Bjp Rajya Sabha Mp Harnath Singh Says That China Should Understand That This Is New India Not Of 1962 – चीन को समझना चाहिए कि यह नेहरू का नहीं नरेंद्र मोदी का भारत है: भाजपा सांसद

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Sun, 06 Sep 2020 10:55 PM IST

भाजपा सांसद हरनाथ सिंह यादव
– फोटो : सोशल मीडिया (फाइल)



पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹365 & To get 20% off, use code: 20OFF

ख़बर सुनें

राज्यसभा में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद हरनाथ सिंह यादव ने रविवार को रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के चीनी रक्षामंत्री जनरल वेई फेंगहे के साथ बैठक के बाद दिए बयान का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि यह 1962 का भारत नहीं, बल्कि 2020 का भारत है। यह एक नया भारत है। यह मोदी का भारत है, एक मजबूत भारत है। चीनी रक्षामंत्री के साथ शुक्रवार को बैठक के दौरान सिंह ने कहा था कि भारत अपने पड़ोसी को एक इंच जमीन नहीं देगा। 

शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की बैठक के मौके पर मॉस्को में चीनी रक्षामंत्री को नसीहत देते हुए सिंह ने कहा था कि द्विपक्षीय समझौतों और प्रोटोकॉल के अनुसार शांति के लिए आक्रामक रवैया ठीक नहीं है। मतभेदों को दूर करने के लिए भरोसा जरूरी है। इनमें सीमा विवाद और पैंगोंग झील भी शामिल है। एक-दूसरे के प्रति विश्वास, गैर-आक्रामकता और संवेदनशीलता एससीओ क्षेत्र की शांति, स्थिरता और सुरक्षा के लिए जरूरी है। 

यादव ने कहा कि चीन को यह समझना चाहिए कि यह 1962 का भारत नहीं; बल्कि 2020 का भारत है। यह नेहरू का भारत नहीं है; बल्कि नरेंद्र मोदी का भारत है। चीन, भारत से जिस जबान में बात करेगा, उससे अधिक आक्रामकता के साथ भारत उसे जवाब देगा। यादव ने रक्षामंत्री की प्रशंसा करते हुए कहा कि रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने मॉस्को में चीनी रक्षामंत्री के साथ बैठक में स्पष्ट रूप से संदेश दिया है कि हम एक इंच भूमि भी नहीं हड़पने देंगे। हम ईंट का जवाब पत्थर से देंगे।

राज्यसभा में भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के सांसद हरनाथ सिंह यादव ने रविवार को रक्षामंत्री राजनाथ सिंह के चीनी रक्षामंत्री जनरल वेई फेंगहे के साथ बैठक के बाद दिए बयान का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि यह 1962 का भारत नहीं, बल्कि 2020 का भारत है। यह एक नया भारत है। यह मोदी का भारत है, एक मजबूत भारत है। चीनी रक्षामंत्री के साथ शुक्रवार को बैठक के दौरान सिंह ने कहा था कि भारत अपने पड़ोसी को एक इंच जमीन नहीं देगा। 

शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) की बैठक के मौके पर मॉस्को में चीनी रक्षामंत्री को नसीहत देते हुए सिंह ने कहा था कि द्विपक्षीय समझौतों और प्रोटोकॉल के अनुसार शांति के लिए आक्रामक रवैया ठीक नहीं है। मतभेदों को दूर करने के लिए भरोसा जरूरी है। इनमें सीमा विवाद और पैंगोंग झील भी शामिल है। एक-दूसरे के प्रति विश्वास, गैर-आक्रामकता और संवेदनशीलता एससीओ क्षेत्र की शांति, स्थिरता और सुरक्षा के लिए जरूरी है। 

यादव ने कहा कि चीन को यह समझना चाहिए कि यह 1962 का भारत नहीं; बल्कि 2020 का भारत है। यह नेहरू का भारत नहीं है; बल्कि नरेंद्र मोदी का भारत है। चीन, भारत से जिस जबान में बात करेगा, उससे अधिक आक्रामकता के साथ भारत उसे जवाब देगा। यादव ने रक्षामंत्री की प्रशंसा करते हुए कहा कि रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने मॉस्को में चीनी रक्षामंत्री के साथ बैठक में स्पष्ट रूप से संदेश दिया है कि हम एक इंच भूमि भी नहीं हड़पने देंगे। हम ईंट का जवाब पत्थर से देंगे।



Source link

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

Translate »
You cannot copy content of this page