सही नाप के जूते न पहनने से हो सकती है फुट कॉर्न की शिकायत

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


जो लोग फिटिंग (Fitting) के जूते नहीं पहनते हैं, जिनके पैरों में पसीना ज्यादा आता है या वो लोग जो दिन में ज्यादातर समय खड़े रहते हैं ऐसे लोगों में फुट कॉर्न (Foot Corn) यानी गोखरू की समस्या हो जाती है. फुट कॉर्न में त्वचा (Skin) की परत मोटी हो जाती है. यह समस्या खासकर पैरों के तलवे में होती है क्योंकि सबसे ज्यादा तलवों में ही घर्षण, रगड़ और दबाव पड़ता है. यह दिखने में अक्सर छोटे, परतदार गोल आकार के होते हैं, जो पैरों की अंगुलियों के ऊपर या तलवे पर होते हैं. हालांकि ये कहीं भी विकसित हो सकते है. फुट कॉर्न पुरुषों की तुलना में महिलाओं में ज्यादा होता है. ये आमतौर पर दुबले-पतले लोगों के पैरों में होता है क्योंकि उनकी त्वचा में चर्बी कम होती है.

डायबिटीज पीड़ितों को ज्यादा जोखिम

myUpchar के अनुसार यदि कॉर्न में ज्यादा सूजन और दर्द हो, तो तुरंत डॉक्टर को दिखाना चाहिए. ऐसे लोगों को भी दिखाना जरूरी है जिनके कॉर्न से खून या मवाद निकल रहा हो या जो लोग डायबिटीज व हृदय संबंधी रोग से पीड़ित हैं, क्योंकि इस स्थिति में संक्रमण होने का जोखिम ज्यादा होता है.ये भी पढ़ें – ये 9 आयुर्वेदिक उपचार सर्दियों में करेंगे फेफड़ों की देखभाल

डॉक्टर केमिकल उत्पादों से बेजान त्वचा, कॉर्न और त्वचा की मोटाई को खत्म करने की कोशिश करते हैं. हालांकि यह उपचार सभी लोगों पर इस्तेमाल नहीं किया जाता है. इसके अलावा वे स्केलपेल ब्लेड की मदद से भी त्वचा की अतिरिक्त मोटाई को निकाल सकते हैं.

अपनाएं ये घरेलू उपाय

myUpchar के अनुसार फुट कॉर्न खतरनाक नहीं होता है लेकिन ये समस्या काफी परेशान कर सकती है. कॉर्न के दर्द और उससे छुटकारा पाने के लिए कुछ घरेलू उपाय अपनाए जा सकते हैं. अरंडी के तेल को कॉर्न पर धीरे-धीरे लगाएं. दिन भर में कम से कम तीन बार इस प्रक्रिया को दोहराएं. यह तेल कॉर्न को मुलायम करने में मदद कर सकती है और धीरे-धीरे कॉर्न की समस्या से निजात मिल सकता है.

सेब का सिरका भी इसके इलाज में काम आता है. यह मृत कोशिकाओं को एक्सफोलिएट करता है और कॉर्न को मुलायम बनाता है. यह प्राकृतिक रूप से एंटीबैक्टीरियल होता है.

गर्म पानी में पैरों को डुबोकर रखें और कुछ मिनट बाद कॉर्न वाले हिस्से पर रूई से सेब के सिरके को लगाएं. रूई को धीरे से कॉर्न पर पांच मिनट दबाकर रखें. सिरके को सूखने दें और फिर कॉर्न पर ‘टी ट्री ऑयल’ लगाएं.

ये भी पढ़ें – Year 2020: कोरोनोवायरस महामारी में बदल गया हमारे जीने का तरीका

हल्दी का इस्तेमाल करें, इसमें एंटीमाइक्रोबियल और ठीक करने के गुण होते हैं जो कॉर्न को दूर कर सकते हैं और त्वचा को मुलायम बनाते हैं. हल्दी और शहद का मोटा पेस्ट बना कर इसे कॉर्न पर लगाएं और सूखने के बाद इसे धो लें. इससे कॉर्न की समस्या दो या तीन बार में गायब हो सकती है.

ऐसे करें रोकथाम

फुट कॉर्न की रोकथाम आसानी से की जा सकती है. सबसे जरूरी है सही नाप के जूते पहनना क्योंकि गलत नाप का जूता फुट कॉर्न की वजह बनता है. ऊंची एड़ियों और नुकीले नोक वाले जूतों को पहनने से बचें. पैरों की अंगुलियों के नाखून यदि बड़े हैं तो यह जूतों के सिरे से मिल जाते हैं, इससे अंगुलियों पर दबाव पड़ता है और समय के साथ कॉर्न की समस्या ट्रिगर होती है. इसलिए नाखूनों को काटना बहुत जरूरी है.

अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, फुट कॉर्न (गोखरू) पढ़ें।

न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है। myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं।





Source link

Leave a Comment

Translate »