जम्मू कश्मीर के नेताओं की पीएम मोदी ने बुलाई बैठक, जानें क्या बोले बीजेपी नेता


पीएम मोदी ने कश्मीर के सभी नेताों की बैठक 24 जून को बुलाई है.

पीएम मोदी ने कश्मीर के सभी नेताों की बैठक 24 जून को बुलाई है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में 24 जून को नई दिल्ली में होने वाली बैठक के लिए पूर्ववर्ती राज्य के चार पूर्व मुख्यमंत्रियों सहित जम्मू कश्मीर के 14 नेताओं को आमंत्रित किया गया है. इस बैठक में केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह और अन्य केन्द्रीय नेताओं के भी शामिल होने की संभावना है.

जम्मू. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने शनिवार को कहा कि उसे विश्वास है कि केंद्र शासित प्रदेश के लिए भविष्य की कार्यवाही पर चर्चा करने के लिए दिल्ली में प्रधानमंत्री के साथ बैठक के लिए आमंत्रित जम्मू-कश्मीर के सभी नेता ‘‘महत्वपूर्ण’’ विचार-विमर्श में भाग लेंगे.

आमंत्रित लोगों में शामिल भाजपा की जम्मू-कश्मीर इकाई के अध्यक्ष रविंदर रैना ने कहा कि प्रधानमंत्री द्वारा बुलाई गई बैठक विभिन्न राजनीतिक दलों के प्रमुखों की इच्छा के अनुसार है जो उनसे समय मांग रहे थे और लंबे समय से इस तरह की बैठक की मांग कर रहे थे. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में 24 जून को नई दिल्ली में होने वाली बैठक के लिए पूर्ववर्ती राज्य के चार पूर्व मुख्यमंत्रियों सहित जम्मू कश्मीर के 14 नेताओं को आमंत्रित किया गया है. इस बैठक में केन्द्रीय गृह मंत्री अमित शाह और अन्य केन्द्रीय नेताओं के भी शामिल होने की संभावना है.

24 जून को दिल्ली में पीएम मोदी ने बुलाई है बैठक

रैना ने कहा, ‘‘जम्मू-कश्मीर के सभी राजनीतिक दलों के नेता 24 जून को दिल्ली में प्रधानमंत्री से मिल रहे हैं और मुझे भी प्रधानमंत्री कार्यालय से निमंत्रण मिला है. सभी दलों की बैठक विशेष परिस्थितियों में बुलाई जा रही है और जम्मू-कश्मीर के संबंध में इस तरह की बैठक के लिए विभिन्न राजनीतिक दलों की भी मांग थी.’’ उन्होंने कहा कि 70 वर्षों में पहली बार ब्लॉक विकास परिषद और जिला विकास परिषद के चुनाव हुए और पंचायती राज संस्थानों (पीआरआई) को अधिक अधिकार और धनराशि दी गई और जम्मू-कश्मीर मोदी के नेतृत्व में समृद्धि की ओर बढ़ रहा है.’’ये भी पढ़ेंः- PM मोदी की उच्च स्तरीय बैठक के लिए फारूक अब्दुल्ला, उमर अब्दुल्ला और महबूबा मुफ्ती को भेजा गया न्योता

सभी राजनीतिक दलों के नेता लेंगे बैठक में हिस्सा

भाजपा नेता ने कहा कि उन्हें विश्वास है कि बैठक में सभी राजनीतिक दलों के नेता हिस्सा लेंगे. उन्होंने कहा, ‘‘जम्मू-कश्मीर के बेहतर भविष्य के लिए सभी आमंत्रित लोगों को इस महत्वपूर्ण बैठक में भाग लेना चाहिए. प्रधानमंत्री उनकी बात सुनने के लिए हैं. ’’उन्होंने कहा, हालांकि उन्हें बैठक के एजेंडे के बारे में पता नहीं है, लेकिन कोई भी सार्वजनिक मुद्दों को उठा सकता है. उन्होंने कहा कि भाजपा जम्मू-कश्मीर को राज्य का दर्जा बहाल करने के लिए प्रतिबद्ध है.









Source link

Latest And Breaking News Today In Hindi Live 20 June 2021 – पढ़ें 20 जून के मुख्य और ताजा समाचार – लाइव ब्रेकिंग न्यूज़


08:17 PM, 19-Jun-2021

उत्तराखंड मौसम अपडेट : प्रदेश के कई जिलों में आज भी भारी बारिश की चेतावनी

Uttarakhand Weather Forecast Today: heavy rain alert today 20 june also

शनिवार को प्रदेश के कई इलाकों में तेज बारिश हुई। इससे ज्यादातर नदियां उफान पर हैं। राज्य के तमाम पहाड़ी क्षेत्रों में तेज बारिश का क्रम बना हुआ है। और पढ़ें

12:59 AM, 20-Jun-2021

लूटकांड खुलासा: रिटायर्ड बैंक अफसर के घर प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों ने की थी लूटपाट

Robbery disclosed: Retired bank officers house, students preparing for competitive examination had looted

रिटायर्ड बैंक अफसर आरएन शुक्ला के घर हुई लूट का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। दो छात्रों ने मिलकर वारदात को अंजाम दिया था। एक छात्र को पुलिस ने शनिवार को गिरफ्तार कर लिया। और पढ़ें

12:59 AM, 20-Jun-2021

एक दिन की बारिश में डूब गया जिला मुख्यालय में करोड़ाां का विकास

development of croers in district headquarters manjhanpur drowned in one day rain

एक दिन की बारिश में डूब गया जिला मुख्यालय में करोड़ाां का विकास और पढ़ें

12:58 AM, 20-Jun-2021

एहतियात: कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए मास्टर ट्रेनर देंगे प्रशिक्षण

master trainer will trained doctors for facing challeneges of covid-19 third waive

एहतियात: कोरोना की तीसरी लहर को देखते हुए मास्टर ट्रेनर देंगे प्रशिक्षण और पढ़ें

12:58 AM, 20-Jun-2021

बारिश से राहत, धूप ने बढ़ाई उमस

बारिश से राहत, धूप ने बढ़ाई उमस और पढ़ें

12:58 AM, 20-Jun-2021

बरला के दस्यु प्रवेंद्र का गैंग डी-71 पर पंजीकृत

बरला के दस्यु प्रवेंद्र का गैंग डी-71 पर पंजीकृत और पढ़ें

12:58 AM, 20-Jun-2021

हाईटेंशन लाइन की चपेट में आकर युवक की मौत

हाईटेंशन लाइन की चपेट में आकर युवक की मौत और पढ़ें

12:58 AM, 20-Jun-2021

15 जुलाई से होगी विवि परीक्षा

15 जुलाई से होगी विवि परीक्षा और पढ़ें

12:58 AM, 20-Jun-2021

नौ दिन में गाजियाबाद के 2.44 लाख लोगों को लगेगी वैक्सीन

ghaziabad news

नौ दिन में गाजियाबाद के 2.44 लाख लोगों को लगेगी वैक्सीन और पढ़ें

12:58 AM, 20-Jun-2021

लॉकडाउन दिवस में खुले आम खुली रही दुकानें

लॉकडाउन दिवस में खुले आम खुली रही दुकानें और पढ़ें

12:58 AM, 20-Jun-2021

अखिलेश को पता चल जाएगा कि वो कितने पानी में हैं: केशव

akhilesh ko pata chal jayega ki bo kitne pani me hai :  kesav

अखिलेश को पता चल जाएगा कि वो कितने पानी में हैं: केशव और पढ़ें

12:58 AM, 20-Jun-2021

काला कांकर में एक्शन की तैयारी में नगर निगम, आज तोड़ा जाएगा निजी स्कूल का पक्का निर्माण

Illegal construction will broken in Kala Kankar colony

काला कांकर में एक्शन की तैयारी में नगर निगम, आज तोड़ा जाएगा निजी स्कूल का पक्का निर्माण और पढ़ें

