड़े हुए फाइबर्स टिश्यू को ही एचिलिस टेंडन कहा जाता है.एचिलिस टेंडन का इलाज
इंडियंस एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के अनुसार अपोलो अस्पताल के ऑर्थोपेडिक डॉक्टर यश गुलाटी ने स्पोर्ट इवेंट या अन्य किसी वजह से हुई एचिलिस इंजरी का इलाज सर्जरी से कराने की सलाह देते हैं. वर्षों तक इसके रहते का प्रयोग करते रहने से यह ज्यादा हो सकता है लेकिन यह इस चोट की समान्य बात है. एचिलिस का इलाज फिजियोथेरेपी, स्ट्रेचिंग, स्टेरॉयड इंजेक्शन, प्लेटनेट रिच प्लाज्मा थेरेपी आदि से हो सकता है. एचिलिस टेंडन के मुख्य लक्षणों में सुबह दर्द होना, ऐसा लगना जैसे पीछे से किसी ने मारा हो आदि हो सकते हैं.

ज्यादा टूटने पर मरीज को पैरों की ऊंगलियों पर खड़े होने में परेशानी होती है. इसके अलावा चलने में भी परेशानी का सामना करना पड़ सकता है. इंसान को लंगड़ाकर चलना पड़ सकता है. नियमित रूप से वॉक या व्यायाम करते रहने से इसमें फायदा होने की संभावना ज्यादा रहती है. समय पर ध्यान देकर इससे जल्दी छुटकारा पाया जा सकता है.





Source link

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

Translate »
You cannot copy content of this page