Bru Rehabilitation Matter Police Firing On Protesters In Tripura Many Injured – ब्रू शरणार्थी पुनर्वास मामला: त्रिपुरा में प्रदर्शनकारियों पर पुलिस की गोलीबारी, एक की मौत, 30 से ज्यादा घायल

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


उत्तरी त्रिपुरा जिले के पानीसागर में असम-अगरतला राष्ट्रीय राजमार्ग को बंद कर प्रदर्शन कर रहे लोगों पर पुलिस की गोलीबारी में एक व्यक्ति की मौत हो गई और 30 से ज्यादा घायल हो गए हैं। ये लोग पड़ोसी राज्य मिजोरम से आए ब्रू प्रवासियों को त्रिपुरा में बसाने का विरोध कर रहे थे। राज्य सरकार की ओर से बताया गया कि इसकी मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए गए हैं।

त्रिपुरा के कानून मंत्री रतन लाल नाथ ने बताया कि ‘उत्तरी त्रिपुरा जिले के कंचनपुर इलाके में हिंसा के दौरान 19 नागरिक, चार पुलिसकर्मी, त्रिपुरा स्टेट राइफल्स के तीन जवान, और आठ फायर सर्विस कर्मी घायल हो गए हैं और हिंसा में एक व्यक्ति की मौत हो गई है।’

 

पुलिस ने कहा कि बड़ी संख्या में लोग पानीसागर राष्ट्रीय राजमार्ग-8 पर जमा हुए और उसे बंद कर दिया। उन्होंने सरकार से ब्रू प्रवासियों को त्रिपुरा में बसाने की योजना वापस लेने की मांग की।

बंगाली और स्थानीय मिजो समुदाय की संयुक्त आंदोलन समिति (जेएमसी) ने इस मुद्दे पर सोमवार से पांच दिवसीय हड़ताल की घोषणा की है, जिसके तहत उन्होंने शनिवार को राजमार्ग-8 को बंद कर दिया।

केन्द्र सरकार ने इस साल जनवरी में एक नए समझौते पर हस्ताक्षर किए थे जिसके तहत, त्रिपुरा के राहत शिविरों में रह रहे ब्रू समुदाय के लोगों को वापस जाने के लिए मजबूर नहीं किया जाएगा।

शनिवार को हालात उस समय खराब हो गए जब पुलिस और त्रिपुरा स्टेट राइफल्स (टीएसआर) समेत अर्धसैनिक बलों के एक बड़े दस्ते की सड़क खाली कराने को लेकर प्रदर्शनकारियों से झड़प हो गई। पुलिस ने पहले प्रदर्शनकारियों पर लाठीचार्ज किया और बाद में गोलीबारी की , जिसमें प्रदर्शन में शामिल 40 वर्षीय व्यक्ति श्रीकांत दास की मौत हो गई।

अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक राजीव सिंह ने कहा कि पुलिस को अपने बचाव के लिए गोली चलानी पड़ी क्योंकि भीड़ बेकाबू हो गई थी और सुरक्षा बलों से हथियार छीनने की कोशिश कर रही थी। उन्होंने स्वीकार किया कि इस दौरान एक व्यक्ति की मौत हो गई और कुछ लोग घायल हो गए।

 





Source link

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

Translate »
You cannot copy content of this page