12:57 AM, 20-Jun-2021

दिल्ली पुलिस की नौगांवा सादात में दबिश

दिल्ली पुलिस की नौगांवा सादात में दबिश और पढ़ें

12:57 AM, 20-Jun-2021

निकाह के दो माह बाद ही पत्नी को दे दिया तीन तलाक

निकाह के दो माह बाद ही पत्नी को दे दिया तीन तलाक और पढ़ें

12:57 AM, 20-Jun-2021

बाढ़ से बचाव: धनौरा में नौ और हसनपुर में पांच राहत कैंप तैयार

बाढ़ से बचाव: धनौरा में नौ और हसनपुर में पांच राहत कैंप तैयार और पढ़ें



Source link

Facebook’s request – According to the company’s Kovid policy, we cannot come physically; The panel said – send the officers, we will get the vaccine done | फेसबुक की गुहार- कंपनी की कोविड पॉलिसी के मुताबिक हम फिजिकली नहीं आ सकते; पैनल ने कहा- अफसरों को भेजिए, हम वैक्सीन लगवा देंगे


  • Hindi News
  • National
  • Facebook’s Request According To The Company’s Kovid Policy, We Cannot Come Physically; The Panel Said Send The Officers, We Will Get The Vaccine Done

नई दिल्ली3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

नए IT नियमों को लेकर केंद्र सरकार ने सोशल मीडिया कंपनियों पर सख्त रवैया अपना लिया है। कांग्रेस सांसद शशि थरूर की अध्यक्षता वाली संसदीय स्थायी समिति ने शनिवार को फेसबुक की एक अर्जी पर जोरदार फटकार लगाई है।

दरअसल, फेसबुक के अधिकारियों ने कंपनी की कोविड पॉलिसी का हवाला देते हुए अगली पेशी में फिजिकली शामिल होने के बजाय वर्चुअली आने का अनुरोध किया। इस पर पैनल ने कहा है कि आप अपने अधिकारियों को भेज दीजिए, हम वैक्सीन लगवा देंगे।

फेसबुक ने क्या कहा..
फेसबुक ने कहा कि कंपनी के नियमों के मुताबिक कोरोना की दूसरी लहर की अवधि के दौरान अधिकारियों को किसी भी मीटिंग में फिजिकली शामिल होने की मनाही है। मीटिंग वर्चुअली ही करने के निर्देश हैं, इसलिए समिति से अनुरोध है कि हमें वर्चुअली पेश होने की इजाजत दी जाए।

पैनल का करारा जवाब..
एजेंसी ने सूत्रों के हवाले से बताया कि, फेसबुक के इस तर्क पर संसदीय समिति ने सख्त रुख अपनाते हुए कहा, ‘कोई भी मीटिंग ऑनलाइन नहीं हो सकती। इसलिए फेसबुक के अधिकारियों को शारीरिक रूप से मौजूद होना होगा।’ इसके साथ ही समिति के अध्यक्ष शशि थरूर ने फेसबुक के उन अधिकारियों की सूची मांगी, जिन्हें कंपनी समिति के सामने भेजना चाहती है।

थरूर ने कहा कि समिति ऐसे अधिकारियों का वैक्सीनेशन करवाएगी और आने के लिए पर्याप्त समय भी देगी। संसदीय पैनल के फैसले पर फेसबुक के रुख के बारे में पूछे जाने पर कंपनी के अधिकारियों ने जवाब देने से इनकार कर दिया।

समिति ने यह भी कहा है कि गूगल, यूट्यूब, फेसबुक और अन्य कंपनियों को भी पैनल के सामने फिजिकली आना होगा। हालांकि, अभी इन कंपनियों को बुलाने को लेकर कोई निश्चित तारीख तय नहीं हो सकी है।

शुक्रवार को ट्विटर के अफसर पेश हुए थे
IT मिनिस्ट्री से जुड़ी संसदीय समिति के सामने शुक्रवार को ट्विटर के प्रतिनिधियों की पेशी हुई थी। कांग्रेस सांसद शशि थरूर की अगुआई वाली संसदीय समिति ने ट्विटर को अपने प्लेटफॉर्म के दुरुपयोग और नागरिकों के अधिकारों की रक्षा के मुद्दे पर तलब किया था। ट्विटर इंडिया के लीगल विंग से आयुषी कपूर और पॉलिसी विंग की शगुफ्ता कामरान ने अपना पक्ष रखा था।

समिति ने कंपनी के अधिकारियों से पूछा कि क्या आप देश के कानून का पालन करते हैं? इस पर ट्विटर के प्रतिनिधियों ने कहा- हम अपनी पॉलिसी को फॉलो करते हैं, जो देश के कानून के अनुसार है। इस दलील पर समिति ने आपत्ति जताते हुए कंपनी से तल्ख लहजे में कहा कि हमारे यहां देश का कानून सबसे बड़ा है, आपकी पॉलिसी नहीं। समिति ने महत्वपूर्ण पॉलिसी पर निर्णय लेने के अधिकारों और कंपनी में चीफ कम्प्लायंस ऑफिसर की नियुक्ति को लेकर भी दोनों अफसरों से सवाल किए थे।

खबरें और भी हैं…



Source link

Apni Party To Hold Meeting On June 21 On Centre’s Call On Dialogue


Srinagar: Jammu and Kashmir Apni Party will hold meeting to discuss on major political development and other various issues including centre’s invitation of talks with political parties of the valley. 

Apni Party President Altaf Bukhari said that the meeting will start at 4:00 PM on 21 June wherein all top leaders of Apni Party will attend to discuss Political development and Centre’s invitation to political parties of Jammu and Kashmir.

Welcoming the step of the centre government on inviting political parties of Jammu and Kashmir for talks, Bukhari said that Apni Party has been always in favour of dialogue as dialogue is the way forward for all issues.

Bukhari also said that political parties of Jammu and Kashmir have realized now that dialogue is the only way to redress any issue and added that Apni party welcomes them as they came out of dreams now and realized what truth is.



Source link

IND v NZ, WTC FINAL : खराब रोशनी से प्रभावित रहा दूसरा दिन, भारत ने बनाए 3 विकेट पर 146 रन



  • aarya- India TV Hindi

    सुष्मिता सेन ने वेब सीरीज ‘आर्या’ के एक साल पूरे होने पर शेयर किया इमोशनल नोट


  • shilpa shetty- India TV Hindi

    शिल्पा शेट्टी ने बताया उनकी डेढ़ साल की बेटी समिशा भी करती है योग


  • Milkha Singh passed away shahrukh khan priyanka chopra and others mourn demise of Former Indian Spri- India TV Hindi

    ‘फ्लाइंग सिख’ मिल्खा सिंह के निधन पर शाहरुख खान-प्रियंका चोपड़ा और अक्षय कुमार सहित अन्य सेलेब्स ने जताया शोक


  • शिल्पा शेट्टी shilpa shetty- India TV Hindi

    शिल्पा शेट्टी ने बताया महामारी के दौरान फिजिकल और मेंटल हेल्थ को कैसे स्ट्रॉ





  • Source link

    Jammu And Kashmir: All Party Meeting With Pm Narendra Modi On June 24, Leaders Will Have To Show Covid 19 Negative Report – जम्मू-कश्मीर: पीएम मोदी के साथ 24 जून को सर्वदलीय बैठक, नेताओं को दिखानी होगी कोविड नेगेटिव रिपोर्ट


    न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
    Published by: योगेश साहू
    Updated Sat, 19 Jun 2021 08:29 PM IST

    सार

    बताया जा रहा है कि यह बैठक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में होगी, जिसमें केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और अन्य केंद्रीय नेता रहेंगे।

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
    – फोटो : PTI

    पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
    कहीं भी, कभी भी।

    ख़बर सुनें

    विस्तार

    केंद्र सरकार इस महीने 24 जून को जम्मू-कश्मीर की सभी क्षेत्रीय पार्टियों के साथ बातचीत करेगी। सरकार यह कदम केंद्रशासित प्रदेश में विधानसभा चुनाव कराने सहित राजनीतिक प्रक्रियाओं को बढ़ावा देने की पहल के तहत उठा रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ होने वाली इस बैठक में शामिल होने वाले नेताओं को कोरोना नेगेटिव रिपोर्ट पेश करने के लिए कहा गया है।

    बैठक के लिए केंद्रीय गृह सचिव ने किया फोन

    एक अधिकारी के हवाले से जानकारी दी गई है कि केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने आज (शनिवार को) जम्मू-कश्मीर में विभिन्न दलों के विभिन्न राजनीतिक नेताओं को फोन करके उन्हें अगले सप्ताह होने वाली पीएम मोदी की बैठक के लिए आमंत्रित किया है।

