How To Make Your Computer Run Faster With These Tips – Lockdown में स्लो Computer को बनाएं सुपर फास्ट, फॉलो करें ये स्टेप


  • Lockdown में घर बैठे कम्प्यूटर या लैपटॉप को बनाएं सुपर फास्ट ( Make Computer Faster )
  • Recycle Bin और डेस्कटॉप को रखें साफ

नई दिल्ली। कोरोनावायरस लोकडाउन ( Coronavirus Lockdown) के चलते सभी लोगों घर से काम करना बेहतर ऑप्शन मान रहे हैं। ऐसे में अगर आापका कम्प्यूटर या लैपटॉप स्लो ( Make Computer Faster ) हो जाए तो परेशान होने लगेंगे और काम भी स्लो हो जाएगा। ऐसे में आज आपको कुछ ऐसी टिप्स देंगे जिसकी मदद से आप घर बैठे अपने स्लो Computer को फास्ट ( Speed Up Computer ) बना सकते हैं और इसके लिए कहीं जाने की भी जरूरत नहीं पड़ेगी।

  • अक्सर ऐसा होता है कि जिस फाइल का इस्तेमाल नहीं करते हैं उसे डिलीट कर देते हैं। ऐसे में डिलीट फाइल सिस्टम के Recycle Bin में चली जाती है। इससे रिसाइकिल बिन भर जाता है। ऐसे में जरुरी है कि रिसाइकिल बिनमें मौजूद सभी फाइलों को डिलीट कर दे। इससे आपका Computer स्लो नहीं होगा।
  • कम्प्यूटर में C ड्राइव सबसे जरूरी ड्राइव होती है। ऐसे में इस ड्राइव में ज्यादा डाटा या फिर कोई भी पर्सनल डाटा न रखें क्योंकि इसमें सभी जरूरी सॉफ्टवेयर्स होते है जिसके बिना आपका सिस्टम चल नहीं पाएगा।
  • Computer को सुरक्षित रखने के लिए अक्सर हम एंटीवायरस का इस्तेमाल करते हैं। ऐसे में जरूरी है कि आप सिर्फ पीसी के हिसाब से रजिस्टर्ड एंटीवायरस का इस्तेमाल ही करें, जिससे की कम्प्यूटर स्लो न हो सके।

Flipstart Days Sale 2020: 1 जून से शुरू हो रही सेल, 70% तक का मिलेगा डिस्काउंट

  • अगर आपका पीसी पुराना हो गयी है तो उसकी स्पीड बढ़ाने के लिए हार्डवेयर को बदलते रहें, क्योंकि पुराने पीसी में पोर्ट्स कई बार जाम हो जाते हैं। वहीं अगर पीसी बार-बार बंद होता है तो उसे सही करने के लिए दुकान पर दे दें। ताकि इस समस्या से आपको परेशान न होना पड़े।
  • इसके अलावा Computer की स्पीड बूस्ट करने के लिए डेस्कटॉप को साफ रखें। डेस्कटॉप पर ज्यादा फाइल्स सेव करने से मेमोरी स्पेस अधिक खर्च होता है। इसके अलावा डेस्कटॉप पर सेव फाइल्स कम्प्यूटर के C ड्राइव का हिस्सा बन जाती है जिससे ज्यादा रैम खर्च होता है। ऐसे में डेस्कटॉप से फाइल्स को डिलीट कर दें ताकि स्पीड बनी रहे।






Show More












Source link

US President Donald Trump To Put Antifa Activist Group On Terror List Amid Protests Across US


Trump To Put Antifa Activist Group On Terror List Amid Protests Across US

Antifa is a secretive grouping of radical activists. (Representational)

Washington:

President Donald Trump said Sunday that the United States would be classifying the loose-knit Antifa movement as a terrorist group after blaming it for some of the recent spasm of violence in US cities. 

“The United States of America will be designating ANTIFA as a Terrorist Organization,” Trump announced on Twitter, with little elaboration.

The president and some of his top advisors have blamed Antifa and groups they call “far-left extremists” for hijacking peaceful protests against police abuses after a black man’s death in Minneapolis.

Nationwide rioting in dozens of cities was sparked by the videotaped death of the unarmed black man, George Floyd, during his arrest Monday.

In a series of tweets, the US president also congratulated national guard troops for restoring order Saturday in Minneapolis after days of unrest.

“The ANTIFA led anarchists, among others, were shut down quickly. Should have been done by Mayor on first night and there would have been no trouble!” Trump tweeted.

He was referring to Jacob Frey, the Democratic mayor of Minneapolis, where a horrifying video of Floyd’s death — after a police officer kneeled on his neck — sparked the nationwide outpouring of rage, as well as protests elsewhere in the world.

Derek Chauvin, the officer who kept his knee on Floyd’s neck even as onlookers pleaded with him, has been fired and charged with third-degree homicide. 

Antifa — the name is a contraction for anti-fascist — is a secretive grouping of radical activists that has emerged in recent years, in part in opposition to racist demonstrations in Charlottesville, Virginia in 2017. 

It is not known to have official leaders. Its members, often dressed entirely in black, protest against racism, far-right values and what they consider fascism, and say violent tactics are sometimes justified as self-defense.  

The group’s loose, diffuse organization would seem to make it a difficult target for the terrorist listing.

Domestic terrorist groups, the FBI says on its website, promote “the unlawful use, or threatened use, of violence … against persons or property to intimidate or coerce a government, the civilian population, or any segment thereof, in furtherance of political or social objectives.”





Source link

Up Board Result 2020: Tips To Crack Indian Railway Written Exam – यूपी बोर्ड परिणाम 2020: विज्ञान विषय के साथ की है 12वीं तो रेलवे की परीक्षा में ले सकते हैं भाग, तैयारी के लिए पढ़ें खबर


एजुकेशन डेस्क, अमर उजाला
Updated Fri, 29 May 2020 04:33 PM IST

यूपी बोर्ड रिजल्ट 2020 इंटरमीडिएट
– फोटो : pexels.com

ख़बर सुनें

2020 UP Board Exam Results Class 12: हाल ही में सूचना मिली है कि बोर्ड का परिणाम जून के अंत तक जारी हो जाएगा। 12वीं के छात्र अपने भविष्य के बारे में विचार कर रहे होंगे। बता दें कि यदि आपने 12वीं विज्ञान विषय से की है तो आप रेलवे की परीक्षा में बैठ सकते हैं। लेकिन उसके लिए बेहतर तैयारी की जरूरत है। इसे क्रैक करने के लिए हर कोई कड़ी मेहनत करता है। पर आपको बता दें कि ये आसान नहीं है तो नामुमकिन भी नहीं। आवेदक कुछ तरीके अपनाकर और सोची समझी रणनीति के तहत तैयारी करके परीक्षा पास कर सकते हैं। पढ़ते हैं आगे…

  • रेलवे की परीक्षा में बैठने से पहले परीक्षा के कार्यक्रम और सिलेबस को अच्छे से समझ लें। सबसे पहले पता लगाएं कि एग्जाम में कैसे सावल पूछे जाते हैं। इसके लिए पुराने परीक्षा के प्रश्न पेपर देखें। इससे आपको भरपूर मात्रा में जानकारी मिलेगी और आपको परीक्षा का नेचर भी अच्छे से समझ आएगा। अगर एक बार आपने पैटर्न को अच्छे से समझ लिया तो काफी कुछ क्लीयर हो जाएगा और आगे की तैयारी की रणनीति बना सकेंगे।
  • पैटर्न समझ लेने के बाद तैयारी की रणनीति बनाएं। इसके लिए जरूरी है नोट्स तैयार करना। नोट्स भी टॉपिक्स के आधार पर बनाएं। जिस विषय में कमजोर हैं, उस पर ज्यादा ध्यान दें। जिसमें मजबूत हैं उस पर ज्यादा ध्यान देने की जरूरत नहीं है। पर इसका मतलब ये नहीं कि आप बिल्कुल ही उसे छोड़ दें। समय समय पर रिवीजन करते रहें। विषयों के मुताबिक बराबर-बराबर समय देंगे तो सभी कवर हो जाएंगे और तैयारी भी अच्छे से पूरी हो जाएगी।
  • तैयारी करने से पहले विषयों से संबंधित किताबों का चयन करें। आप तैयारी करने के लिए रेलवे एग्जाम की किताबों का उपयोग कर सकते हैं। इसके लिए आप अपने सीनियर्स या आस-पास मार्केट से किताबों की व्यवस्था कर लें। इससे आपको पता चल जाएगा कि किस पैटर्न के सवाल पूछे जाते हैं, साथ ही अभ्यास करने के लिए कुछ प्रश्न पत्र भी मिल जाएंगे। जिन्हें रिवाइज कर-करके अच्छी तैयारी कर सकते हैं। इससे अंतिम समय में ज्यादा समय टॉपिक्स को सर्च करने में नहीं जाएगा।
  • रीक्षा की तैयारी के लिए सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है आपका टाइम मैनेजमेंट। किसी भी एग्जाम की तैयारी के लिए टाइम मैनेजमेंट बहुत जरूरी है। बराबर टाइम बांटकर सभी विषयों की तैयारी करें। एक बार पढ़ने बैठ गए तो बीच में ब्रेक भी लें। बीच-बीच में उठते रहें और खुद को फ्रेश करते रहें। कोशिश करें कि एक पेपर हल करके ही उठें। दूसरे पेपर को तुरंत हल न करें। थोड़ा रेस्ट के बाद काम शुरू करें। 
  • किसी भी परीक्षा की तैयारी के लिए संबंधित विषयों से जुड़ा कंटेट होना जरूरी है। अगर आपके पास विषय सामग्री नहीं है तो इसका प्रभाव न केवल आपके अंकों पर पड़ेगा बल्कि आप अच्छे से तैयारी भी नहीं कर पाएंगे। साथ ही आप न ही ज्यादा से ज्यादा जानकारी हासिल कर पाएंगे। अच्छी तैसारी के लिए आपके पास पर्याप्त किताबें और मैटीरियल होना आवश्यक है।

