ऑयल इंडिया का दावा, असम के बागजान गैस कुएं में लगी आग पांच महीने बाद पूरी तरह बंद

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


असम के बागजान में ऑयल इंडिया के कुएं में लगी आग पर काबू पाया गया. इमेजः ANI

असम के बागजान में ऑयल इंडिया के कुएं में लगी आग पर काबू पाया गया. इमेजः ANI

ऑयल इंडिया (Oil India) के मुताबिक असम (Assam) के बागजान गैस कुएं (Baghjan Oil Fire Field) में लगी आग पर पांच महीने बाद काबू पा लिया गया है. हालांकि अगले कुछ दिनों तक गैस के रिसाव और दबाव को जांचा जाएगा.


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    November 15, 2020, 11:27 PM IST

गुवाहाटी/तिनसुकिया. ऑयल इंडिया (Oil India) ने बताया है कि असम (Assam) के बागजान गैस कुएं (Baghjan Oil Fire Field) में लगी आग पर पांच महीने की कड़ी मशक्कत के बाद रविवार को पूरी तरह काबू पा लिया गया. कंपनी के मुताबिक इस प्रक्रिया में गैस का कुआं पूरी तरह बंद हो गया है. पूर्वोत्तर की सबसे बुरी औद्योगिक आपदा में ऑयल इंडिया (Oil India) के तीन कर्मचारियों की मौत हो गई थी और कई अन्य घायल हुए थे.

विदेशी विशेषज्ञों सहित कई दलों के संयुक्त प्रयासों से कुएं में लगी आग पर काबू पाने की प्रक्रिया में कई बार नाकामी का सामना भी करना पड़ा. ऑयल इंडिया लिमिटेड (OIL) के प्रवक्ता त्रिदिव हजारिका ने एक बयान में कहा, ‘‘कुएं को नमकीन घोल से नष्ट कर दिया गया है और अब हालात नियंत्रण में हैं.

आग को पूरी तरह बुझा दिया गया है.’’ उन्होंने कहा कि अब कुएं में कोई दबाव नहीं है और अगले 24 घंटों में यह जांचना होगा कि कहीं किसी गैस के रिसाव या दबाव का निर्माण तो नहीं हो रहा है.

ये भी पढ़ेंः असम : बागजान तेल कुएं के पास बड़ा विस्फोट, 3 विदेशी विशेषज्ञ घायलहजारिका ने कहा, ‘‘कुएं को छोड़ने के लिए आगे का काम जारी है.’’ साथ ही उन्होंने बताया कि सिंगापुर की कंपनी अलर्ट डिजास्टर के विशेषज्ञ इस काम में सक्रिय रूप से लगे हुए हैं.

ये भी पढ़ेंः बागजान में तेल कुएं में 50 दिन से लगी हुई है आग, पूरी कहानी

कंपनी के निदेशक (खोज और विकास) पी चंद्रशेखरन, निदेशक (संचालन) पी के गोस्वामी और रेजिडेंट चीफ एक्जीक्यूटिव डी के दास ने कुएं को सफलतापूर्वक बंद किए जाने के बाद मौके पर जाकर मुआयना किया और एलर्ट के विशेषज्ञों के साथ उनकी विस्तृत बातचीत हुई.

तिनसुकिया जिले के बागजान में कुआं संख्या पांच में 27 मई से गैस बेकाबू हो गयी थी और इसने नौ जून को आग पकड़ ली, जिसमें ऑयल इंडिया के दो कर्मचारियों की मौत हो गई.

इसके बाद नौ सितंबर को ऑयल इंडिया के एक 25 वर्षीय इलेक्ट्रिकल इंजीनियर को उच्च वोल्टेज के बिजली के झटके के कारण अपनी जान गंवानी पड़ी.





Source link

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

Translate »
You cannot copy content of this page