    अधिकारियों ने बताया कि इस बैठक में नेशनल कॉन्फ्रेंस के प्रमुख फारूक अब्दुल्ला, पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती, जम्मू-कश्मीर अपनी पार्टी के अल्ताफ बुखारी, पीपुल्स कॉन्फ्रेंस के मुखिया सज्जाद लोन शामिल हो सकते हैं। बता दें कि फारूक और महबूबा जम्मू-कश्मीर के मुख्यमंत्री रह चुके हैं।

    बताया जा रहा है कि यह बैठक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में होगी, जिसमें केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह और अन्य केंद्रीय नेता रहेंगे। इस बैठक के बारे में जब माकपा नेता और पीपुल्स अलायंस फॉर गुपकार डेक्लेरेशन के प्रवक्ता एमवाई तरिगामी से पूछा गया तो उन्होंने कहा, हमें सरकार से इस बारे में कुछ नहीं कहा गया है।

    हालांकि अगर ऐसा कुछ होता है तो इसका स्वागत किया जाएगा। श्रीनगर से तरिगामी ने कहा, हमने केंद्र के साथ सार्थक बातचीत के लिए अपने दरवाजे कभी बंद नहीं किए हैं। इस अलायंस में नेशनल कॉन्फ्रेंस और पीडीपी भी हैं, जिसका गठन जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा हटाए जाने और उसे केंद्रशासित प्रदेश बनाए जाने के बाद किया गया था।

    वहीं एक अधिकारी के हवाले से जानकारी दी गई है कि प्रधानमंत्री मोदी के साथ बैठक के लिए आमंत्रित जम्मू-कश्मीर के सभी 14 राजनेताओं से कोविड-19 निगेटिव रिपोर्ट पेश करने के लिए कहा गया है।

    जम्मू-कश्मीर अपनी पार्टी के अध्यक्ष बुखारी ने कहा, अगर ऐसी कोई बातचीत होती है तो मैं इसका स्वागत करता हूं। यह मार्च 2020 की हमारी स्थिति की पुष्टि करता है, जब हमने यह स्पष्ट कर दिया था कि जम्मू-कश्मीर के लिए लोकतंत्र और राज्य का दर्जा बहाल करने के लिए संवाद ही एकमात्र तंत्र है।

    भाजपा की जम्मू-कश्मीर इकाई और कांग्रेस भी होंगी भागीदार

    इस बातचीत में भाजपा की जम्मू-कश्मीर इकाई और कांग्रेस को भी भागीदार बनाए जाने की उम्मीद है। बातचीत के जरिये जम्मू-कश्मीर में राजनीतिक प्रक्रिया को मजबूत बनाने की कोशिश होगी।

    परिसीमन आयोग सौंपेगा अपनी रिपोर्ट

    अधिकारियों ने कहा कि जम्मू और कश्मीर पुनर्गठन विधेयक के संसद में पारित होने के तुरंत बाद जस्टिस (सेवानिवृत्त) रंजना देसाई के नेतृत्व में बना परिसीमन आयोग अपने काम में तेजी लाएगा और अपनी रिपोर्ट जल्द सौंपेगा। आयोग को फरवरी 2020 में स्थापित किया गया था और इस वर्ष मार्च में एक वर्ष का विस्तार दिया गया है।

    सरकार ने खारिज कीं अफवाहें

    जम्मू-कश्मीर के नेताओं के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की सर्वदलीय बैठक से पहले कई तरह की अफवाहें भी फैल रही हैं। अफवाह है कि राज्य को विभाजित किया जा सकता है। परंतु कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में कहा गया है कि सरकार के उच्च पदस्थ सूत्रों ने ऐसी अफवाहों को खारिज किया। सूत्रों का कहना है कि ऐसा कुछ भी नहीं होने जा रहा है।



    Source link

    बंगाल की कुछ सीटों पर चुनावी नतीजों को चैलेंज कर सकती है भाजपा, दिलीप घोष ने दिए संकेत


    पश्चिम बंगाल में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष. (पीटीआई फाइल फोटो)

    पश्चिम बंगाल में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष. (पीटीआई फाइल फोटो)

    West Bengal News: दिलीप घोष ने कहा, ‘हमारी कानूनी टीम सारे विकल्पों पर विचार कर रही है कि कहां याचिका दायर की जा सकती है.’

    कोलकाता. भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) पश्चिम बंगाल में उन सीटों पर चुनावी नतीजों को चुनौती देने के लिए याचिका दायर कर सकती है जहां से उनके उम्मीदवार को मामूली अंतर से हार का सामना करना पड़ा है. पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष दिलीप घोष ने शनिवार को यह बात कही.  घोष का यह बयान ऐसे समय में आया है, जबकि एक दिन पहले ही पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और चार अन्य तृणमूल कांग्रेस के नेताओं ने इसी तरह की याचिका कलकत्ता उच्च न्यायालय में दायर की है. हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक दिलीप घोष ने कहा, ‘हमारी कानूनी टीम सारे विकल्पों पर विचार कर रही है कि कहां याचिका दायर की जा सकती है. हम चुनावी याचिका दाखिल करने की भी योजना बना रहे हैं. हमने उन सीटों की पहचान कर ली है और हमारे वकील तैयारी में जुटे हैं.’

    मई माह में संपन्न पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के दौरान ममता बनर्जी को नंदीग्राम सीट से भाजपा के उम्मीदवार शुवेंदु अधिकारी के हाथों मामूली अंतर से हार का सामना करना पड़ा था. इसके बाद ममता ने चुनाव आयोग से अपील कर फिर से मतगणना कराने को कहा, लेकिन आयोग ने उनकी मांग को सिरे से खारिज कर दिया. इसके तुरंत बाद ही ममता ने कोर्ट में याचिका दायर करने के फैसले की घोषणा की थी.

    बंगालः बीजेपी के 300 कार्यकर्ताओं की TMC में घर वापसी, छिड़का गया गंगा जल

    उन्होंने गुरुवार को अपनी याचिका दायर की. इसी दिन तृणमूल कांग्रेस के चार अन्य उम्मीदवारों ने भी बलरामपुर, गोघाट, मोयना और बनगांव विधानसभा सीट के चुनावी नतीजों के खिलाफ अपनी-अपनी याचिका दाखिल की. भाजपा ने जिन 77 सीटों पर जीत हासिल की है, ये चार सीटें भी उसी में शामिल हैं. घोष ने सबसे पहले शुक्रवार को चुनाव परिणामों को चुनौती देने की भाजपा की योजना का संकेत दिया, जब उन्होंने इस बात को रेखांकित किया कि तृणमूल कांग्रेस द्वारा इस्तेमाल किया गया विकल्प भाजपा के लिए भी खुला था.

    घोष ने शुक्रवार को पत्रकारों से कहा, ‘मुख्यमंत्री नंदीग्राम सीट से हार गईं. जब मतगणना चल रही थी, टीएमसी के एजेंट वहां मौजूद थे और हर राउंड के बाद उनलोगों ने नतीजों पर हस्ताक्षर किए हैं, लेकिन उसके बाद भी टीएमसी ने कोर्ट का रुख किया. ये उनका अधिकार है. हम सभी को कोर्ट के आदेशों का पालन करना होगा. ठीक इसी तरह से हम भी कोर्ट जा सकते हैं. कुछ सीटें ऐसी हैं जहां भाजपा को मामूली अंतर से हार का सामना करना पड़ा है. अदालत को फैसला करने दीजिए.’