UP Board Result 2020

उम्मीदवार सबसे पहले परिणाम अमर उजाला की MYRESULTPLUS वेबसाइट पर जाकर देख सकेंगे। माइरिजल्टप्लस की ऑफिशियल वेबसाइट https://results.amarujala.com/ है। खुद को अबी पंजीकृत करने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें।
UP Board Result 2020 Class 12 (Intermediate) – Register Here
UP Board Result 2020 Class 10 (High School) – Register Here

2020 UP Board Exam Results Class 12: हाल ही में सूचना मिली है कि बोर्ड का परिणाम जून के अंत तक जारी हो जाएगा। 12वीं के छात्र अपने भविष्य के बारे में विचार कर रहे होंगे। बता दें कि यदि आपने 12वीं विज्ञान विषय से की है तो आप रेलवे की परीक्षा में बैठ सकते हैं। लेकिन उसके लिए बेहतर तैयारी की जरूरत है। इसे क्रैक करने के लिए हर कोई कड़ी मेहनत करता है। पर आपको बता दें कि ये आसान नहीं है तो नामुमकिन भी नहीं। आवेदक कुछ तरीके अपनाकर और सोची समझी रणनीति के तहत तैयारी करके परीक्षा पास कर सकते हैं। पढ़ते हैं आगे…



Source link

Market News In Hindi : RIL launches first AI chatbot to assist shareholders | राइट्स इश्यू के शेयरधारकों की मदद के लिए रिलायंस ने लॉन्च किया चैटबॉट, जारी किया वॉट्सऐप नंबर


  • वॉट्सऐप नंबर 7977111111 पर सवाल का जवाब पा सकते हैं शेयरधारक
  • चैटबॉट पर अक्सर पूछे जाने वाले 75 सवालों के जवाब उपलब्ध हैं

दैनिक भास्कर

May 31, 2020, 04:19 PM IST

नई दिल्ली. रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड (आरआईएल) ने अपने 53,125 करोड़ रुपए के राइट्स इश्यू पर शेयरधारकों के सवालों का जवाब देने के लिए चैटबॉट शुरू किया है। मुकेश अंबानी की कंपनी ने अपनी नई भागीदार फेसबुक के व्हॉट्सएप के जरिए शेयरधारकों को राइट्स इश्यू पर किसी तरह की जानकारी के लिए इसकी शुरुआत की है। मामले से जुड़े सूत्रों ने कहा कि सार्वजनिक निर्गम के लिए पहली बार इस तरह का चैटबॉट पेश किया गया है। इस चैटबॉट को जियो हैपटिक टेक्नोलॉजीज ने विकसित किया है।

अंग्रेजी में जवाब देता है चैटबॉट

कंपनी पहली बार शेयर बाजार के निवेशकों को मदद के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंसी (एआई) का इस्तेमाल कर रही है। सूत्रों ने कहा कि एआई आधारित चैटबॉट 53,125 करोड़ रुपए के राइट्स इश्यू पर शेयरधारकों के सवालों का जवाब देता है। यह किसी भारतीय कंपनी द्वारा लाया गया सबसे बड़ा राइट्स इश्यू है। चैटबॉट द्वारा जवाब अंग्रेजी में दिए जाते हैं। वहीं एफएक्यू यानी बार-बार पूछे जाने वाले सवालों पर वीडियो अंग्रेजी, हिंदी, मराठी, कन्नड़, गुजराती और और बांग्ला में है। कंपनी के शेयरधारकों की संख्या 26 लाख से अधिक है। वहीं देश में व्हॉट्सएप के प्रयोगकर्ताओं की संख्या 40 करोड़ है।

75 सवालों के जवाब फीड किए गए

इस चैटबॉट पर 79771 11111 पर मैसेज भेजकर पहुंचा जा सकता है। सबसे पहले शेयरधारक को इस नंबर को अपने फोन में सेव करना होगा। इसके बाद वॉट्सऐप पर “Hi” लिखकर मैसेज भेजना होगा। इसके बाद चैटबॉट शेयरधारकों के सवालों के जवाब देगा। इस चैटबॉट में शेयरधारकों के सवालों के संबंध में 75 जवाब फीड किए गए हैं। यह जवाब ऐसे सवालों के बारे में हैं जिन्हें शेयरधारकर अक्सर पूछते हैं।  इस बारे में संपर्क करने पर रिलायंस इंडस्ट्रीज के प्रवक्ता ने कोई टिप्पणी करने से इनकार किया। रिलायंस इंडस्ट्रीज का 53,125 करोड़ रुपये का राइट्स इश्यू 20 मई को खुला है। यह तीन जून को बंद होगा।



Source link

Virat Kohli say MS Dhoni played a ‘big role’ in me getting captaincy India vs Pakistan News Updates | कोहली ने कहा- मुझे भारतीय टीम की कप्तानी ऐसे ही अचानक नहीं मिली,  इसमें धोनी की बड़ी भूमिका रही


  • महेंद्र सिंह धोनी ने 2014 में टेस्ट से कप्तानी छोड़ दी थी, इसके बाद विराट कोहली को यह जिम्मेदारी सौंपी गई
  • कोहली ने अश्विन के साथ चैटिंग के दौरान कहा- धोनी ने मुझ पर जो भरोसा जताया था, वह मेरे लिए काफी अहम

दैनिक भास्कर

May 31, 2020, 10:08 PM IST

विराट कोहली ने कहा कि उन्हें भारतीय टीम की कप्तानी दिलाने में महेंद्र सिंह धोनी की बड़ी भूमिका रही है। धोनी की कप्तानी में इंटरनेशनल क्रिकेट करियर की शुरुआत करने वाले कोहली ने कहा कि उन्हें यह जिम्मेदारी अचानक नहीं मिली है। धोनी ने उन पर जो भरोसा जताया है, वह काफी अहम है।

कोहली ने रविचंद्रन अश्विन के साथ इंस्टाग्राम चैटिंग के दौरान यह बातें कहीं। उन्होंने कहा है कि धोनी का उन पर ध्यान देना और रणनीतिक चर्चा करना उनके कप्तान बनने में काफी सहायक रहा है।

‘कभी कप्तान बनने के बारे में नहीं सोचा’

कोहली ने कहा, ‘‘मैंने कभी कप्तान बनने के बारे में नहीं सोचा था। मेरा मानना है कि चयनकर्ताओं ने भी मुझे अचानक से कप्तान नहीं बनाया है। यह जिम्मेदारी देने से पहले उन्होंने धोनी से पूछा होगा। मुझे विश्वास है कि मेरे कप्तान बनने में धोनी की अहम भूमिका रही है।’’

‘अपने आइडिया धोनी से शेयर करता था’
कोहली ने कहा, ‘‘जिस दिन मैं टीम में आया, तभी से बहुत कुछ सीखना चाहता था। मैं चारों तरफ खेल से घिरा रहता था। मैं कई सारे आइडिया धोनी के साथ शेयर करता था। कई बार वे मना कर देते थे, लेकिन जो आइडिया उनको पसंद आता, उस पर वे चर्चा भी करते थे। वे हमेशा मुझे समझने की कोशिश करते थे। मैं हमेशा उनसे सीखता था। मेरी जिज्ञासा के कारण ही शायद उनमें यह विश्वास आया कि टीम का अगला कप्तान मैं हो सकता हूं।’’

‘सचिन के साथ बल्लेबाजी करना यादगार पल रहा’
कोहली ने ढाका में पाकिस्तान के खिलाफ खेली 183 रन की पारी को भी याद किया। उन्होंने कहा, ‘‘उनका (पाकिस्तान) गेंदबाजी आक्रामण काफी दमदार था। साथ ही उनके पास शाहिद अफरीदी, सईद अजमल, उमर गुल, एजाज चीमा और मोहम्मद हफीज भी थे। मुझे याद है कि मैं पाजी (सचिन तेंदुलकर) के साथ बल्लेबाजी करने से खुश था। उन्होंने 50 रन बनाए और हमने 100 रन से ज्यादा की साझेदारी की। यह मेरे लिए यादगार पल रहा। यह पारी मेरे लिए गेम-चेंजर साबित हुई।’’

कोहली पहली बार 2014 में टेस्ट कप्तान बने थे
धोनी ने 2014 ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर टेस्ट से कप्तानी छोड़ दी थी। इसके बाद कोहली को नेतृत्व सौंपा गया था। 2018 में भारत ने ऑस्ट्रेलिया में 2-1 से टेस्ट सीरीज अपने नाम की थी। दोनों देशों के बीच 71 साल के टेस्ट इतिहास में भारत की ऑस्ट्रेलियाई जमीन पर पहली सीरीज जीत थी। कोहली को सीमित ओवरों की कप्तानी जनवरी 2017 में मिली थी।

कोहली सभी फॉर्मेट में भारत के दूसरे सफल कप्तान
कोहली के नेतृत्व में भारतीय टीम अब तक कुल 117 अंतरराष्ट्रीय मैच जीती है। वे देश के दूसरे सफल कप्तान हैं। पहले स्थान पर 178 जीत के साथ धोनी हैं। तीसरे नंबर पर मोहम्मद अजरुद्दीन ने 104 मैच जीते थे। वहीं, सौरव गांगुली 97 जीत के साथ चौथे नंबर पर हैं।



Source link

Want To Make Stale Bread Fresh Again? This Facebook Users Hack Is A Game-Changer


A Facebook user shared an interesting technique to make bread as good as new.

Highlights

  • We have all been witness to our bread going stale
  • Facebook user has a hack to revive the freshness of the bread
  • Try this easy technique to make your bread as fresh as ever

Bread is an absolute staple in any household. There are times when the slices of bread lay in our kitchens unused and often end up going stale. Although there are many ways to use stale bread in certain recipes; what if we told you there is a way to make stale bread fresh again? Yes, there is a hack to revive the freshness of your bread! An Australian mom shared a wonderful hack on Facebook to make the slightly bad tasting bread absolutely good as new.

