क्रिकेटर महेंद्र सिंह धोनी की तरह आप भी कर सकते हो सबसे महंगे अंडे का बिजनेस, जानिए सबकुछ

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


धोनी कड़कनाथ (Kadaknath) मुर्गी का पालन शुरु कर रहे हैं

धोनी कड़कनाथ (Kadaknath) मुर्गी का पालन शुरु कर रहे हैं

कड़कनाथ प्रजाति की अंडा देने वाली एक मुर्गी की कीमत इस वक्त बाज़ार में 3 से 4 हज़ार रुपये है. अगर आप मुर्गी का चूजा लाकर पालते हैं तो वो 6 से 7 महीने बाद अंडा देने के लायक होता है. लेकिन एक चूजा 400 से 500 रुपये का आता है.


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    November 13, 2020, 5:14 PM IST

नई दिल्ली. इंडियन क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) की एक खास पहचान उनका हेलीकॉप्टर शॉट है. लेकिन इसके साथ ही धोनी लोगों को हैरान करने वाले अपने फैसलों के लिए भी जाने जाते हैं. हाल ही में उन्होंने एक ऐसा ही फैसला लिया है. धोनी कड़कनाथ (Kadaknath) मुर्गी का पालन शुरु कर रहे हैं. इसके लिए उन्होंने 2 हज़ार चूज़ों का ऑर्डर भी दे दिया है. कड़कनाथ मुर्गे का जहां मीट महंगा बिकता है, वहीं देश का सबसे महंगा अंडा (Egg) भी कड़कनाथ का ही है. गौरतलब रहे कि इससे पहले धोनी ने फार्मिंग और डेयरी का कारोबार भी शुरु किया है.

इसलिए कहा जाता है देश का सबसे महंगा अंडा-जानकारों का कहना है कि कड़कनाथ मुर्गी का अंडा सामान्य मुर्गी के मुकाबले ज़्यादा हैल्दी होता है. न्यूज18 हिन्दी इसका दावा नहीं करता, लेकिन कहा जाता है कि कड़कनाथ मुर्गी के अंडे में प्रोटीन ज़्यादा होता है. कम कोलेस्ट्रॉल होने के चलते हॉर्ट पेशेंट भी बड़े आराम से खा लेते हैं. तीसरी अहम बात यह कि हकीम-वैध कड़कनाथ मुर्गी के अंडे समेत इसके मीट में भी कई तरह के औषधीय गुण बताते हैं. फैट कम होने से हृदय और डायबिटीज रोगियों के लिए यह चिकन बहुत ही फायदेमंद माना जाता है. जिसके चलते देखते ही देखते देशभर में कड़कनाथ की डिमांड बढ़ गई है.

यह भी पढ़ें- क्रिकेट से संन्यास के बाद धोनी का नया शौक, अब ‘कड़कनाथ’ का करेंगे कारोबार, 2 हजार चूजों का दिया ऑर्डर

400 से 500 रुपये का आता है एक चूज़ा-कड़कनाथ प्रजाति की अंडा देने वाली एक मुर्गी की कीमत इस वक्त बाज़ार में 3 से 4 हज़ार रुपये है. अगर आप मुर्गी का चूजा लाकर पालते हैं तो वो 6 से 7 महीने बाद अंडा देने के लायक होता है. लेकिन एक चूजा 400 से 500 रुपये का आता है. कोटा, राजस्थान में कड़कनाथ मुर्गा-मुर्गी पालने वाले और उसके अंडों का कारोबार करने वाले हफीज़ भाई का कहना है कि बाज़ार में कड़कनाथ की डिमांड ज़्यादा और सप्लाई कम होने के चलते इसके अंडे और मीट की कोई तय कीमत नहीं है. जिसको जैसे ग्राहक मिल रहा है वो उसी हिसाब से कारोबार कर रहा है.ऐसे करें कड़कनाथ का बिजनेस-अगर आप इस मुर्गे का बिजनेस करना चाहते हैं तो आपको कुछ बातें ध्‍यान में रखनी होगी. अगर आप 100 चिकन रख रहे हैं तो आपको 150 वर्ग फीट की जगह की जरुरत होगी. तो वहीं अगर आपको 1000 काले मुर्गे रखने हैं तो आपको 1500 वर्ग फीट की जगह की जरुरत होगी. मुर्गे का फॉर्म गांव या शहर से बाहर मेन रोड से दूर हो, पानी या बिजली की पर्याप्‍त व्‍यवस्‍था होनी चाहिए. हो सके तो फॉर्म उंचाई पर हो ताकि पानी का जमाव आस-पास न हो.

चूंजों और मुर्गियों को अंधेरे में या रात में खाना नहीं देना चाहिए. मुर्गी के शेड में प्रतिदिन कुछ घंटे प्रकाश की आवश्‍यकता भी होती है. दो पोल्‍ट्री फॉर्म एक-दूसरे के करीब न हों. एक शेड में हमेशा एक ही ब्रीड के चूजे रखने चाहिए. पानी पीने के बर्तन दो-तीन दिन में जरुर साफ करें. फॉर्म में हवा और पर्याप्‍त रोशनी हो.

कड़कनाथ मुर्गे का पोल्‍ट्री फॉर्म खोलने के लिए आपको इंडिया मार्ट पर मौजूद सेलर्स से कांटेक्‍ट कर ये मुर्गे प्राप्‍त कर सकते हैं. इसके अलावा इंटरनेट पर भी कई ऐसे पोल्‍ट्री फॉर्म मिल जाएंगे जो काले मुर्गे के चूजे और अण्‍डे बेचते हैं. अगर आप बड़े स्‍तर पर इस मुर्गे का बिजनेस करना चाहते हैं तो आपको ऐसे पोल्‍ट्री फॉर्म में जा कर जानकारी लेनी चाहिए जो पहले से इनका बिजनेस कर रहे हों.





Source link

Leave a Comment

Translate »
You cannot copy content of this page