किसानों के लिए खुशखबरी! अब खाद खरीदने पर मिलेगा 1 लाख रु का दुर्घटना बीमा, कंपनी भरेगी प्रीमियम

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


किसानों को मिलेगा 'खाद तो खाद बीमा भी साथ'

किसानों को मिलेगा ‘खाद तो खाद बीमा भी साथ’

फर्टिलाइजर बेचने वाली कंपनी इंडियन फार्मर्स फर्टिलाइजर को ऑपरेटिव लिमिटेड (IFFCO) अब किसानों के लिए 1 लाख रुपये का दुर्घटना बीमा स्कीम लाई है.


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    November 16, 2020, 8:05 AM IST

फर्टिलाइजर बेचने वाली सहकारिता संस्था इफको (IFFCO) यानी इंडियन फार्मर्स फर्टिलाइजर को-आपरेटिव लिमिटेड किसानों के लिए दुर्घटना बीमा (Accidental Insurance) स्कीम लेकर के आई है. IFFCO खाद के हर कट्टे पर बीमा कवरेज दे रही है, जिसमें फर्टिलाइजर के प्रत्येक कट्टे पर 4 हजार रुपये का बीमा मिलेगा. किसान अधिकतम 25 कट्टे खरीदकर 1 लाख रुपये का बीमा ले सकता है. कंपनी की इस स्कीम का नाम ‘खाद तो खाद बीमा भी साथ’ (Khad ke Sath Bima) है. इस इंश्योरेंस प्रीमियम का पूरा भुगतान इफको द्वारा किया जाता है. इसके साथ ही बीमा कवरेज के बारे में किसानों को जागरूक भी किया जाता है.

इस तरह मिलता है खाद पर बीमा
गाजियाबाद और गौतमबुद्ध नगर जिले के मुख्य क्षेत्र प्रबंधक बृजवीर सिंह ने बताया कि उर्वरक के एक कट्टे पर 4000 रुपये का इंश्योरेंस मिलता है. एक किसान को अधिककत 25 कट्टों पर यानी 1 लाख रुपये का बीमा कवरेज मिलता है. इस इंश्योरेंस प्रीमियम का पूरा भुगतान इफको द्वारा किया जाता है.

सिंह ने बताया कि उर्वरक के कट्टों पर मिलने वाले दुर्घटना बीमा के तहत एक्सीडेंट में मृत्यु होने पर प्रभावित परिजनों को 1 लाख रुपये का भुगतान किया जाता है. बीमा की यह राशि प्रभावित परिवार के खाते में सीधे ट्रांसफर की जाती है. दुर्घटना में दो अंग क्षतिग्रस्त होने पर 2000 रुपये/कट्टा के हिसाब से अधिकतम 50,000 रुपये बीमा राशि का भुगतान किया जाता है. एक अंग क्षतिग्रस्त होने की दशा में 1000 रुपये प्रति कट्टा के हिसाब से बीमा कवरेज दिया जाता है.ये भी पढ़ें : LIC की इस पॉलिसी में रोजाना लगाएं सिर्फ 63 रुपए, पाएं 7 लाख, जानिए क्या है खास प्लान

इस तरह करना होगा दावा
दुर्घटना बीमा का दावा करने के लिए प्रभावित किसान के पास उर्वरक खरीद की रसीद होनी चाहिए. किसान के पास जितने कट्टों की रसीद होगी, उसी हिसाब से बीमा राशि का भुगतान किया जाएगा. दुर्घटना में किसान की मृत्यु होने पर बीमा का दावा करने के लिए पोस्टमार्टम की रिपोर्ट और पंचनामा होना चाहिए. अंगभंग होने की दशा में एक्सीडेंट की पुलिस रिपोर्ट होनी चाहिए.





Source link

Leave a Comment

Translate »
You cannot copy content of this page