Facebook group ‘Budget Friendly Meals Australia‘ was where the mother had shared the post. “I’ve been conscious of reducing my waste and the job of using up stale bread rolls has always been a problem,” the mother Judy wrote in the post. Making breadcrumbs out of stale bread is often a suggested technique to use the stale bread, but Judy protested, “There’s only so many breadcrumbs I can keep in the freezer and my kids aren’t a fan of defrosted rolls. My mum told me a trick her mum used to do back in the day, and it really works.”

(Also Read: )

jcu4k1 Bread rolls can taste as good as new with this hack. 

This technique has been around for some time and is not a new one. However, it’s generating a renewed interest thanks to the increased consciousness around food wastage. What it basically involves is giving your breads some form of moisture or hydration first and then reheating them. So, what Judy tried was to keep her stale bread rolls under a tap of water for some time, and then pop them in the oven soon after. “Honestly, it’s like you just bought it from the bakery – so fresh, so yum,” she wrote in her post on Facebook.

Users poured in their reactions to the post, appreciating the hack and thrilled with its results. Some people on Facebook suggested that the hack could also work equally well with a microwave instead of an oven. In fact, the need to run the bread under a tap can also be done away with as a wet paper towel could be used as well. Some users also enquired whether the hack works with normal bread slices; however, that’s something that is yet to be tried and tested!

About Aditi AhujaAditi loves talking to and meeting like-minded foodies (especially the kind who like veg momos). Plus points if you get her bad jokes and sitcom references, or if you recommend a new place to eat at.



Source link

How to Retune DD Free Dish Set Top Box to Watch India TV | डीडी फ्री डिश: इंडिया टीवी देखने के लिए अपने सेट—टॉप बॉक्स को कैसे रिट्यून करें


How to Retune DD Free Dish Set Top Box to Watch India...- India TV Hindi
Image Source : FILE
How to Retune DD Free Dish Set Top Box to Watch India TV

यदि आप एक डीडी फ्री डिश टीवी सब्सक्राइबर हैं और अपना पसंदीदा हिंदी न्यूज चैनल — इंडिया टीवी देखना चाहते हैं, तो हमारे पास आपके लिए आवश्यक जानकारी है! देश का अग्रणी हिंदी न्यूज चैनल, इंडिया टीवी अब भारत की एक मात्र फ्री डायरेक्ट—टू—होम सेवा डीडी फ्री डिश टीवी पर उपलब्ध है। यदि आप डीडी फ्री डिश पर किसी भी कारण से अभी भी इंडिया टीवी न्यूज चैनल नहीं देख पा रहे हैं, तो आपको इंडिया टीवी देखते रहने के लिए सेट—टॉप बॉक्स को रिट्यून या ऑटोस्कैन करना होगा। 

अपने सेट—टॉप बॉक्स को रिट्यून/ऑटोस्कैन करने के लिए इन चरणों का पालन करें: 

  • अपने रिमोट पर ‘मेन्यू’ बटन दबाएं, आपकी टीवी स्क्रीन पर मेन्यू प्रदर्शित होगा। 
  • ‘एडिट प्रोग्राम’ विकल्प को चुनें और फिर ‘ओके’ दबाएं। 
  • इसके बाद, स्क्रीन पर एक नया मेन्यू खुल जाएगा। 
  • ‘डिलीट ऑल प्रोग्राम्स’ विकल्प चुनें और ‘ओके’ पर क्लिक करें। 
  • इसके बाद, सभी पुराने चैनल मिट जाएंगे।
  • अब, नए चैनल प्राप्त करने के लिए ‘मेन्यू’ बटन को दोबारा दबाएं। 
  • एक बार ‘मेन्यू’ बटन को दबाने के बाद, ‘प्रोग्राम सेटअप’ चुनें और ‘ओके’ पर क्लिक करें। 
  • ‘ऑटो स्कैन’ विकल्प को चुनें और ‘ओके’ पर क्लिक करें। 
  • इसके बाद, स्क्रीन पर एक और नया मेन्यू प्रदर्शित होगा। 
  • इसके बाद, ‘दाहिने’ तीर के निशान वाले बटन को चुनें और ‘नीचे’ तीर वाले निशान का प्रयोग करते हुए ‘स्कैन मोड’ विकल्प तक पहुंचें। 
  • ‘फ्री’ विकल्प को ‘ऑल’ से बदलें और ‘ओके’पर क्लिक करें।
  • एक बार जब आप ‘ओके’ पर क्लिक करेंगे, तब आप अपने सेट—टॉप बॉक्स पर ऑटो स्कैन चला पाएंगे। होम स्क्रीन पर आने के लिए एक बार फिर ‘मेन्यू’ पर क्लिक करें।

कोरोना से जंग : Full Coverage

India TV पर देश-विदेश की ताजा Hindi News और स्‍पेशल स्‍टोरी पढ़ते हुए अपने आप को रखिए अप-टू-डेट। Live TV देखने के लिए यहां क्लिक करें। Tips and Tricks News in Hindi के लिए क्लिक करें टेक सेक्‍शन





Source link

At Least 10 Civilians Killed In Third Burkina Faso Attack In 2 Days


At Least 10 Civilians Killed In Third Burkina Faso Attack In 2 Days

Burkina Faso has battled a jihadist insurgency since 2015. (Representational)

Ouagadougou:

Ten people were killed when an aid convoy was ambushed in Burkina Faso, the government said Sunday, bringing to at least 50 the death count from a string of attacks blamed on jihadists.

The ambush occurred on Saturday near the northern town of Barsalogho, it said in a statement, adding that an attack on a livestock market in the east of the country earlier in the day had claimed 25 lives, according to a provisional count.

The humanitarian convoy was returning from the northern town of Foube after delivering food there, the statement said. At least five civilians and five gendarmes were killed and around 20 people were injured.

Saturday’s attacks came a day after a convoy of mainly shopkeepers escorted by a local self-defence unit came under fire in the north of the West African country, killing 15 people. That attack, in Loroum province, was also blamed on jihadists.

The east and north of the former French colony are the hardest hit by attacks by jihadists, who have killed more than 900 people and caused some 860,000 people to flee their homes in the past five years.

A local governor, Colonel Saidou Sanou, said in a statement that the bloodshed underlined the need for the army and locals to work together to “defeat the terrorist hydra”.

Increasingly frequent attacks

Burkina Faso, one of the world’s poorest countries, has battled a jihadist insurgency since 2015.

The conflict has provoked attacks on ethnic Fulani herders whom other communities accuse of supporting the militants.

Burkina Faso’s armed forces are leading counter-terror operations with increasing frequency.

The Sahel country is part of a regional effort to battle an Islamist insurgency along with Mali, Niger, Mauritania and Chad.

But their militaries, under-equipped and poorly trained, are struggling despite help from France, which has 5,000 troops in the region.

Attacks have in fact intensified in Burkina Faso since last year, becoming practically a daily occurrence.

A security source said the country had become a haven for jihadists as a result of former president Blaise Compaore’s role as a mediator, notably to obtain the release of Western hostages.

Compaore was overthrown in 2014.

Numerous foreigners have been kidnapped in Burkina Faso, with six believed held in a Mali camp near the Burkina border.

The wife of one of them, elderly Australian doctor Kenneth Elliot, released a video on Friday appealing for him to be freed.

Unrest in Burkina Faso, Mali and Niger killed around 4,000 people last year, according to UN figures.

(Except for the headline, this story has not been edited by NDTV staff and is published from a syndicated feed.)



Source link

Groundnut Oil Prices Including Mustard Soybean Improved – पिछले सप्ताहांत सरसों, सोयाबीन सहित अधिकांश तेल-तिलहन कीमतों में सुधार


बाजार की मांग बढ़ने से दिल्ली के थोक तेल-तिलहन बाजार में पिछले सप्ताहांत सरसों, सोयाबीन, सीपीओ और पामोलीन सहित अधिकांश तेल-तिलहन कीमतों में सुधार आया। दूसरी ओर पश्चिम बंगाल से तिल की नई फसल की आवक तथा गुजरात में रबी की मूंगफली फसल के बाजार में आने से इन दोनों तेलों की कीमतों में हानि दर्ज हुई।

बाजार सूत्रों ने कहा कि पिछले सप्ताहांत के मुकाबले हालांकि सरसों में सुधार आया है। इसका वायदा भाव एक अप्रैल से 4,425 रुपये कुंतल के भाव से कम चल रहा है। सरकार द्वारा कई राज्यों में न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) पर सरसों की खरीद करने से किसान औने-पौने दाम पर अपनी फसल को नहीं बेच रहे हैं और मंडी में अपनी कम उपज ला रहे हैं जो सरसों कीमतों में सुधार का प्रमुख कारण है।

सूत्रों ने कहा कि अगर सरकार ने वायदा कारोबार में किसानों के देशी तेल के भाव तोड़ने वाले सटोरियों पर अंकुश लगा दिया और किसानों की ज्यादा से ज्यादा फसल की एमएसपी पर खरीद जारी रखी तो किसान काफी उत्साहित होंगे और देश को तिलहन उत्पादन में आत्मनिर्भर बनाने में अधिक वक्त नहीं लगेगा।

उन्होंने कहा कि देश में सोयाबीन तेल की काफी मात्रा में आवक होने की उम्मीद है। ऐसे में देशी सोयाबीन किसानों के हित को ध्यान में रखकर सरकार को सोयाबीन, सूरजमुखी, रैपसीड जैसे तेलों पर आयात शुल्क यथा संभव बढ़ा देना चाहिये। इससे सरकारी खजाने में धन भी आयेगा और देशी तिलहन उत्पादकों के हितों की रक्षा भी होगी।