    Source link

    Weather Forecast Imd Issued Heavy Rainfall In Delhi Bihar Uttarakhand Madhya Pradesh And Gujarat – मौसम: उत्तराखंड-बिहार-यूपी समेत कई राज्यों में बारिश का अलर्ट, जानें दिल्ली में कब दस्तक देगा मॉनसून


    सार

    भारतीय मौसम विभाग के मुताबिक, दिल्ली को अभी मॉनसून के लिए थोड़ा और इंतजार करना होगा। दिल्ली में 27 जून को मॉनसून दस्तक दे सकता है। वहीं आज कई राज्यों में बारिश की संभावना है।

    मूसलाधार बारिश (फाइल फोटो
    – फोटो : अमर उजाला

    ख़बर सुनें

    देश में मॉनसून दस्तक दे चुका है लेकिन कुछ राज्यों को अभी इसके लिए इंतजार करना पड़ेगा। भारतीय मौसम विभाग के मुताबिक, दिल्ली को अभी बारिश के लिए थोड़ा इंतजार करना होगा। मौसम विभाग की माने तो 27 जून को यहां मॉनसून दस्तक दे सकता है। 

    मौसम विभाग की माने तो गुजरात, दक्षिण राजस्थान, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश के बाकी बचे इलाकों में अगले 24 घंटे में बारिश होगी। वहीं मौसम को लेकर जानकारी देने वाली निजी कंपनी स्काईमेट वेदर का कहना है कि पिछले साल वायु प्रणाली दिल्ली तक 25 जून को पहुंचा था और 29 जून तक पूरा देश मॉनसून से घिर गया था।

    इन राज्यों में बारिश की संभावना
    मौसम विभाग की माने तो बिहार, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पूर्वी मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और झारखंड में आज तेज हवाओं के साथ मध्यम से भारी स्तर की बारिश हो सकती है। इसके अलावा कई जगहों पर आकाशीय बिजली भी गिर सकती है। वहीं एनसीआर में हर जगह बादल छाए रहने का अनुमान है। मौसम विभाग की माने तो गरज के साथ हल्की बारिश हो सकती है।

    बिहार के कई जिलों में ऑरेंज अलर्ट जारी
    मौसम विभाग की माने तो 21 जून तक उत्तर-पश्चिम बिहार के जिलों के लिए सामान्य से अधिक बारिश होगी। जिन जिलों में ऑरेंज अलर्ट जारी किया है, उनमें पश्चिम चंपारण, सीवान, सारण, पूर्वी चंपारण और गोपालगंज जैसे जिलों में भारी बारिश होने की संभावना है।

    अगले 24 घंटे में यूपी के महाराजगंज, सिद्धार्थ नगर, गोंडा, बलरामपुर, श्रावस्ती, बहराइच, लखीमपुर खीरी और आसपास के इलाकों में भारी बारिश का अनुमान है। इसके अलावा सोनभद्र, मिर्जापुर, वाराणसी, संत रविदास नगर, आजमगढ़, मऊ, बलिया, देवरिया, गोरखपुर, संत कबीर नगर, बस्ती, कुशीनगर, बाराबंकी, सुल्तानपुर, अयोध्या तथा अंबेडकर नगर और आसपास के क्षेत्रों में भारी वर्षा होने की संभावना जताई गई है। 

    उत्तराखंड के कई जिलों में रेड अलर्ट जारी
    राज्य के पिथौरागढ़, नैनीताल और चंपावत जैसे पहाड़ी जिलों में शुक्रवार को बहुत भारी बारिश पड़ने की संभावना जताई है। इसके अलावा चमोली, बागेश्वर, अल्मो़ड़ा और ऊधमसिंह नगर में भारी बारिश के आसार हैं। 

    हरियाणा में अगले दो-तीन दिनों में पहुंचेगा मानसून
    मौसम विभाग की माने तो हरियाणा में अगले दो से तीन दिनों में मॉनसून दस्तक देगा। विभाग के अनुसार, बंगाल की खाड़ी पर बने एंट्री साइक्लोन के कारण मानसून कमजोर पड़ा है। यही वजह है कि पानीपत समेत अन्य जिलों में मॉनसून पहुंचने में देरी हो रही है।

    विस्तार

    देश में मॉनसून दस्तक दे चुका है लेकिन कुछ राज्यों को अभी इसके लिए इंतजार करना पड़ेगा। भारतीय मौसम विभाग के मुताबिक, दिल्ली को अभी बारिश के लिए थोड़ा इंतजार करना होगा। मौसम विभाग की माने तो 27 जून को यहां मॉनसून दस्तक दे सकता है। 

    मौसम विभाग की माने तो गुजरात, दक्षिण राजस्थान, पश्चिमी उत्तर प्रदेश और मध्यप्रदेश के बाकी बचे इलाकों में अगले 24 घंटे में बारिश होगी। वहीं मौसम को लेकर जानकारी देने वाली निजी कंपनी स्काईमेट वेदर का कहना है कि पिछले साल वायु प्रणाली दिल्ली तक 25 जून को पहुंचा था और 29 जून तक पूरा देश मॉनसून से घिर गया था।

    इन राज्यों में बारिश की संभावना

    मौसम विभाग की माने तो बिहार, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पूर्वी मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और झारखंड में आज तेज हवाओं के साथ मध्यम से भारी स्तर की बारिश हो सकती है। इसके अलावा कई जगहों पर आकाशीय बिजली भी गिर सकती है। वहीं एनसीआर में हर जगह बादल छाए रहने का अनुमान है। मौसम विभाग की माने तो गरज के साथ हल्की बारिश हो सकती है।

    बिहार के कई जिलों में ऑरेंज अलर्ट जारी

    मौसम विभाग की माने तो 21 जून तक उत्तर-पश्चिम बिहार के जिलों के लिए सामान्य से अधिक बारिश होगी। जिन जिलों में ऑरेंज अलर्ट जारी किया है, उनमें पश्चिम चंपारण, सीवान, सारण, पूर्वी चंपारण और गोपालगंज जैसे जिलों में भारी बारिश होने की संभावना है।


    आगे पढ़ें

    यूपी के इन जिलों में भारी बारिश हो सकती है



    Source link

    Centre Asks States to register FIRs । Involved in assault on doctors । Health professionals | कहा- हेल्थकेयर वर्कर्स को नुकसान पहुंचाने वालों पर FIR करें, ऐसे लोगों पर सोशल मीडिया के जरिए निगरानी की जाए


    • Hindi News
    • National
    • Centre Asks States To Register FIRs । Involved In Assault On Doctors । Health Professionals

    नई दिल्ली32 मिनट पहले

    • कॉपी लिंक
    केंद्र ने मेडिकल स्टाफ की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को चिट्‌ठी लिखी है। - Dainik Bhaskar

    केंद्र ने मेडिकल स्टाफ की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को चिट्‌ठी लिखी है।

    केंद्र सरकार ने कोरोना की पहली और दूसरी लहर में हिंसा का शिकार हुए डॉक्टरों की सुध ली है। शनिवार को केंद्र ने राज्य सराकों को चिट्‌ठी लिखी है। चिट्‌ठी में डॉक्टर्स समेत सभी मेडिकल स्टॉफ को सुरक्षा मुहैया कराने की बात कही गई है। केंद्र ने कहा है कि हेल्थकेयर वर्कर्स को नुकसान पहुंचाने वालों के खिलाफ केस दर्ज कराएं। उनके खिलाफ एपिडेमिक एक्ट 2020 के तहत कार्रवाई करें।

    चिट्‌ठी केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने सभी राज्यों और केंद्र सरकार प्रदेशों को जारी की है। चिट्‌ठी में गृह सचिव ने कहा, ‘हेल्थकेयर वर्कर्स के खिलाफ हिंसा की घटनाओं से उनका मनोबल गिर सकता है। उनमें असुरक्षा की भावना पैदा हो सकती है।

    भल्ला ने चिट्‌ठी में आगे लिखा है कि वर्तमान समय में देश कोरोना महामारी से जूझ रहा है। ऐसे में डॉक्टर्स समेत सभी मेडिकल स्टॉफ के लिए सुरक्षित वातावरण बनाया जाना चाहिए। इसके लिए उनके खिलाफ हिंसा करने वालों पर राज्यों को सख्त कार्रवाई करनी होगी। राज्यों का फर्ज बनता है कि ऐसे लोगों के खिलाफ FIR दर्ज कराएं। ऐसा मामलों का निपटारा भी जल्द से जल्द किया जना चाहिए।

    दोषी को नहीं मिलती जमानत
    एपिडेमिक एक्ट (महामारी अधिनियम) के तहत यदि किसी व्यक्ति को मेडिकल स्टॉफ से हिंसा करने का दोषी पाया जाता है तो उसे 5 साल की सजा हो सकती है। सजा पाने वाले व्यक्ति पर 2 लाख रुपए का जुर्माना भी लागाया जा सकता है। इसे पीड़ित को पहुंचे नुकसान के हिसाब से बढ़ाया भी जा सकता है। ज्यादा हिंसा होने पर सजा को बढ़ाकर 7 साल किया जा सकता है। इसमें जुर्माने की रकम बढ़कर 5 लाख रुपए हो जाती है। इसे गंभीर अपराध माना जाता है और सजा मिलने पर जमानत की गुंजाइश नहीं होती है।

