B.tech in Civil Engineering From Sgt University Become World Class Engineer  – Sgt University से b.tech in civil Engineering करके बन सकते हैं वल्ड क्लास इंजीनियर 

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर


कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

वर्तमान समय में सिविल इंजीनियरिंग के फील्ड में सफल करियर की भरपूर सम्भावनाएं हैं। जो स्टूडेंट इस क्षेत्र में अपना भविष्य बनाना चाहते हैं उनके लिए एसजीटीयूनिवर्सिटी से सिविल इंजीनियरिंग में बी टेक  करना बहुत ही लाभदायक सिद्ध हो सकता है। एसजीटी यूनिवर्सिटी का इंजीनियरिंग एवं प्रौद्योगिकी संकाय अत्याधुनिक तकनीक व संसाधनों से सुसज्जित है। जहां विश्व स्तरीय शिक्षक अपनी सेवाएं देते हैं। 

एसजीटी विश्वविद्यालय के सिविल इंजीनियरिंग विभाग कीस्थापना वर्ष2010 में इंजीनियरिंग एवं प्रौद्योगिकी संकाय के अंर्तगत हुई।यह विभाग तकनीकि रूप से सक्षम वल्ड क्लास इंजीनियर्स के निर्माण करने हेतु प्रतिबद्ध है।एसजीटी विश्वविद्यालय के सिविल इंजीनियर, भारत में सिविल इंजीनियरिंग की विभिन्न परियोजनाओं के क्रियान्वयन में महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं।यह विभाग नवीनतम प्रगति के साथ तालमेल बनाये रखने के लिए शोधएवं प्रयोगशालाओं द्वारा पठन-पाठन के अत्याधुनिक तरिकों का पालन करता है। यह विभाग वर्तमान विश्व की प्रतिस्पर्धा और उत्कृष्टता के लिए नवोदित सिविल इंजीनियरों में इंडस्ट्रीयल स्किल विकसित करने पर विशेष ध्यान देता है।इसने अपने शैक्षणिक कार्यक्रमों को इंडस्ट्री के नामचीन पेशेवरों के सहयोग से बनाया है।  

 

एसजीटी का सिविल इंजीनियरिंग विभाग क्यों है खास 

सिविल इंजीनियरिंग के पाठ्यक्रम को वर्तमानइंडस्ट्री की जरूरतों के अनुसार विशेषज्ञों द्वारा तैयार किया गयाहै। यहां के अधिकतम शिक्षक एकअच्छी अकादमिक व शोध की पृष्ठभूमि के साथ-साथ देश के प्रसिद्ध संस्थानों जैसे- आईआईटी और एनआईटी से जुड़े रहे हैं।यहां प्रवेश के लिए राष्ट्रीय प्रवेश परीक्षा जैसे जेईई (मेन्स) मान्य होती है। यहां छात्रों के समग्र विकास के लिए BIM,MX Road, Staad Pro जैसे विभिन्न सॉफ्टवेयर लैब उपलब्ध हैं। यहां पर नियमित अंतराल पर इंडस्ट्रीयल एवं सरकारी क्षेत्र के ट्रीप्स् आयोजितहोते रहते हैं। यहां छात्रों केसरकारी क्षेत्र में प्लेसमेंट के लिए GATE की विशेष कक्षाएं संचालितहोती हैं। एसजीटी यूनिर्वसिटी छात्र-केंद्रित शैक्षणिक दृष्टिकोणों के लिए समर्पित हैं। छात्रों को परियोजनाओं पर काम करने के ढ़ेरों अवसर दिए जाते हैं जो सैद्धांतिक ज्ञान को व्यावहारिक प्रयोग में लाने के लिए एक मंच प्रदान करते हैं। 

यह सभी आधुनिक सुविधाओं से लैस है जिसमें अत्याधुनिक कंप्यूटर लैब और WIFIसक्षम कैम्पस शामिल हैं। पुस्तकालय में न केवल पाठ्य पुस्तकों, संदर्भ पुस्तकों और वैज्ञानिक पत्रिकाओं के नवीनतम संग्रह है, बल्कि बेहतरीन ई-लर्निंग टूल्स भी मौजूद हैं। इसके अतिरिक्त इसका ‘बुक-बैंक सिस्टम’ एक बहुत ही अनूठी विशेषता है, जो छात्रों को पूरे सेमेस्टर के लिए एक बार विषय पाठ्य पुस्तकों को उधार लेने की अनुमति देता है। ऊपर वर्णित सुविधाओं के अलावा स्टूडेंट्स छात्रावास, मेस सेवाओं, चिकित्सा सेवाओं, खेल परिसर, केंद्रीय पुस्तकालय, परिवहन सेवा जैसी सुविधाओं का भी लाभ उठा सकते हैं। 

B. Tech(Civil Engineering) करने की न्यूनतम योग्यताएं 

Civil Engineering  में B. Tech करने के लिए अभ्यर्थी को 10+2 में मैथ और फिजीक्स (अनिवार्य विषय)  के साथ-साथ बायोलॉजी/बायोटेक्नोलॉजी/केमेस्ट्री/कंम्प्यूटर साइंस में से किसी एक विषय से न्यूनतम 45% मार्क्स् के साथ उत्तीर्ण होना चाहिए। 

लैब/प्रयोगशालाएँ 

यहां छात्रों के प्रैक्टिकल शिक्षा के लिए निम्नलिखित 10 लैब/प्रयोगशालाएँ हैं 

  1. Engineering Geology 

  1. Strength of Materials 

  1. Fluid Mechanics 

  1. Geo-technical Engineering 

  1. Auto-CAD Lab 

  1. Surveying 

  1. Concrete Technology 

  1. Structural Engineering 

  1. Transportation Engineering 

  1. Environmental Engineering 

 