समीक्षाधीन सप्ताहांत में, सरसों दाना (तिलहन फसल), सरसों दादरी, सरसों पक्की और कच्ची घानी तेलों की कीमतों में सुधार देखने को मिला। सरसों दाना (तिलहन फसल), सरसों दादरी की कीमतें क्रमश: 25 रुपये और 720 रुपये के सुधार के साथ क्रमश: 4,500-4,550 रुपये और 9,870 रुपये प्रति कुंतल पर बंद हुईं, जबकि सरसों पक्की घानी और सरसों कच्ची घानी की कीमतें 45-45 रुपये के सुधार के साथ क्रमश: 1,535-1,680 रुपये और 1,605-1,725 रुपये प्रति टिन पर बंद हुईं।

समीक्षाधीन सप्ताह के दौरान बाजार में गुजरात की रबी मूंगफली की आवक बढ़ने से मूंगफली दाना सहित उसके तेलों की कीमतों में गिरावट का रुख कायम हो गया। मूंगफली दाना और मूंगफली गुजरात के भाव क्रमश: 45 रुपये और 500 रुपये घटकर क्रमश: 4,845-4,895 रुपये और 13,000 रुपये प्रति कुंतल पर बंद हुए। जबकि मूंगफली सॉल्वेंट रिफाइंड का भाव भी 10 रुपये की हानि के साथ 1,980-2,030 रुपये प्रति टिन पर बंद हुआ।

मांग न होने के बावजूद वनस्पति घी का भाव 50 रुपये के सुधार के साथ 995-1,100 रुपये प्रति 15 किग्रा पर बंद हुआ जबकि पश्चिम बंगाल से नई फसल की आवक के कारण तिल मिल डिलिवरी का भाव 400 रुपये की हानि दर्शाते 10,000-13,100 रुपये प्रति कुंतल पर बंद हुआ।

शिकागो एक्सचेंज में सुधार और स्थानीय मांग के कारण सोयाबीन दिल्ली, सोयाबीन इंदौर और सोयाबीन डीगम की कीमतें क्रमश: 150 रुपये, 100 रुपये और 120 रुपये का सुधार दर्शाती क्रमश: 8,650 रुपये, 8,550 रुपये और 7,470 रुपये प्रति कुंतल पर बंद हुईं। सोयाबीन की बिजाई का समय नजदीक आ रहा है और सटोरियों ने वायदा कारोबार में इसका भाव नीचे चला रखे हैं।



Source link

Sakshi Rawat Angry At News Of Mahendra Singh Dhoni’s Retirement – Mahendra Singh Dhoni के संन्यास की खबर पर भड़कीं Sakshi, बोलीं- धोनी को है क्रिकेट से प्यार

Mahendra Singh Dhoni के संन्यास की खबर पर भड़कीं Sakshi, बोलीं- धोनी को है क्रिकेट से प्यार


Sakshi ने Mahendra Singh Dhoni को लेकर अफवाह उड़ाने वालों की खबर लेते हुए कहा है कि लॉकडाउन में लोग मानसिक असंतुलन के शिकार हो गए हैं।

चेन्नई : कोरोना वायरस (Coronavirus) के कारण देश में लगे लॉकडाउन में महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) अपनी पत्नी साक्षी (Sakshi Rawat) और बेटी जीवा (Ziva) के साथ रांची स्थिति अपने फॉर्महाउस में समय बिता रहे हैं। वह टीम इंडिया के सफलतम कप्तानों में से एक हैं। पूरे लॉकडाउन के दौरान वह सोशल मीडिया से दूर रहे और इस बीच सोशल मीडिया पर उनके संन्यास की खबरें #DhoniRetire के साथ खूब चर्चा में रही। इस पर महेंद्र सिंह धोनी की पत्नी साक्षी रावत ने धोनी की आईपीएल (IPL) फ्रेंचाइजी चेन्नई सुपर किंग्स (CSK) से इंस्टाग्राम पर लाइव चैट में कहा कि इस लॉकडाउन में जब धोनी की सोशल मीडिया पर मौजूदगी नहीं है, तब पता नहीं उनके संन्यास की खबरें कहां से आती है। साक्षी इस पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि उन्हें इस बारे में पता नहीं है।

ट्विटर पर की थी कड़ी टिप्पणी

जब महेंद्र सिंह धोनी के संन्यास की अफवाहें सोशल मीडिया पर उड़ी तो साक्षी ने इन खबरों को पूरी तरह से भ्रामक बताया और अपने ट्विटर अकाउंट पर कड़े शब्दों में लिखा- ‘यह सिर्फ अफवाहें हैं। इसके आगे उन्होंने लिखा कि वह समझती हैं कि लॉकडाउन में लोग मानसिक तौर पर असंतुलित हो गए हैं। #DhoniRetire… कुछ तो करो। हालांकि इसके कुछ ही देर बार साक्षी ने अपना यह ट्वीट हटा लिया था।

साक्षी ने कहा, धोनी क्रिकेट को लेकर हैं भावुक

इस मौके पर पूर्व भारतीय कप्तान की पत्नी ने रविवार को कहा कि क्रिकेट को लेकर धोनी हमेशा भावुक रहते हैं और यह उनका प्यार है। धोनी ने 2018 में चेन्नई सुपर किंग्स को तीसरी बार आईपीएल का खिताब जिताया था। साक्षी की मानें तो धोनी तब भी भावुक हो गए थे। इसके अलावा साक्षी ने धोनी के वीडियो गेम के प्रति प्यार के बारे में भी बताया। उन्होंने कहा कि वीडियो गेम उनके लिए तनाव खत्म करने का हथियार है। साक्षी ने कहा कि धोनी का दिमाग हमेशा सोचता रहता है और वह आराम नहीं करता है।

दौरे पर खुला रखते हैं दरवाजा

साक्षी ने एक और रहस्योदघाटन करते हुए कहा कि धोनी जब भी दौरे पर जाते हैं तब वह हमेशा अपना दरवाजा खुला रखते हैं। जब भी वे चाहें तो खिलाड़ियों से बात करते हैं। उन्होंने कहा कि 2010 के बाद जब से वह शादी कर आईं हैं, तब से देख रही हैं। वह हमेशा दरवाजा खुला रखते हैं लोग आते हैं और हम सुबह में तीन चार बजे तक बात करते रहते हैं। साक्षी ने कहा कि माही जब भी क्रिकेट के बारे में बात करते हैं, वह दूर चली जाती हैं।

लॉकडाउन के बाद पहाड़ पर जाने की है योजना

साक्षी रावत ने कहा कि लॉकडाउन के बाद वह और माही पहाड़ों पर जाने की योजना बना रहे हैं। साक्षी ने कहा कि अगर क्रिकेट शुरू हो जाता है तो फिर क्रिकेट ही होगा। लेकिन फिलहाल उन्होंने और माही ने पहाड़ों पर जाने की योजना बनाई है। हम उत्तराखंड जाने की योजना बना रहे हैं और एक छोटे से गांव में रहेंगे। साक्षी ने बताया कि हम सड़क के रास्ते वहां जाएंगे। कोई फ्लाइट नहीं होगी।

विश्व कप के बाद से नहीं खेले हैं धोनी

बता दें कि महेंद्र सिंह धोनी पिछले साल जुलाई के बाद से क्रिकेट मैदान में खेलने नहीं उतरे हैं। वह आखिरी बार आईसीसी एकदिवसीय क्रिकेट विश्व कप (ICC ODI Cricket World Cup) के सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ खेलने के लिए उतरे थे। वह 29 मार्च से होने वाले आईपीएल के 13वें संस्करण में उतरने वाले थे, लेकिन कोरोना वायरस के कारण यह अनिश्चित काल के लिए स्थगित हो गया है।














Source link

Healthy life News In Hindi : China Coronavirus | Ayurvedic Treatment Of China Coronavirus; Know What is Coronavirus and How to Manage It with Ayurveda | तुलसी, नीम और गिलोय की पत्तियों का रस इम्युनिटी बढ़ाकर घटाएगा संक्रमण, आयुर्वेद के 5 नुस्खे जो इंफेक्शन से बचाएंगे


  • वायरस के संक्रमण से बचने के लिए इम्युनिटी पावर अधिक होना जरूरी
  • आयुर्वेद में इम्युनिटी बढ़ाने के लिए कालीमिर्च पाउडर और नीम-पपीते के पत्तों का रस दिया जाता है

दैनिक भास्कर

Jan 24, 2020, 08:34 PM IST

हेल्थ डेस्क. चीन से फैल रहे कोरोनावायरस की आशंका के चलते भारत के मुंबई, दिल्ली, कोलकाता समेत देश के 7 एयरपोर्ट पर चीन से आने वाले यात्रियों की स्वास्थ्य जांच की जा रही है। यह वायरस पहले नहीं देखा गया था, यह तेजी से अपना रूप बदल लेता है। चीन में कोरोनावायरस से प्रभावित 830 लोगों की पहचान हो चुकी है। 20 प्रांतों में 1072 लोगों के इसी वायरस से प्रभावित होने की आशंका है। गुरुवार तक इससे मरने वालों की संख्या 26 पहुंच गई है। भारत में एहतियात के तौर पर जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं। 

आयुर्वेद के मुताबिक, संक्रमण के बचने के लिए सबसे जरूरी है शरीर की इम्युनिटी यानी रोगों से लड़ने की क्षमता का बढ़ना। इम्युनिटी कम होने का एक बड़ा कारण है कब्ज। आयुर्वेद और नेचुरोपैथ विशेषज्ञ डॉ. किरण गुप्ता के मुताबिक, कुछ घरेलू नुस्खों से इम्युनिटी बढ़ाकर संक्रमण का खतरा कम किया जा सकता है। जानिए वायरस इंफेक्शन को कैसे समझें और कैसे निपटें….