    मनोबल बढ़ाने की कोशिश करें
    केंद्रीय गृह सचिव ने पत्र में लिखा है कि सोशल मीडिया में आपत्तिजनक कंटेंट पर कड़ी नजर रखी जानी चाहिए, जिससे हिंसा की स्थिति पैदा होने की संभावना हो। डॉक्टरों के बहुमूल्य योगदान का प्रसार करने के लिए अस्पतालों और सोशल मीडिया में पोस्टर जारी कर मनोबल बढ़ाने की कोशिश की जानी चाहिए।

    प्रयागराज के डॉक्टरों ने मंत्री रीता बहुगुणा जोशी को शुक्रवार को प्रधानमंत्री के नाम का ज्ञापन दिया।

    प्रयागराज के डॉक्टरों ने मंत्री रीता बहुगुणा जोशी को शुक्रवार को प्रधानमंत्री के नाम का ज्ञापन दिया।

    IMA ने एक दिन पहले किया था देशव्यापी प्रदर्शन
    एक दिन पहले शुक्रवार को इंडियन मेडिकल एसोसिएगराज (IMA) ने मेडिकल स्टॉफ पर हिंसा के खिलाफ देशव्यापी विरोध-प्रदर्शन किया था। इस दौरान हेल्थकेयर वर्कर्स ने सफेद की जगह काले कपड़े, काली पट्‌टी और काले रिबन बांधकर काम किया था। इस दौरान IMA के कई राज्यों के अध्यक्ष ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र भी लिखा था।

    खबरें और भी हैं…



    Source link

    PM Modi’s Close Aide AK Sharma Appointed As BJP State Vice President


    Lucknow: Former Indian Administrative Service (IAS) officer Arvind Kumar Sharma has been appointed as the vice-president of Uttar Pradesh Bharatiya Janata Party (BJP).

    This brings to an end to speculations that Sharma, considered close to Prime Minister Narendra Modi, would get a bigger responsibility in Uttar Pradesh ahead of next year’s assembly polls in the politically crucial state.

    There were earlier speculations that the 1988 batch IAS officer, who has been associated with Prime Minister Modi since he became the chief minister of Gujarat in 2001, would be inducted in Uttar Pradesh Chief Minister Yogi Adityanath’s Cabinet.

    ALSO READ | ‘I Will Act In Accordance With Law’: Mukul Roy On Suvendu’s Petition Seeking His Disqualification

    Sharma, who had resigned from the administrative service to join the BJP earlier in January this year, was the Union Secretary of MSME Department before taking a plunge into politics.

    The announcement in this regard was made by Uttar Pradesh BJP president Swatantra Dev Singh, who had earlier met the party top brass in the national capital.

    The Uttar Pradesh BJP chief also announced that Archana Mishra and Amit Valmiki have been appointed as ministers (organization) for Lucknow Bulandshahr, respectively.

    ALSO READ | Rahul Gandhi Turns 51, Congress Observes ‘Seva Diwas’ By Aiding People With Vaccination, Ration & Medical Kits

    Earlier last week, Uttar Pradesh Chief Minister Yogi Adityanath had called on Prime Minister Narendra Modi, Union Home Minister Amit Shah and BJP president Jagat Prakash Nadda during his two-day visit to the national capital.



    Source link

    Former IAS officer AK Sharma appointed as vice-president of UP BJP । UP BJP News: एमएलसी एके शर्मा यूपी बीजेपी के प्रदेश उपाध्यक्ष बनाए गए, स्वतंत्र देव सिंह ने की घोषणा




    Former IAS officer AK Sharma appointed as vice-president of UP BJP । UP BJP News: एमएलसी एके शर्मा यूपी बीजेपी के प्रदेश उपाध्यक्ष बनाए गए, स्वतंत्र देव सिंह ने की घोषणा – India TV Hindi News





























































    Source link

    Bihar Announces Bseb Matric, Intermediate Compartment Results Details Here – बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड: 10वीं-12वीं का कंपार्टमेंट रिजल्ट जारी, 5 चरणों में ऐसे देखें परिणाम


    एजुकेशन डेस्क, अमर उजाला
    Published by: ललित फुलारा
    Updated Sat, 19 Jun 2021 06:12 PM IST

    बिहार बोर्ड कंपार्टमेंट रिजल्ट 2021 जारी
    – फोटो : अमर उजाला

    ख़बर सुनें

    बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड (BSEB) ने दसवीं और बारहवीं कक्षा का कंपार्टमेंट परीक्षा का रिजल्ट जारी कर दिया है। बोर्ड ने कोरोना महामारी के चलते मैट्रिक और इंटर परीक्षा में एक या दो विषयों में अनुत्तीर्ण होने वाले छात्रों के लिए कंपार्टमेंट परीक्षा आयोजित नहीं की थी, लेकिन छात्रों को उत्तीर्ण करने के लिए अनुग्रह अंक आवंटित किए हैं। बोर्ड ने दो लाख से ज्यादा दसवीं व बारहवीं कक्षा के छात्रों को ग्रेस नंबर देकर उत्तीर्ण कर दिया है।

    विद्यार्थी बीएसईबी की आधिकारिक वेबसाइट  results.biharboardonline.com पर परिणाम देख सकते हैं।

    इसे भी पढ़ें-आंध्र प्रदेश सरकार का बड़ा फैसला: 19 अगस्त से शुरू होंगी सीईटी परीक्षाएं, इन कोर्सेस में मिलेगा प्रवेश

    इससे पहले बोर्ड ने मैट्रिक और इंटर में एक या दो विषयों में फेल हुए विद्यार्थियों को विशेष ग्रेस मार्क्स देकर उत्तीर्ण करने पर सहमति जताई थी। इस फैसले का लाभ 2 लाख 16 हजार 63 विद्यार्थियों को मिला है। 

    ऐसे देखें 10वीं व 12वीं का कंपार्टमेंटल रिजल्ट 2021
    -सबसे पहले बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट results.biharboardonline.com पर जाएं
    -यहां आपको होम पेज पर ही कंपार्टमेंटल रिजल्ट का लिंक मिलेगा।
    -जिस पर क्लिक करने के बाद आपको अपना रोल नंबर डालना होगा।
    -इसके बाद आपका रिजल्ट स्क्रीन पर आ जाएगा।
    -जिसे आप डाउनलोड कर सकते हैं।

    इसे भी पढ़ें-बड़ी खबर: जेईई मेन पर फैसला जल्द, इस दिन आयोजित हो सकती है नीट यूजी की परीक्षा

     

    विस्तार

    बिहार स्कूल एग्जामिनेशन बोर्ड (BSEB) ने दसवीं और बारहवीं कक्षा का कंपार्टमेंट परीक्षा का रिजल्ट जारी कर दिया है। बोर्ड ने कोरोना महामारी के चलते मैट्रिक और इंटर परीक्षा में एक या दो विषयों में अनुत्तीर्ण होने वाले छात्रों के लिए कंपार्टमेंट परीक्षा आयोजित नहीं की थी, लेकिन छात्रों को उत्तीर्ण करने के लिए अनुग्रह अंक आवंटित किए हैं। बोर्ड ने दो लाख से ज्यादा दसवीं व बारहवीं कक्षा के छात्रों को ग्रेस नंबर देकर उत्तीर्ण कर दिया है।

    विद्यार्थी बीएसईबी की आधिकारिक वेबसाइट  results.biharboardonline.com पर परिणाम देख सकते हैं।

    इसे भी पढ़ें-आंध्र प्रदेश सरकार का बड़ा फैसला: 19 अगस्त से शुरू होंगी सीईटी परीक्षाएं, इन कोर्सेस में मिलेगा प्रवेश

    इससे पहले बोर्ड ने मैट्रिक और इंटर में एक या दो विषयों में फेल हुए विद्यार्थियों को विशेष ग्रेस मार्क्स देकर उत्तीर्ण करने पर सहमति जताई थी। इस फैसले का लाभ 2 लाख 16 हजार 63 विद्यार्थियों को मिला है। 

    ऐसे देखें 10वीं व 12वीं का कंपार्टमेंटल रिजल्ट 2021

    -सबसे पहले बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट results.biharboardonline.com पर जाएं

    -यहां आपको होम पेज पर ही कंपार्टमेंटल रिजल्ट का लिंक मिलेगा।

    -जिस पर क्लिक करने के बाद आपको अपना रोल नंबर डालना होगा।

    -इसके बाद आपका रिजल्ट स्क्रीन पर आ जाएगा।

    -जिसे आप डाउनलोड कर सकते हैं।

    इसे भी पढ़ें-बड़ी खबर: जेईई मेन पर फैसला जल्द, इस दिन आयोजित हो सकती है नीट यूजी की परीक्षा

     



    Source link

    ‘फ्लाइंग सिख’ के नाम से मशहूर मिल्खा सिंह पंचतत्व में विलीन, केंद्रीय मंत्री किरेन रिजिजू सहित कई लोग रहे मौजूद


    चंडीगढ़. भारत के महान धावक मिल्खा सिंह का अंतिम संस्कार शनिवार को चंडीगढ़ के मटका चौक स्थित श्मशान घाट में किया गया. इस दौरान वहां केंद्रीय खेल मंत्री किरेन रिजिजू, पंजाब के राज्यपाल वीपी सिंह और हरियाणा के खेल मंत्री संदीप सिंह सहित कई लोग मौजूद रहे.