सिविल इंजीनियरिंग में बी टेककरने के बाद क्या हैं करियर की सम्भावनाएं 

सिविल इंजीनियरिंग स्नातकों के लिए वर्तमान समय मेंनिम्न क्षेत्रों में अवसर भरपूर अवसरउपलब्ध हैं: 

सिविल इंजीनियरिंग स्नातकों के लिए सरकारी संगठनों जैसे- एयरवेज, राजमार्ग, रेलवे, DMRC, NMRC, GAIL, NTPC, RES, ONGC, EIL और IOCL  के साथ-साथ निजी क्षेत्रों के MNCs जैसे-ESSAR, GMR, L & T, HCC, CCCL, TCE, TECHNIP, SHAPOORJI PALLONJI  आदि में भरपूर करियर सम्भावनाएं उपलब्ध हैं। 

 

क्या होगी जॉब प्रोफाइल 

सिविल इंजीनियरिंग के ग्रेड्यूएट्स निम्नलिखित जॉब प्रोफाइल के अंर्तगत अपना करियर बना सकते हैं- 

1. निर्माण इंजीनियर(Construction Engineer) 

2. भू-तकनीकी इंजीनियर(Geo-technical Engineer) 

3. स्ट्रक्चरल इंजीनियर(Structural Engineer) 

4. परिवहन इंजीनियर(Transportation Engineer) 

5. सर्वेयर(Surveyor) 

 

प्लेसमेंट एवं इंटर्नशिप 

यहां का कॉर्पोरेट रिसोर्स सेंटर (सीआरसी) सभी प्रशिक्षण और प्लेसमेंट से संबंधित गतिविधियों का ख्याल रखता है। छात्रों के कॉर्पोरेट रूझान का ध्यान रखते हुए विशेष क्रेडिट पाठ्यक्रम विकसित किए गए हैं जिसमें सॉफ्ट स्किल डेवेलपमेंट और व्यक्तित्व विकास के सेसन शामिल हैं। जिसमें संचार कौशल, साक्षात्कार कौशल और ग्रुप डिस्कसन स्किल को विकसित करने पर विशेष ध्यान दिया जाता है क्योंकि ये आज के पेशेवरों की मूलभूत आवश्यकताएं हैं। इंटर्नशिप सहायता कार्यक्रमों, प्री-प्लेसमेंट कार्यशालाओं, इंडस्ट्रीयल यात्राओं के दौरान छात्रों को विशेषज्ञों द्वारा सफलता के गुरूमंत्र दिए जाते हैं। 

 

एसजीटी यूनिवर्सिटी का प्रमुख उद्देश्य छात्रों को जिज्ञासु, रचनात्मक व आत्मविश्वासी बनाना है ताकि वो एक अलग मुकाम हासिल कर सकें। यहां पर प्रदान की गई शिक्षा के कारण आज हमारे छात्र विश्व में एक अलग पहचान बनाए हुए हैं। 

पात्रता मानदंड, प्रवेश प्रक्रिया आदि की अधिक  जानकारी के लिए आप हमारी आधिकारिक  वेबसाइट https://sgtuniversity.ac.in/ पर जा सकते हैं या मेल, फोन एवं सोशल मीडिया  प्लेटफॉर्म  के माध्यम से हमसे संपर्क कर सकते हैं। 

(ADVERTORIAL)

विस्तार

वर्तमान समय में सिविल इंजीनियरिंग के फील्ड में सफल करियर की भरपूर सम्भावनाएं हैं। जो स्टूडेंट इस क्षेत्र में अपना भविष्य बनाना चाहते हैं उनके लिए एसजीटीयूनिवर्सिटी से सिविल इंजीनियरिंग में बी टेक  करना बहुत ही लाभदायक सिद्ध हो सकता है। एसजीटी यूनिवर्सिटी का इंजीनियरिंग एवं प्रौद्योगिकी संकाय अत्याधुनिक तकनीक व संसाधनों से सुसज्जित है। जहां विश्व स्तरीय शिक्षक अपनी सेवाएं देते हैं। 

एसजीटी विश्वविद्यालय के सिविल इंजीनियरिंग विभाग कीस्थापना वर्ष2010 में इंजीनियरिंग एवं प्रौद्योगिकी संकाय के अंर्तगत हुई।यह विभाग तकनीकि रूप से सक्षम वल्ड क्लास इंजीनियर्स के निर्माण करने हेतु प्रतिबद्ध है।एसजीटी विश्वविद्यालय के सिविल इंजीनियर, भारत में सिविल इंजीनियरिंग की विभिन्न परियोजनाओं के क्रियान्वयन में महत्वपूर्ण योगदान दे रहे हैं।यह विभाग नवीनतम प्रगति के साथ तालमेल बनाये रखने के लिए शोधएवं प्रयोगशालाओं द्वारा पठन-पाठन के अत्याधुनिक तरिकों का पालन करता है। यह विभाग वर्तमान विश्व की प्रतिस्पर्धा और उत्कृष्टता के लिए नवोदित सिविल इंजीनियरों में इंडस्ट्रीयल स्किल विकसित करने पर विशेष ध्यान देता है।इसने अपने शैक्षणिक कार्यक्रमों को इंडस्ट्री के नामचीन पेशेवरों के सहयोग से बनाया है।  

 



Source link

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

Translate »
You cannot copy content of this page