कब अलर्ट हों : तेज बुखार, गले में सूजन और सांस लेने में तकलीफ होने पर

https://www.bhaskar.com/

कई दिनों तक तेज बुखार, नाक बहना, आंखे लाल रहना, सिरदर्द, खांसी, गले में सूजन के कारण दर्द और सांस लेने में दिक्कत हो रही है तो अलर्ट होने की जरूरत है। संक्रमण के कुछ मामलों में स्किन पर चकत्ते भी पड़ सकते हैं। ऐसे कोई भी लक्षण दिखने पर डॉक्टरी सलाह जरूर लें क्योंकि संक्रमण में शरीर का तापमान जितना ज्यादा बढ़ता है स्थिति उतनी ही बेकाबू होती है। इसलिए जल्द इलाज ही बेहतर विकल्प है। 

क्या करें-क्या न करें : उबला हुआ पानी ज्यादा पीएं, खानें में तरल पदार्थ ही लें

https://www.bhaskar.com/
  • संक्रमण की स्थिति में पानी पीना बिल्कुल न छोड़ें। पानी उबालकर ठंडा करें और पीएं।
  • मरीज हैं तो घर से बाहर निकलने से बचें ताकि वायरस के संक्रमण को फैलने से रोका जा सके।
  • मामले सामने आने पर मास्कर का प्रयोग करें। छींक आने की स्थिति में मुंह पर रुमाल लगाएं।
  • तीमारदार मरीज से सीधे संपर्क में आने से बचें, खासतौर पर उसकी चीजों को इस्तेमाल करने से बचें।

आयुर्वेद के 5 कारगर नुस्खे जो संक्रमण को बेअसर करते हैं

https://www.bhaskar.com/
  • तुलसी, नीम और गिलोय की पत्तियों को पीसकर रस बनाएं। इसे दिन में तीन बार आधा कप लें।
  • काली-मिर्च के पाउडर को देसी-घी में भूनें। इसके मिश्री के साथ खाएं। 
  • एक लीटर पानी में कुटी हुई सौंठ, तुलसी की पत्तियां, गिलोय का गूदा, चिरायता, नीम और पपीते के पत्तों को डालकर उबालें। एक चौथाई रह जाने पर हटा लें। इसे दिन में 3 बार हल्का गर्म करके पीएं। 
  • एक मुट्ठी तुलसी के पत्तों और एक चम्मच लौंग पाउडर को एक लीटर पानी में उबाल कर रख लें। इस पानी को हर 2 घंटे के अंतराल पर लें।
  • खांसी-जुकाम अधिक होने पर खांसी अधिक आने पर कालीमिर्च पाउडर, सेंधा नमक और शहद को मिलाकर ले सकते हैं। या छोटी पिप्पली पाउडर को शहद के साथ खाना भी बेहतर विकल्प है।
  • पपीते और केले के पत्ते व एलोवीरा को पीसकर रस बना लें। इसे दिन में तीन बार आधा-आधा कप लें। 

संक्रमण की स्थिति बने ही न इसके लिए च्यवनप्राश खाएं
आयुर्वेद विशेषज्ञों के मुताबिक सर्दियों के मौसम में इम्युनिटी घटती है और संक्रमण होने का खतरा ज्यादा रहता है। इसके लिए रोजाना गाय के दूध के साथ च्यवनप्राश खाने की सलाह दी जाती है। या आंवला, एलोवेरा या फिर वीटग्रास का जूस पीना फायदेमंद साबित होता है। आयुर्वेद के मुताबिक, च्यवनप्राश का जिक्र च्यवन संहिता में है जिसको च्यवन ऋषि ने रचा था। यह सेहत को सुरक्षाकवच देता है। यह वात-पित्त-कफ के दोष को दूर करता है। आयुर्वेद विशेषज्ञों के मुताबिक, च्यवनप्राश तैयार करने में कई तरह की जड़ी-बूटियों का इस्तेमाल होता है जो रोगों से लड़ने की क्षमता को बढ़ाने के साथ, याद्दाश्त तेज करने और तनाव को दूर करने का भी काम करती हैं। 



Source link

SpaceX astronaut riding Dragon arrives at space station | स्पेसएक्स का अंतरिक्षयान ड्रैगन 19 घंटे बाद इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन प​हुंचा


केप केनवरल: रॉकेट और अंतरिक्षयान का निर्माण करने वाली निजी कंपनी स्पेसएक्स ने अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा के लिए अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन में दो अंतरिक्ष यात्रियों को सफलतापूर्वक पहुंचाया है. अंतरिक्ष यान ने फ्लोरिडा के कैनेडी स्पेस सेंटर से उड़ान भरी थी.

एलन मस्क की कंपनी स्पेसएक्स ने नासा के अंतरिक्ष यात्रियों बॉब बेनकेन(49) और डॉ हर्ले (53) के अंतरिक्ष की प्रयोगशाला अंतरराष्ट्रीय अंतरिक्ष स्टेशन पर पहुंचने की पुष्टि की.

कंपनी ने ट्वीट किया,‘डॉकिंग की पुष्टि, ड्रैगन के सदस्य अंतरिक्ष स्टेशन पर पहुंचे.’

नासा ने ट्वीट किया,‘डॉकिंग की पुष्टि अंतरिक्ष यात्री बेनकेन और अंतरिक्ष यात्री डॉ अंतरिक्ष स्टेशन पर सुबह 10:16 बजे पहुंचे.’

स्पेसएक्स के रॉकेट फाल्कन 9 ने फ्लोरिडा के कैनेडी स्पेस सेंटर से उड़ान भरी थी और उड़ान भरने के 19 घंटे बाद अंतरिक्षयान निर्दिष्ट स्थान पर पहुंचा. रविवार दोपहर को हुए लॉन्च को देखने के लिए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ,प्रथम महिला मेलानिया ट्रंप और हजारों की संख्या में लोग इकट्ठा हुए थे.

ट्रंप ने मस्क, नासा और अंतरिक्ष यात्रियों को बधाई दी और इस दिन को देश के लिए बेहतरीन दिन करार दिया. ट्रंप ने कहा कि उन्होंने मस्क से बात की है. वहीं मस्क ने कहा कि यह उनके लिए और स्पेसएक्स के सभी लोगों के लिए किसी सपने के साकार होने जैसा है.

(इनपुट: भाषा)





Source link

US Secretary Of State Mike Pompeo Says,China Using Tactical Situation On Ground To Its Advantage


China Using Tactical Situation On Ground To Its Advantage: Mike Pompeo

Chinese Community Party of 2020 is a different one than it was 10 years ago, Pompeo said. (File)

Washington:

China is using a tactical situation on the ground to its advantage and it has been making threats, like the one that is happening on its border with India, for a long time, US Secretary of State Mike Pompeo said on Sunday.

Pompeo, responding to a question on the aggressive Chinese behaviour on the Sino-India border and the South China Sea during an interview with Fox News, said that the threat posed by China is real.

“The Chinese Communist Party has been on this effort, on this march, for an awfully long time. They’ll certainly use a tactical situation on the ground to their advantage. But each of the problems that you identified there are threats that they have been making for an awfully long time,” he said.

Threats like the one that is happening on its border with India, they have been making for an awfully long time, the Secretary of State said.

With respect to the Chinese Communist Party’s military advances, they are real, Pompeo said.

“General Secretary Xi (Jinping) is intent on building out his military capabilities. Our Department of Defence is doing everything it can to make sure it understands this threat,” he said.

“I am confident that under President (Donald) Trump, our Department of Defence, our military, our national security establishment will keep us in a position where we can protect the American people, and indeed we can be good partners with our allies from India, from Australia, from South Korea, from Japan, from Brazil, from Europe, all around the world.

“We can be good partners alongside them and ensure that the next century remains a Western one modeled on the freedoms that we have here in the United States,” he said.

Currently there are more than 60 bills in Congress, a majority of whom are bipartisan, against China, Pompeo said.

“This is something that I think people all across the political spectrum understand is a real risk. I don’t know which of those will make it to the President’s desk. Last week there was one that had to do with the Uighurs in China.

“I would encourage the members of Congress to continue to study this issue, to work to help this administration do the things it needs to do to prevent the Chinese Communist Party from its advances and to keep the American people safe. I know that they will. It’s bipartisan,” said the top American diplomat.

The Chinese Community Party of 2020 is a different one than it was 10 years ago, he said.

“This is a Chinese Communist Party that has come to view itself as intent upon the destruction of Western ideas, Western democracies, Western values. It puts Americans at risk.

“The list is long, whether it’s stealing American intellectual property, destroying hundreds and millions of jobs here in the US, or their efforts to put at risk sea lanes in the South China Sea, denying commercial traffic the opportunity to move through, armed encampments in places that China has no right to be,” Pompeo said.

The list of actions from the Chinese Communist Party is long, he said.

“For the first time we have a President of the United States who is prepared to push back against that and protect the American people, he said.

“They (the Chinese Communist Party) have become more aggressive in their efforts to do disinformation campaigns like we saw when the coronavirus was moving around the world, when they closed down their own province but allowed travel around the world, infecting hundreds of thousands of people. We saw the disinformation of that campaign trying to deflect attention,” he alleged.