    मिल्खा सिंह का लगभग एक महीने तक कोरोना संक्रमण से जूझने के बाद शनिवार को चंडीगढ़ के पीजीआईएमईआर में निधन हो गया. वह 91 वर्ष के थे. उन्होंने अस्पताल में भर्ती होने से पहले पीटीआई से आखिरी बातचीत में कहा था, ‘चिंता मत करो. मैं ठीक हूं. मैं हैरान हूं कि कोरोना कैसे हो गया. उम्मीद है कि जल्दी अच्छा हो जाऊंगा.’

    पीएम मोदी ने जताया शोक

    प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत के महान धावक मिल्खा सिंह के निधन पर शोक जताते हुए कहा कि भारत ने ऐसा महान खिलाड़ी खो दिया जिनके जीवन से उदीयमान खिलाड़ियों को प्रेरणा मिलती रहेगी. मोदी ने ट्वीट किया, ‘मिल्खा सिंह जी के निधन से हमने एक महान खिलाड़ी को खो दिया जिनका असंख्य भारतीयों के ह्रदय में विशेष स्थान था. अपने प्रेरक व्यक्तित्व से वे लाखों के चहेते थे. मैं उनके निधन से आहत हूं.’ उन्होंने आगे लिखा, ‘मैंने कुछ दिन पहले ही श्री मिल्खा सिंह जी से बात की थी. मुझे नहीं पता था कि यह हमारी आखिरी बात होगी. उनके जीवन से कई उदीयमान खिलाड़ियों को प्रेरणा मिलेगी. उनके परिवार और दुनिया भर में उनके प्रशंसकों को मेरी संवेदनायें.’

    मिल्खा सिंह के लिए दौड़ना ईश्वर और प्रेम दोनों था

    स्वतंत्र भारत के सबसे बड़े खिलाड़ियों में से एक मिल्खा को जिंदगी ने काफी जख्म दिए, लेकिन उन्होंने अपने खेल के रास्ते में उन्हें रोड़ा नहीं बनने दिया. विभाजन के दौरान उनके माता-पिता की हत्या हो गई. वह दिल्ली के शरणार्थी शिविरों में छोटे-मोटे अपराध करके गुजारा करते थे और जेल भी गए. इसके अलावा सेना में दाखिल होने के तीन प्रयास नाकाम रहे. यह कल्पना करना भी मुश्किल है कि इस पृष्ठभूमि से निकलकर कोई ‘फ्लाइंग सिख’ बन सकता है. उन्होंने हालात को अपने पर हावी नहीं होने दिया. उनके लिए ट्रैक एक मंदिर के उस आसन की तरह था जिस पर देवता विराजमान होते हैं. दौड़ना उनके लिए ईश्वर और प्रेम दोनों था. उनके जीवन की कहानी भयावह भी हो सकती थी, लेकिन अपने खेल के दम पर उन्होंने इसे परीकथा में बदल दिया.

    38 साल तक काम रहा मिल्खा सिंह का रिकॉर्ड

    पदकों की बात करें, तो मिल्खा सिंह एशियाई खेलों में चार स्वर्ण और 1958 राष्ट्रमंडल खेलों में भी पीला तमगा जीता. इसके बावजूद उनके कैरियर की सबसे बड़ी उपलब्धि वह दौड़ थी जिसे वह हार गए. रोम ओलंपिक 1960 के 400 मीटर फाइनल में वह चौथे स्थान पर रहे. उनकी टाइमिंग 38 साल तक राष्ट्रीय रिकॉर्ड रही. उन्हें 1959 में पद्मश्री से नवाजा गया था. वह राष्ट्रमंडल खेलों में व्यक्तिगत स्पर्धा का पदक जीतने वाले पहले भारतीय थे. उनके अनुरोध पर तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने उस दिन राष्ट्रीय अवकाश की घोषणा की थी.

    80 में से 77 रेस मिल्खा ने अपने नाम किए

    मिल्खा ने अपने कैरियर में 80 में से 77 रेस जीती. रोम ओलंपिक में चूकने का मलाल उन्हें ताउम्र रहा. अपने जीवन पर बनी फिल्म ‘भाग मिल्खा भाग’ के साथ अपनी आत्मकथा के विमोचन के मौके पर उन्होंने कहा था, ‘एक पदक के लिये मैं पूरे कैरियर में तरसता रहा और एक मामूली सी गलती से वह मेरे हाथ से निकल गया.’ उनका एक और सपना अभी तक अधूरा है कि कोई भारतीय ट्रैक और फील्ड में ओलंपिक पदक जीते.

    (इनपुट भाषा से भी)





    Source link

    Magnitude Of 4 Earthquake Rocks Assam Fifth Tremor In 24 Hours Here You Know More – असम: 4.2 तीव्रता का भूकंप, पिछले 24 घंटे में पांच बार महसूस किए गए झटके


    न्यूज डेस्क, अमर उजाला, गुवाहाटी
    Published by: Tanuja Yadav
    Updated Sat, 19 Jun 2021 11:45 AM IST

    सार

    असम में पिछले 24 घंटे में पांच बार भूकंप के झटके महसूस किए गए। असम में 4.2 तीव्रता के साथ भूकंप के झटके महसूस किए गए।

    ख़बर सुनें

    असम में पिछले 24 घंटे में पांच बार भूकंप के झटके महसूस किए जा चुके हैं। हाल ही में असम में 4.2 तीव्रता के साथ भूकंप के झटके महसूस किए गए। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ सीस्मोलॉजी ने इस बात की जानकारी दी। बता दें कि देर रात असम में 4.2 तीव्रता का भूकंप आया। 

    हालांकि भूकंप से जान-माल के नुकसान की कोई खबर नहीं है। राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र ने एक रिपोर्ट में कहा कि भूकंप देर रात एक बजकर सात मिनट पर आया और उसका केंद्र सोनितपुर के जिला मुख्यालय तेजपुर के पास 30 किलोमीटर की गहराई में स्थित था। पूर्वोत्तर क्षेत्र भूकंप के लिहाज से संवेदनशील है। असम में 28 अप्रैल को 6.4 तीव्रता के भूकंप के जोरदार झटके महसूस किए गए थे।

    भारत के तीन राज्यों में शुक्रवार को भूकंप के झटके महसूस किए गए। तीनों राज्यों में भूकंप के झटके अलग-अलग समय पर आए। रिक्टर स्केल पर भूंकप की तीव्रता 4.1, 3.0 और 2.6 मापी गई है। 4.1, 3.0 और 2.6 की तीव्रता वाले भूकंप के झटके क्रमशः सोनितपुर (असम), चंदेल (मणिपुर), पश्चिम खासी हिल्स (मेघालय) में महसूस किए गए। नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी ने भूकंप की पुष्टि की है।

    नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी के मुताबिक, पश्चिम खासी हिल्स (मेघालय) में भूकंप के झटके सुबह 4.20 बजे महसूस किए गए। यहां भूकंप की तीव्रता सबसे कम 2.6 मापी गई। सोनितपुर (असम) में तड़के 2.40 बजे भूकंप आया, यहा तीव्रता तीनों राज्यों में सबसे ज्यादा 4.1 मापी गई। वहीं चंदेल (मणिपुर) में देर रात 1.06 बजे भूकंप के झटके महसूस किए गए, यहां तीव्रता 3.0 मापी गई है।