Source link

Bjp leader Nitin Gadkari Launched ‘good Governance’ Certificate E-course – नितिन गडकरी ने गुड गवर्नेंस पर लॉन्च किया नया सर्टिफिकेट ई-कोर्स, जानें क्या है खास


एजुकेशन डेस्क, अमर उजाला
Updated Sun, 31 May 2020 01:15 PM IST

ख़बर सुनें

केंद्रीय मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता नितिन गडकरी ने शनिवार को ‘अंडरस्टैंडिंग गुड गवर्नेंस’ पर एक सर्टिफिकेट ई-कोर्स लॉन्च किया है। इसके लिए गडकरी ने हाल ही में एक बयान जारी किया है। जारी हुए बयान के अनुसार, यह  ‘अंडरस्टैंडिंग गुड गवर्नेंस’ पर सर्टिफिकेट ई-कोर्स पब्लिक पॉलिसी रिसर्च सेंटर और राम भाऊ म्हालगी सेंटर द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित किया गया है। इस कोर्स में इंटरएक्टिव सत्र होंगे जो हफ्ते में पांच दिन चलेंगे।

गडकरी ने कहा कि इस कोर्स के माध्यम से छात्रों को नीतियों और परिवर्तन को लागू करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले “annals of good governance” की खोज में मदद मिलेगी। साथ ही उन्होंने मोदी सरकार की प्रशंसा करते हुए कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार का दूसरा कार्यकाल ऐतिहासिक फैसलों, साहसिक पहल और राजनीतिक धैर्य का वर्ष रहा है। इसके अलावा उन्होंने बताया कि सरकार ने भारत को ऐतिहासिक गलतियों से दूर करने और प्रगतिशील रास्ते पर स्थापित करने में मदद भी की है। 

सार्वजनिक नीति अनुसंधान केंद्र के निदेशक और भाजपा सांसद विनय सहस्रबुद्धे ने भी इस कोर्स के बारे में कहा कि पाठ्यक्रम को गवर्नेंस की सभी प्रमुख विशेषताओं को ध्यान में रखकर बनाया गया है।

ये भी पढ़ें- NCERT: पहली से नौवीं और ग्यारहवीं के छात्र-छात्राओं के लिए फ्री ई-बुक, ऐसे करें डाउनलोड

केंद्रीय मंत्री और भाजपा के वरिष्ठ नेता नितिन गडकरी ने शनिवार को ‘अंडरस्टैंडिंग गुड गवर्नेंस’ पर एक सर्टिफिकेट ई-कोर्स लॉन्च किया है। इसके लिए गडकरी ने हाल ही में एक बयान जारी किया है। जारी हुए बयान के अनुसार, यह  ‘अंडरस्टैंडिंग गुड गवर्नेंस’ पर सर्टिफिकेट ई-कोर्स पब्लिक पॉलिसी रिसर्च सेंटर और राम भाऊ म्हालगी सेंटर द्वारा संयुक्त रूप से आयोजित किया गया है। इस कोर्स में इंटरएक्टिव सत्र होंगे जो हफ्ते में पांच दिन चलेंगे।

गडकरी ने कहा कि इस कोर्स के माध्यम से छात्रों को नीतियों और परिवर्तन को लागू करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले “annals of good governance” की खोज में मदद मिलेगी। साथ ही उन्होंने मोदी सरकार की प्रशंसा करते हुए कहा कि नरेंद्र मोदी सरकार का दूसरा कार्यकाल ऐतिहासिक फैसलों, साहसिक पहल और राजनीतिक धैर्य का वर्ष रहा है। इसके अलावा उन्होंने बताया कि सरकार ने भारत को ऐतिहासिक गलतियों से दूर करने और प्रगतिशील रास्ते पर स्थापित करने में मदद भी की है। 

सार्वजनिक नीति अनुसंधान केंद्र के निदेशक और भाजपा सांसद विनय सहस्रबुद्धे ने भी इस कोर्स के बारे में कहा कि पाठ्यक्रम को गवर्नेंस की सभी प्रमुख विशेषताओं को ध्यान में रखकर बनाया गया है।

ये भी पढ़ें- NCERT: पहली से नौवीं और ग्यारहवीं के छात्र-छात्राओं के लिए फ्री ई-बुक, ऐसे करें डाउनलोड



Source link

Consumer News In Hindi : ITR ; Income Tax ; Income tax department has issued new ITR forms with many changes, returns have to be filled by 30 November | इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने कई बदलावों के साथ जारी किए नए ITR फॉर्म, 30 नवंबर तक भरना है रिटर्न


  • आयकर विभाग ने वित्त वर्ष 2019-20 के लिए 7 तरह के ITR फॉर्म जारी किए हैं
  • आयकर विभाग ने ट्वीट के जरिए इसकी जानकारी दी है

दैनिक भास्कर

May 31, 2020, 05:42 PM IST

नई दिल्ली. आयकर विभाग ने वित्त वर्ष 2019-20 के लिए आयकर रिटर्न फॉर्म (ITR फॉर्म) जारी कर दिए हैं। इसके लिए सरकार ने अधिसूचना भी जारी कर दी है। वित्त वर्ष 2019-20 के लिए ITR फॉर्म भरने की आखिरी तारीख 30 नवंबर है। विभाग ने इस बार 7 तरह के अलग-अलग फॉर्म जारी किए हैं। इनमें आईटीआर-1 (सहज), आईटीआर-2, आईटीआर-3, आईटीआर-4(सुगम), आईटीआर-5, आईटीआर-6 , आईटीआर-7 और आईटीआर-V (वेरिफिकेशन) फॉर्म शामिल हैं। इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने पहले कोविड-19 महामारी के कारण टैक्स नियमों में किए गए बदलाव को शामिल करने के लिए फॉर्म 1 और फॉर्म 4 को वापस लिया था।

इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने किया ट्वीट 
इनकम टैक्स डिपार्टमेंट ने ट्वीट करके नए फॉर्म्स के बारे में जानकारी दी है। टैक्सपेयर्स के पास प्रत्येक आईटीआर फॉर्म में 30 जून को समाप्त तिमाही के दौरान किए गए खर्च या निवेश की डिटेल देने के लिए अलग से जगह दी जाएगी।

किसे और कौन सा ITR फार्म भरना होगा?

  • ITR 1 फॉर्म: इस फॉर्म को 50 लाख रुपए तक की आय वाले नागरिक भर सकते हैं। इसमें सैलरी, एक घर और ब्याज से आय शामिल है।
  • ITR 2 फॉर्म: ITR 2 फॉर्म इंडिविजुअल और एचयूएफ भर सकते हैं, जिनको कारोबार या प्रोफेशन के मुनाफे से कोई आमदनी नहीं होती है।
  • ITR 3 फॉर्म: इस फॉर्म को ऐसे इंडिविजुअल या एचयूएफ भरते हैं जिनको कारोबार या प्रोफेशन से आय है।
  • ITR 4 फॉर्म: सुगम फॉर्म उन लोगों के लिए है जिनकी कारोबार या पेशे से सालाना आय 50 लाख रुपए तक हो। ऐसे व्यक्ति जो किसी कंपनी में निदेशक हैं या गैर-सूचीबद्ध इक्विटी शेयरों में निवेश करते हैं, उन्हें आईटीआर फाइल करने के लिए इस फॉर्म का उपयोग करने से रोक दिया जाता है।
  • ITR 5 फॉर्म: यह इंडिविजुअल, एचयूएफ, कंपनी और ITR-7 फॉर्म भरने वालों के अतिरिक्त अन्य टैक्स पेयर्स के लिए है।
  • ITR 6 फॉर्म: यह धारा 11 के तहत छूट का दावा करने वाली कंपनियों के अलावा अन्य कंपनियों के लिए है।
  • ITR 7 फॉर्म: ऐसी कंपनियों और लोगों के लिए जिन्हें सेक्शन 139(4A) या 139(4B) या 139(4C) या 139(4D) के तहत रिटर्न भरने की जरूरत है। 

ITR फॉर्म्स में हुए ये बदलाव

  • अगर घरेलू कंपनियों से लाभांश के रूप में टैक्सेबल इनकम है, तो आप ITR-1 फॉर्म दाखिल करने के योग्य नहीं हैं।
  • हाउस प्रॉपर्टी के संयुक्त स्वामित्व वाले लोग ITR-1 या ITR-4 दाखिल नहीं कर सकते हैं। 
  • टैक्सपेयर्स को सभी आईटीआर फॉर्म में करंट अकाउंट्स, विदेश यात्रा और बिजली बिलों में जमा से संबंधित निम्नलिखित सवालों के जवाब देने की जरूरत है-

1. क्या आपने 1 पिछले वर्ष के दौरान एक या एक से अधिक चालू खाते में 1 रुपए करोड़ रुपये से अधिक की राशि जमा की है?
2. क्या आपने विदेश यात्रा पर अपने या किसी अन्य व्यक्ति के लिए 2 लाख रुपए से ज्यादा खर्च किए हैं?
3. क्या आपने पिछले साल बिजली खपत पर 1 लाख रुपए से ज्यादा खर्च किए हैं?

  • 30 जून 2020 तक सेक्शन 80C के तहत (LIC, PPF, NSC), 80D (मेडिक्लेम) और 80G (डोनेशन) निवेश की अनुमति दी है। इसकी जानकारी देनी होगी।
  • नए ITR फॉर्म में टैक्स डिडक्शन का दावा करने के लिए अप्रैल और जून के बीच किए गए इन सभी निवेशों और भुगतानों का विवरण है।





Source link

पंड्या की जिंदगी में आने वाला है नन्‍हा मेहमान, कोहली ने दिया ऐसा रिएक्‍शन virat-kohli-react on hardik-pandya-announces-natasa-stankovic-pregnancy | cricket – News in Hindi


हार्दिक पंड्या की जिंदगी में आने वाला है नन्‍हा मेहमान, खबर सुनते ही कोहली ने दिया ऐसा रिएक्‍शन

विराट कोहली ने हार्दिक पंड्या और नताशा को बधाई दी है (फाइल फोटो)

हार्दिक पंड्या (Hardik Pandya) ने रविवार को ऐलान किया कि वो जल्‍द ही पिता बनने वाले हैं.

नई दिल्‍ली. भारत के स्‍टार ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या (Hardik Pandya) जल्‍द ही पिता बनने वाले हैं. इस खबर ने उनके फैंस को हैरान कर दिया है. हालांकि इसके साथ ही बधाइयों की लाइन लग गई. भारतीय कप्‍तान विराट कोहली (Virat Kohli) सहित पूरी टीम इंडिया (Team India) ने हार्दिक पंड्या और नताशा को बधाई दी. कोहली ने कहा- दोनों को बधाई.

hardik pandya, virat kohli, cricket, sports news, natasa stankovic, हार्दिक पंड्या, नताशा, विराट कोहली, मोहम्‍मद शमी, क्रिकेट, स्‍पोर्ट्स न्‍यूज

आपके वंश के तीसरे सदस्‍य को काफी प्‍यार. युजवेंद्र चहल, भारतीय टीम के कोच रवि शास्‍त्री, मोहम्‍मद शमी, मुनाफ पटेल, मयंक अग्रवाल, शुभमन गिल, खलील अहमद, काइरन पोलार्ड, शिखर धवन आदि क्रिकेटर्स ने पंड्या को बधाई दी.

hardik pandya, virat kohli, cricket, sports news, natasa stankovic, हार्दिक पंड्या, नताशा, विराट कोहली, मोहम्‍मद शमी, क्रिकेट, स्‍पोर्ट्स न्‍यूजहार्दिक पंड्या ने नताशा के बेबी बंप के साथ एक तस्‍वीर और शेयर की, जिसे देखकर माना जा रहा है कि उन्‍होंने नताशा से शादी कर ली है. हालांकि तस्वीर को शेयर करते हुए इस बात का जिक्र नहीं किया गया कि क्‍या दोनों ने शादी  कर ली है या नहीं. फोटो में हार्दिक और नताशा गले में माला पहने नजर आ रहे हैं. कोरोना वायरस के कारण लगे लॉकडाउन में हार्दिक नताशा के साथ घर में समय बिता रहे हैं. इस दौरान नताशा ने कई बार रोमांटिक तस्‍वीर शेयर की.