    विस्तार

    असम में पिछले 24 घंटे में पांच बार भूकंप के झटके महसूस किए जा चुके हैं। हाल ही में असम में 4.2 तीव्रता के साथ भूकंप के झटके महसूस किए गए। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ सीस्मोलॉजी ने इस बात की जानकारी दी। बता दें कि देर रात असम में 4.2 तीव्रता का भूकंप आया। 

    हालांकि भूकंप से जान-माल के नुकसान की कोई खबर नहीं है। राष्ट्रीय भूकंप विज्ञान केंद्र ने एक रिपोर्ट में कहा कि भूकंप देर रात एक बजकर सात मिनट पर आया और उसका केंद्र सोनितपुर के जिला मुख्यालय तेजपुर के पास 30 किलोमीटर की गहराई में स्थित था। पूर्वोत्तर क्षेत्र भूकंप के लिहाज से संवेदनशील है। असम में 28 अप्रैल को 6.4 तीव्रता के भूकंप के जोरदार झटके महसूस किए गए थे।

    भारत के तीन राज्यों में शुक्रवार को भूकंप के झटके महसूस किए गए। तीनों राज्यों में भूकंप के झटके अलग-अलग समय पर आए। रिक्टर स्केल पर भूंकप की तीव्रता 4.1, 3.0 और 2.6 मापी गई है। 4.1, 3.0 और 2.6 की तीव्रता वाले भूकंप के झटके क्रमशः सोनितपुर (असम), चंदेल (मणिपुर), पश्चिम खासी हिल्स (मेघालय) में महसूस किए गए। नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी ने भूकंप की पुष्टि की है।

    नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी के मुताबिक, पश्चिम खासी हिल्स (मेघालय) में भूकंप के झटके सुबह 4.20 बजे महसूस किए गए। यहां भूकंप की तीव्रता सबसे कम 2.6 मापी गई। सोनितपुर (असम) में तड़के 2.40 बजे भूकंप आया, यहा तीव्रता तीनों राज्यों में सबसे ज्यादा 4.1 मापी गई। वहीं चंदेल (मणिपुर) में देर रात 1.06 बजे भूकंप के झटके महसूस किए गए, यहां तीव्रता 3.0 मापी गई है।



    Source link

    Board prepared software to evaluate 10th and 12th results, instructions issued to schools | 10वीं और 12वीं के रिजल्ट का मूल्यांकन करने बोर्ड ने तैयार किया सॉफ्टवेयर, स्कूलों को जारी किए निर्देश; मार्क्स अपलोड करने 21 जून से एक्टिव हो जाएगा पोर्टल


    • Hindi News
    • National
    • Board Prepared Software To Evaluate 10th And 12th Results, Instructions Issued To Schools

    नई दिल्ली9 मिनट पहले

    • कॉपी लिंक
    CBSE ने 12वीं का रिजल्ट तैयार करने के लिए 30:30:40 का फॉर्मूला तय किया है। - Dainik Bhaskar

    CBSE ने 12वीं का रिजल्ट तैयार करने के लिए 30:30:40 का फॉर्मूला तय किया है।

    केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने 10वीं और 12वीं बोर्ड एग्जाम के मूल्यांकन योजना के तहत एक विशेष सॉफ्टवेयर तैयार किया है। इसका मकसद स्टूडेंट्स के बीच मार्क्स कैलकुलेशन में पारदर्शिता और सटीकता बनाए रखना है। इसकी जानकारी खुद बोर्ड ने दी है। इसको लेकर बोर्ड से संबंद्ध सभी स्कूलों को सूचना दे दी गई है।

    बोर्ड ने बताया कि 12वीं क्लास के रिजल्ट की गणना के लिए IT सिस्टम विकसित किया जा रहा है। अगले हफ्ते से बोर्ड 10वीं और 12वीं क्लास के रिजल्ट को तैयार करने लिए हेल्प डेस्क भी स्थापित करेगा। IT सिस्टम की मदद से रिजल्ट मूल्यांकन के लिए नंबर अपलोड करने में लगने वाले स्टाफ के समय और मेहनत को बचाने में मदद करेगा।

    बोर्ड ने स्कूलों को जारी किए निर्देश
    बोर्ड की तरफ से संबंद्धित स्कूलों को निर्देश भी जारी किए गए हैं। इसमें कहा गया है कि स्कूल 12वीं के स्टूडेंट के नंबर अपलोड करने से पहले उनके 10वीं के थ्योरी के नंबर तैयार करके रखें। इनमें खासकर उन स्टूडेंट के नंबर होना जरूरी है, जिन्होंने दूसरे बोर्ड या स्कूल से परीक्षा पास की थी।

    इसके अलावा 11वीं के थ्योरी के एग्जाम के मार्क्स और 12वीं के मिड टर्म एग्जाम और प्री बोर्ड परीक्षा के मार्क्स की डिटेल तैयार करके रखी जाए। ताकि ऐन वक्त पर किसी तरह की परेशानी का सामना न करना पड़े।

    21 जून से एक्टिव हो जाएगा पोर्टल
    CBSE ने बताया कि मार्क्स अपलोड करने के लिए पोर्टल 21 जून 2021 से एक्टिव हो जाएगा। CBSE की तरफ से मूल्यांकन के दौरान अंकों को निर्धारित करने के लिए वेबिनार भी आयोजित करेंगे।

    CBSE ने 30:30:40 का फॉर्मूला तैयार किया है
    CBSE ने 12वीं का रिजल्ट तैयार करने के लिए 30:30:40 का फॉर्मूला तय किया है। इसके मुताबिक, किसी भी स्टूडेंट को 10वीं के कुल मार्क्स के 30%, 11वीं के कुल मार्क्स के 30% और 12वीं के यूनिट टेस्ट, मिड टर्म और प्री बोर्ड एग्जाम के कुल मार्क्स के 40% को जोड़ा जाएगा है। इन्हें जोड़कर जो टोटल आएगा, उससे 12वीं के थ्योरी में मिलने वाले टोटल मार्क्स कैलकुलेट किए जाएंगे।

    खबरें और भी हैं…



    Source link

    Bihar Govt Reluctant To Put Covid-19 Death Toll In Public Domain, Resistance Uncalled For: Patna HC


    Patna: The Patna High Court ruled on Friday that the Bihar government refusal to release the state & Covid-19 death toll is unjustified. The observation was made by a division bench
    comprised of Chief Justice Sanjay Karol and Justice S Kumar while hearing a PIL filed by Shivani Kaushik and others regarding Covid management.

    “For whatever reasons, the state government is most reluctant to put the Covid-19 death count in the public domain. In our considered view, the resistance is uncalled for, for such action is neither protected by any law nor is in consonance with settled principles of good governance,” the court said.

    ALSO READ | Studies Show Vaccination Reduces Chances Of Hospitalization By 80 Percent: Govt

    It stated that transparency is the hallmark of good governance, especially in this day and age when both the Centre and the states are committed to the success of Digital India and the National Data Sharing and Accessibility Policy (NDSAP), 2012.

    The court said, “As simple as it can be, the issue is whether more than 10 crore people of Bihar have the right to know, on a digital platform, the number of deaths that occurred in the state during Covid-19 and whether the government has a corresponding duty to disclose either voluntarily or as mandated by law”.

    Bihar revised its death toll from 5,424 to 9,375 earlier this month, adding 3,951 unreported fatalities. The court also ordered the state government to educate residents, particularly those in rural areas, about their right to access information online.



    Source link

    लाइव क्रिकेट स्कोर भारत बनाम न्यूजीलैंड वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल दूसरा दिन लाइव अपडेट हिंदी में – India vs new Zealand wtc final Day 2 live match score updates in hindi ageas bowl in Southampton




    लाइव क्रिकेट स्कोर भारत बनाम न्यूजीलैंड वर्ल्ड टेस्ट चैंपियनशिप फाइनल दूसरा दिन लाइव अपडेट हिंदी में – India vs new Zealand wtc final Day 2 live match score updates in hindi ageas bowl in Southampton – India TV Hindi News





























































    Source link

    Bseb Bihar Board 2021: All Compartment Students Will Get Grace Marks, Total 2.18 Lakh Students Will Pass In 10th And 12th Exam – बिहार बोर्ड का फैसला: फेल होने वाले 2.18 लाख विद्यार्थी होंगे पास, आज 5 बजे आएगा परिणाम


    एजुकेशन डेस्क, अमर उजाला
    Published by: वर्तिका तोलानी
    Updated Sat, 19 Jun 2021 11:41 AM IST

    बिहार बोर्ड रिजल्ट 2021
    – फोटो : Amar Ujala Graphics

    ख़बर सुनें

    बिहार बोर्ड द्वारा 19 जून, 2021 को कक्षा 10वीं और 12वीं के लिए बीएसईबी कंपार्टमेंटल रिजल्ट 2021 को जारी करने का निर्णय लिया गया है। बता दें कि शुक्रवार को बिहार बोर्ड ने कंपार्टमेंट परीक्षा में एक या दो विषयों में फेल हुए कक्षा दसवीं और कक्षा बारहवीं के विद्यार्थियों को अनुत्तीर्ण अंकों के साथ पास करने का फैसला किया था। जिसके बाद अब शनिवार को इनका परिणाम भी जारी किया जा रहा है। इस वर्ष कंपार्टमेंट परीक्षा में शामिल होने वाले विद्यार्थी बिहार बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट results.biharboardonline.com पर जाकर शाम 5 बजे अपना परिणाम देख सकते हैं।

    गौरतलब है कि इस साल कुल 13,40,267 विद्यार्थी कक्षा 12वीं की परीक्षा में शामिल हुए थे, जिनमें से 10,48.846 छात्रों ने परीक्षा उत्तीर्ण की है। यानी कक्षा बारहवीं में 78.26 फीसदी विद्यार्थी पास हुए हैं। वहीं कुल 97,474 विद्यार्थियों ने ग्रेस मार्क्स प्राप्त कर परीक्षा के लिए क्वालीफाई किया है। यानी अब उत्तीर्ण छात्रों की कुल संख्या 11,46,320 और उत्तीर्ण प्रतिशत 85.53 फीसदी हो गया है। इसी तरह, कक्षा 10वीं के लिए, कुल उत्तीर्ण प्रतिशत 78.17 फीसदी से बढ़कर 85.50 फीसदी हो गया है।
     

     

    विस्तार

    बिहार बोर्ड द्वारा 19 जून, 2021 को कक्षा 10वीं और 12वीं के लिए बीएसईबी कंपार्टमेंटल रिजल्ट 2021 को जारी करने का निर्णय लिया गया है। बता दें कि शुक्रवार को बिहार बोर्ड ने कंपार्टमेंट परीक्षा में एक या दो विषयों में फेल हुए कक्षा दसवीं और कक्षा बारहवीं के विद्यार्थियों को अनुत्तीर्ण अंकों के साथ पास करने का फैसला किया था। जिसके बाद अब शनिवार को इनका परिणाम भी जारी किया जा रहा है। इस वर्ष कंपार्टमेंट परीक्षा में शामिल होने वाले विद्यार्थी बिहार बोर्ड की आधिकारिक वेबसाइट results.biharboardonline.com पर जाकर शाम 5 बजे अपना परिणाम देख सकते हैं।


    आगे पढ़ें

    कक्षा दसवीं और बारहवीं में 2 लाख विद्यार्थी होंगे पास





    Source link

    रहने योग्य शहरों की सूची में दिल्‍ली कई राज्‍यों की राजधानी से पीछे, बेंगलुरु पहले स्थान पर


    रहने योग्य शहरों की सूची में दिल्‍ली कई राज्‍यों की राजधानी से पीछे.

    रहने योग्य शहरों की सूची में दिल्‍ली कई राज्‍यों की राजधानी से पीछे.

    ईज ऑफ लिविंग इंडेक्स 2020 (Ease of Living Index 2020) पर किसी भी राज्‍य की राजधानी को नंबर देने के लिए चार मापदंडों का उपयोग किया गया था. इसमें जिंदगी जीने के तरीका, कमाने की क्षमता, स्थिरता और नागरिकों की धारणा को मापदंड बनाया गया था.

    नई दिल्ली. भारत की राजधानियां (Capital) उस राज्‍य के विकास को बताने के लिए एक संकेत की तरह हैं. सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट (CSE) द्वारा जारी एक नई रिपोर्ट में बताया गया है कि किसी भी राज्‍य की राजधानी भारत (India) में रहने के लिए सबसे योग्‍य शहरों में से हैं. हालांकि इस रिपोर्ट में राष्‍ट्रीय राजधानी दिल्‍ली (Delhi) कई राज्‍यों की राजधानी से पीछे नजर आती है. ईज ऑफ लिविंग इंडेक्स 2020 (Ease of Living Index 2020) के अनुसार, दिल्ली इस लिस्‍ट में बेंगलुरु, चेन्नई, शिमला, भुवनेश्वर और मुंबई के बाद छठे स्थान पर है. हालांकि, इस सर्वे के दौरान जब वहां के नागरिकों से जानकारी ली गई तो उन्‍होंने दिल्‍ली को भारत की सबसे खराब राजधानी के रूप में स्‍थान दिया.

    सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट द्वारा जारी एक नई रिपोर्ट के मुताबिक, ईज ऑफ लिविंग इंडेक्स पर किसी भी राज्‍य की राजधानी को नंबर देने के लिए चार मापदंडों का उपयोग किया गया था. इसमें जिंदगी जीने के तरीका, कमाने की क्षमता, स्थिरता और नागरिकों की धारणा को मापदंड बनाया गया था. शहरों को 100 में से सभी चार मापदंडों पर स्कोर दिया गया था. दिल्ली को पहले तीन मापदंडों पर 50 और 60 के बीच और नागरिकों की धारणा सर्वेक्षण पर 69.4 के बीच अंक हासिल हुए. इसकी तुलना में भुवनेश्वर को नागरिकों की धारणा स्कोर 94.8 और जयपुर को 87.1 अंक हासिल हुए.

    बेंगलुरु को समग्र रूप से सर्वश्रेष्ठ शहर के रूप में स्थान दिया गया, उसके बाद चेन्नई का स्थान रहा. सीएसई की रिपोर्ट में कहा गया है, केवल बेंगलुरु को कमाने की क्षमता के लिहाज से बेहतर माना जा सकता. सर्वे में बेंगलुरु को 100 में से 78.8 अंक दिए गए हैं. इसके अलावा चार अन्य राज्य की राजधानियां (चेन्नई, मुंबई, दिल्ली और हैदराबाद) कमाने के लिहाज से मध्‍यम वर्ग में रखा गया है. बाकी सभी को 100 में से 30 से भी कम अंक हासिल हुए हैं.इसे भी पढ़ें :- जम्‍मू-कश्‍मीर को दोबारा राज्‍य का दर्जा देना या विधानसभा चुनाव? क्‍या है पीएम मोदी की बैठक का एजेंडा

    सेंटर फॉर साइंस एंड एनवायरनमेंट की महानिदेशक सुनीता नारायण ने कहा कि भारतीय शहरों के मामले में आंकड़े स्पष्ट रूप से बताते हैं कि उनमें विकास की दिशा अस्थिर है. सभी राज्‍यों और उनके शहरों को विकसित और स्‍मार्ट बनने के लिए अभी लंबा सफर तय करने की जरूरत है. राज्यों की राजधानियों की तुलना में देश की राजधानी दिल्ली को अभी बहुत कुछ करने की जरूरत है.







    Source link

    More Than 120 Mutations Of Covid 19 Found In India Out Of Which 8 Are Very Severe – देश में मिले कोरोना वायरस के 120 से ज्यादा म्यूटेंट में 8 सबसे ज्यादा गंभीर, 14 म्यूटेशन की जांच में जुटे वैज्ञानिक


    वीडियो डेस्क,अमर उजाला.कॉम Published by: उत्कर्ष गहरवार Updated Sat, 19 Jun 2021 12:14 PM IST

    कोरोना वायरस को लेकर देश में अब तक 38 करोड़ से भी ज्यादा सैंपल की जांच हो चुकी है। इसके जरिए पता चला है कि देश में अब तक कोरोना के 120 से ज्यादा म्यूटेशन मिल चुके हैं जिनमें से आठ सबसे गंभीर हैं। 



    Source link

    Translate »