खास अंदाज में किया था प्रपोज
हार्दिक ने नए साल पर खास अंदाज में नताशा को प्रपोज किया था. उन्‍होंने घुटने के बल बैठकर रिंग के साथ नताशा को प्रपोज किया था. जवाब में नताशा ने भी उन्हें अपना हमसफर बनाने के लिए हामी भरी. दोनों लंबे समय से एक दूसरे को डेट कर रहे थे. पिछले साल दोनों को कई बार एक साथ स्पॉट किया गया था, मगर दोनों ने अपने रिश्ते को सार्वजनिक रूप से स्वीकार नहीं किया था. लेकिन नए साल पर पंड्या ने अपने फैंस को यह खुशखबरी देकर जरूर चौका दिया. बॉलीवुड एक्ट्रेस और डांसर 27 साल की नताशा मूल रूप से सर्बिया की रहने वाली हैं. नताशा नच बलिए टीवी शो में भी नजर आ चुकी हैं, जहां पंड्या ने उनके लिए वोट की अपील की थी.

पिता बनने वाले हैं हार्दिक पंड्या, सोशल मीडिया पर शेयर की खुशखबरी

भूखे बच्चों को खाना खिला रहे हैं फाफ डु प्लेसी, साथी खिलाड़ियों ने की जमकर तारीफ

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए क्रिकेट से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: May 31, 2020, 11:07 PM IST





Source link

Lockdown: जिम बंद होने से हैं परेशान? घर बैठे इस तरह करें वेट ट्रेनिंग | in lockdown you can do weight training at home by these tips bgys | tips-and-tricks – News in Hindi


Lockdown: जिम बंद होने से हैं परेशान? घर बैठे इस तरह करें वेट ट्रेनिंग

लॉकडाउन में आप घर पर ही इस तरह से वेट ट्रेनिंग कर सकते हैं

लॉकडाउन (Lockdown): वेट ट्रेनिंग भी नहीं हो पा रही है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि आप घर बैठे बिना डंबल के ही वेट ट्रेनिंग कर सकते हैं.

लॉकडाउन (Lockdown) की वजह से बहुत से लोगों की जिंदगी मानो थम सी गई हैं वहीं कुछ लोग ऐसे हैं जिन्होंने ऐसे जुगाड़ खोज निकाले हैं कि उनका जीवन बैलेंस में चल रहा है. फिटनेस फ्रीक ज़्यादातर लोग जिम बंद होने से परेशान हैं. डंबल से की जाने वाली वेट ट्रेनिंग भी नहीं हो पा रही है. लेकिन क्या आप जानते हैं कि आप घर बैठे बिना डंबल के ही वेट ट्रेनिंग कर सकते हैं. हिंदुस्तान ई पेपर ने ऐसे ही वेट ट्रेनिंग के कुछ तरीकों के बारे में जानकारी दी है…

वेट ट्रेनिंग के लिए ऐसे बनाएं बैग:
वेट ट्रेनिंग के लिए दो अलग-अलग बैग आलू या प्याज भार लें. अब इस बैग के हैंडल को पकड़कर कुर्सी पर बैठ जाएं. बॉडी पोस्चर को सीधा रखें और धीरे-धीरे आगे की तरफ झुकें. इस पोजीशन में हथेलियां दोनों पैरों की जांघ पर होंगी. हथेलियों को ऊपर की ओर रखकर अब थैले को थोड़ी देर तक पकड़ें.

मजबूती से करें हैंडल:इस बात का ख्याल रखें कि जब दोनों हाथों से बैग पकड़ा हो तो हैंडल पर आपकी पकड़ मजबूत हो. हाथों को बैग के वेट के साथ नीचे लेते जाएं. आहिस्ता-आहिस्ता हाथ को दोबारा ऊपर की तरफ लेकर जाएं और कुछ देर तक इसी पोजीशन में रहें.

दोबारा से खुद को शुरूआती मुद्रा में लायें, शरीर की मुद्रा स्थिर रहे. इसे तीन सेट में तीस-तीस सेकंड के अंतराल के बाद करें.

सीढ़ियों का भी करें ऐसे इस्तेमाल:
घर की सीढ़ियों का इस्तेमाल भी आप अपनी बॉडी की टोनिंग के लिए कर सकते हैं, आलू-प्याज वाले दोनों बैग को अपने हाथों में पकड़ लें और अपने दाएं पैर को सीढ़ी पर रखें. उसके बाद बाया पैर भी सीढ़ी पर लाएं. इस दौरान आपके हाथ बैग का भार कसकर पकड़े रहेंगे और तने रहेंगे व शरीर का ऊपरी हिस्सा स्थिर रहेगा. अब धीरे-धीरे पहले दायां पैर पीछे से ही सीढ़ी से नीचे रखें और फिर बायां पैर नीचे लाएं.

वेट ट्रेनिंग से बर्न करें कैलोरी:

वैज्ञानिक अध्ययन बताते हैं कि अगर 68 किलो का कोई व्यक्ति एक घंटे तक डंबल वेट ट्रेनिंग करता है तो उसके शरीर से 200 से 400 कैलोरी ऊर्जा बर्न होती है. वेट ट्रेनिंग कई तरीके से होती है और इसके अनेक फायदे हैं.

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए टिप्स एंड ट्रिक्स से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.


First published: April 20, 2020, 8:05 AM IST





Source link

Indian Government Bans Wetransfer Website For Security Reasons Know About It – केंद्र सरकार ने फाइल-शेयरिंग साइट Wetransfer पर लगाया बैन, जानें वजह


ख़बर सुनें

भारत सरकार के टेलीकम्युनिकशन विभाग ने लोकप्रिय फाइल-शेयरिंग वेबसाइट वीट्रांसफर पर बैन लगा दिया है। इस बात की जानकारी मुबंई मिरर की रिपोर्ट से मिली है। रिपोर्ट के मुताबिक, वीट्रांसफर को बंद करने की वजह सार्वजानिक हित और राष्ट्रीय सुरक्षा को बताया गया है। साथ ही सरकार का मानना है कि देश के हित के लिए यह कदम उठाया गया है। 

मुंबई मिरर की रिपोर्ट के अनुसार, टेलीकॉम विभाग ने 18 मई को ही देशभर के सभी इंटरनेट सेवा प्रदाता कंपनियों को नोटिस जारी कर वीट्रांसफर को बैन करने का आदेश दिया था। हालांकि, वीट्रांसफर की साइट अभी भी एयरटेल के नेटवर्क पर आसानी से खुल रही है।

इसे भी पढ़ें: Vodafone का शानदार रिचार्ज प्लान हुआ लॉन्च, मिलेगा 50GB डाटा

क्या है WeTransfer 
वीट्रांसफर एक मैसेंजर सेवा है, जिसके जरिए यूजर्स आसानी से किसी को भी 2 जीबी तक की फाइल भेज सकते हैं। वहीं, लॉकडाउन के दौरान वीट्रांसफर का इस्तेमाल तेजी से बढ़ा है।  

WeTransfer ऐसे करता है काम
फाइल भेजने के लिए यूजर्स को सबसे पहले साइट पर जाकर लॉगइन करना होता है। इसके बाद भेजने वाली फाइल अटैच करना होती है। अटैच करने के बाद जिस यूजर को पास फाइल भेजनी है, उसका ई-मेल डालना पड़ता है। इतना करने के बाद फाइल आसानी से ट्रांसफर हो जाती है।

सार

  • फाइल-शेयरिंग साइट WeTransfer पर लगा बैन
  • सार्वजानिक हित और राष्ट्रीय सुरक्षा को बताया कारण

विस्तार

भारत सरकार के टेलीकम्युनिकशन विभाग ने लोकप्रिय फाइल-शेयरिंग वेबसाइट वीट्रांसफर पर बैन लगा दिया है। इस बात की जानकारी मुबंई मिरर की रिपोर्ट से मिली है। रिपोर्ट के मुताबिक, वीट्रांसफर को बंद करने की वजह सार्वजानिक हित और राष्ट्रीय सुरक्षा को बताया गया है। साथ ही सरकार का मानना है कि देश के हित के लिए यह कदम उठाया गया है। 

मुंबई मिरर की रिपोर्ट के अनुसार, टेलीकॉम विभाग ने 18 मई को ही देशभर के सभी इंटरनेट सेवा प्रदाता कंपनियों को नोटिस जारी कर वीट्रांसफर को बैन करने का आदेश दिया था। हालांकि, वीट्रांसफर की साइट अभी भी एयरटेल के नेटवर्क पर आसानी से खुल रही है।

इसे भी पढ़ें: Vodafone का शानदार रिचार्ज प्लान हुआ लॉन्च, मिलेगा 50GB डाटा

क्या है WeTransfer 
वीट्रांसफर एक मैसेंजर सेवा है, जिसके जरिए यूजर्स आसानी से किसी को भी 2 जीबी तक की फाइल भेज सकते हैं। वहीं, लॉकडाउन के दौरान वीट्रांसफर का इस्तेमाल तेजी से बढ़ा है।  

WeTransfer ऐसे करता है काम
फाइल भेजने के लिए यूजर्स को सबसे पहले साइट पर जाकर लॉगइन करना होता है। इसके बाद भेजने वाली फाइल अटैच करना होती है। अटैच करने के बाद जिस यूजर को पास फाइल भेजनी है, उसका ई-मेल डालना पड़ता है। इतना करने के बाद फाइल आसानी से ट्रांसफर हो जाती है।



Source link

Coronavirus: US Sends 2 Million Doses Of Anti-Malaria Drug To Brazil: White House


US Sends 2 Million Doses Of Anti-Malaria Drug To Brazil: White House

The drug has not yet been proven effective against the coronavirus. (File)

Washington:

The United States has delivered two million doses of the antimalarial drug hydroxychloroquine (HCQ) to Brazil to fight COVID-19, the White House said Sunday, though the drug has not yet been proven effective against the coronavirus.

“HCQ will be used as a prophylactic to help defend Brazil’s nurses, doctors, and healthcare professionals against the virus. It will also be used as a therapeutic to treat Brazilians who become infected,” a statement said.

(Except for the headline, this story has not been edited by NDTV staff and is published from a syndicated feed.)



Source link

Investors Getting Attracted Towards Stock Mrket Due To Digitization – निवेश के मंत्र 34: निवेशकों के लिए स्टॉक मार्केट आकर्षक बना रहा है डिजिटाइजेशन, रिटर्न में सुधार


डिजिटाइजेशन से निवेशकों को हो रहा फायदा
– फोटो : अमर उजाला–रोहित झा

ख़बर सुनें

कम उम्र में ट्रेडिंग शुरू करना एक महत्वपूर्ण कदम है, क्योंकि यह वित्तीय अनुशासन लाता है और पर्याप्त बचत के साथ भविष्य की अनिश्चितताओं का सामना करने के लिए तैयार करता है। इस क्षेत्र में बढ़ता डिजिटाइजेशन ज्यादा से ज्यादा मिलेनियल्स निवेशकों को स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग की दुनिया में एक गहरा गोता लगाने को आकर्षित कर रहा है और इस वजह से बड़ी संख्या में युवा स्टॉक मार्केट में निवेश कर रहे हैं।

एंजेल ब्रोकिंग लिमिटेड के चीफ ऑपरेशन ऑफिसर श्री नीलेश गोकराल के अनुसार, डिजिटाइजेशन के नेतृत्व में दुनिया में बड़े पैमाने पर अगली तकनीकी क्रांति दिख रही है। पहले स्टॉक ब्रोकर और ट्रेडर फ्लोर पर मिलते थे और लेन-देन होते थे। लेकिन अब यह सारी व्यवस्था डिजिटल पर शिफ्ट हो गई है। स्टॉक ब्रॉकर्स का पहले बाजार पर एकाधिकार था और उनकी अंतर्दृष्टि और सिफारिशें निवेशकों के लिए जानकारी का एकमात्र स्रोत थीं, डॉट-कॉम क्रांति से महत्वपूर्ण बदलाव आया है। ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के आने से सूचनाएं सभी के लिए सस्ती और सुलभ हो गई हैं। इस वजह से ट्रेडिंग अब भौतिक उपस्थिति तक सीमित नहीं रहा, बल्कि डिजिटल माध्यमों के जरिए सुलभ होता गया। स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग के लिए मोबाइल एप की बढ़ती संख्या के कारण अब एक बार फिर बड़े पैमाने पर शिफ्ट हो रहा है। ऑनलाइन प्लेटफॉर्म और मोबाइल एप्स ने मिलकर ट्रेडर्स को समृद्ध जानकारी तक पहुंच दी और त्वरित निर्णय लेने में सक्षम बनाया है।

इसके लिए ट्रेडिंग का अधिकतम लाभ हासिल करने में डिजिटाइजेशन की भूमिका को परिभाषित किया गया है।

ट्रेडिंग की दुनिया में प्रवेश बाधाओं को दूर करना
ज्ञान की कमी के कारण लंबे समय तक लोगों में शेयर बाजार में निवेश करने को लेकर हिचकिचाहट थी। उन्हें पारंपरिक दृष्टिकोण का ही पता था जिसमें उन्हें शेयर खरीदने या बेचने के लिए स्टॉक ब्रोकर के पीछे जाना पड़ता था। इस प्रयास में भारी-भरकम ब्रोकरेज फीस और अन्य छिपी लागत भी हावी थी। हालांकि, सरकार और नियामकों की डिजिटल पहल के आधार पर ई-केवाईसी जैसी ऑनलाइन ट्रेडिंग और घटनाक्रम के साथ, यूजर्स को अब ट्रेडिंग शुरू करने के लिए लाइन में इंतजार नहीं करना पड़ता। दलालों को अब मोबाइल एप के जरिये संपर्क किया जा सकता है और उसके जरिये ट्रेडिंग और निवेश की सुविधा भी उपलब्ध है। इसके अलावा, चूंकि, अब कागजी कार्रवाई और रखरखाव की लागत भी कम हुई है, कई ब्रोकरेज फर्म जीरो फी ट्रेड शुरू करने या दूसरों पर मामूली फ्लैट फीस लगाकर उपभोक्ताओं को डिजिटाइजेशन का लाभ दे रहे हैं।

महत्वपूर्ण जानकारी तक त्वरित पहुंच
ट्रेडिंग में सूचना सबसे ज्यादा महत्वपूर्ण है और शेयर बाजारों के कारोबार में डिजिटाइजेशन के नेतृत्व में इसी ने बड़े स्तर पर क्रांति लाई है। मोबाइल एप्स कई लिहाज से मददगार हैं। निवेशकों को बेहद अस्थिर क्षेत्र में नेविगेट करने में मदद करते हैं। ऑनलाइन ट्रेडिंग के दौरान रियलटाइम में महत्वपूर्ण जानकारी तक पहुंच हासिल करने में मदद करते हैं। टीवी पर बिजनेस चैनल से चिपके रहने या बिजनेस की अखबरें और मैगजीन से चिपके रहने की आवश्यकता नहीं है और लोगों को अब मोबाइल होने की छूट मिल गई है और उन्हें ऑनलाइन ट्रेडिंग एप्स और प्लेटफार्म से रियलटाइम नोटिफिकेशन और अपडेट्स मिलते रहते हैं। डिजिटल साधनों के जरिये ट्रेडिंग यूजर्स को कभी भी, कहीं भी, रियलटाइम में शेयर की कीमतों पर नजर रखने की अनुमति मिलती है। यह सही निवेश निर्णय लेने में मदद करता है क्योंकि हर मिनट या सेकंड शेयर बाजार में बेहद महत्वपूर्ण हैं।

वैश्विक बाजारों को मजबूत करना
पारदर्शी और कुशल ट्रेडिंग पॉलिसी के साथ इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म पर मिलने वाली गति, सुविधा और सहजता निवेशकों के एक पूरे नए सेग्मेंट के लिए बाजार खोलती है। इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग ने दुनियाभर के विभिन्न शेयर बाजारों के ट्रेडिंग में व्यापक बदलाव लाया है क्योंकि इसने दुनियाभर के अलग-अलग बाजारों में व्यक्तियों को सीधे ट्रेडिंग करने में सक्षम बनाया है। इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग का सबसे बड़ा लाभ वैश्विक शेयर बाजारों को कंसोलिडेट करना है। इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग ने ऐसे लिंक बनाए हैं जो दुनिया भर में लिक्विडिटी के विभिन्न स्रोतों को मिलाते हैं जो इस कंसोलिडेशन में योगदान करते हैं।

कम उम्र में ट्रेडिंग शुरू करना एक महत्वपूर्ण कदम है, क्योंकि यह वित्तीय अनुशासन लाता है और पर्याप्त बचत के साथ भविष्य की अनिश्चितताओं का सामना करने के लिए तैयार करता है। इस क्षेत्र में बढ़ता डिजिटाइजेशन ज्यादा से ज्यादा मिलेनियल्स निवेशकों को स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग की दुनिया में एक गहरा गोता लगाने को आकर्षित कर रहा है और इस वजह से बड़ी संख्या में युवा स्टॉक मार्केट में निवेश कर रहे हैं।

एंजेल ब्रोकिंग लिमिटेड के चीफ ऑपरेशन ऑफिसर श्री नीलेश गोकराल के अनुसार, डिजिटाइजेशन के नेतृत्व में दुनिया में बड़े पैमाने पर अगली तकनीकी क्रांति दिख रही है। पहले स्टॉक ब्रोकर और ट्रेडर फ्लोर पर मिलते थे और लेन-देन होते थे। लेकिन अब यह सारी व्यवस्था डिजिटल पर शिफ्ट हो गई है। स्टॉक ब्रॉकर्स का पहले बाजार पर एकाधिकार था और उनकी अंतर्दृष्टि और सिफारिशें निवेशकों के लिए जानकारी का एकमात्र स्रोत थीं, डॉट-कॉम क्रांति से महत्वपूर्ण बदलाव आया है। ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के आने से सूचनाएं सभी के लिए सस्ती और सुलभ हो गई हैं। इस वजह से ट्रेडिंग अब भौतिक उपस्थिति तक सीमित नहीं रहा, बल्कि डिजिटल माध्यमों के जरिए सुलभ होता गया। स्टॉक मार्केट ट्रेडिंग के लिए मोबाइल एप की बढ़ती संख्या के कारण अब एक बार फिर बड़े पैमाने पर शिफ्ट हो रहा है। ऑनलाइन प्लेटफॉर्म और मोबाइल एप्स ने मिलकर ट्रेडर्स को समृद्ध जानकारी तक पहुंच दी और त्वरित निर्णय लेने में सक्षम बनाया है।

इसके लिए ट्रेडिंग का अधिकतम लाभ हासिल करने में डिजिटाइजेशन की भूमिका को परिभाषित किया गया है।



Source link

Translate »
You cannot copy content of this page