Corona Vaccination: UK now give COVID-19 vaccine to 70 and 70 plus people also – ब्रिटेन में अब 70 साल या इससे अधिक उम्र के लोगों को भी लगेगा कोरोना का टीका..


ब्रिटेन में अब 70 साल या इससे अधिक उम्र के लोगों को भी लगेगा कोरोना का टीका..

ब्रिटेन में 70 साल या इससे अधिक उम्र के लोगों को भी टीका लगाया जाएगा (प्रतीकात्‍मक फोटो)

लंदन :

Covid-19 Vaccination In Britain: ब्रिटेन में अब 70 साल और उससे ज्यादा उम्र तथा कोविड-19 से ज्यादा जोखिम का सामना कर रहे समूह के लोगों को भी टीके (Covid-19 Vaccine) लगाने का निर्णय लिया गया है. राष्ट्रीय स्वास्थ्य सेवा (NHS) ने सोमवार को प्राथमिकता दिए जाने वाले समूहों का विस्तार किया. इससे पहले टीकाकरण व प्रतिरक्षण संबंधी संयुक्त समिति (जेसीवीआई) ने दो समूहों के लोगों को टीका देने की सिफारिश की थी और इसी पर काम करते हुए एनएचएस 80 साल और इससे ज्यादा उम्र के लोगों और स्वास्थ्य क्षेत्र के कर्मचारियों को टीका लगाने के काम में जुटा हुआ था. 

यह भी पढ़ें

कोरोना की भीषण त्रासदी झेल रहे ब्राजील ने दो वैक्सीनों को आपातकालीन मंजूरी दी

इस समूह के लोगों को टीका लगाना अब भी प्राथमिकता है लेकिन वैसे टीकाकरण स्थल जहां इस समूह से ज्यादा लोगों को भी टीका लगाने की क्षमता है और वहां आपूर्ति भी है तो नए समूह के लोगों को टीकाकरण में शामिल किया जा सकता है.

 ब्रिटेन के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन (PM Boris Johnson) ने कहा, ‘‘आज (सोमवार) हमारे टीकाकरण अभियान का अहम दिन है क्योंकि हम अब उन लाखों लोगों के लिए भी टीकाकरण अभियान शुरू कर रहे हैं, जो कोविड-19 के लिहाज से ज्यादा जोखिम वाले दायरे में हैं.” 

उन्होंने कहा, ‘‘ अब हम एक मिनट में 140 टीके लगा रहे हैं और मैं इस राष्ट्रीय कोशिश में शामिल सभी लोगों का शुक्रिया अदा करना चाहता हूं. हमें अभी काफी दूर जाना है और आगे काफी चुनौतियां हैं लेकिन साथ काम करके हम कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में आगे बढ़ रहे हैं.”

Newsbeep

क्या कोरोना वायरस वैक्सीन के साइड इफेक्ट से डरे हुए हैं लोग

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

Kremlin Critic At Court Hearing After Airport Arrest


'Mockery Of Justice': Kremlin Critic At Court Hearing After Airport Arrest

“This is ultimate lawlessness,” Alexei Navalny said.

Moscow, Russia:

Russian opposition leader Alexei Navalny said Monday his treatment was beyond a “mockery of justice” as he was brought before a hastily organised court a day after his dramatic airport arrest.

With calls growing in the West for Navalny’s release, he was brought into a courtroom set up at a police station in Khimki on the outskirts of Moscow where he was taken following his detention on Sunday night.

Police seized Navalny, President Vladimir Putin’s most prominent opponent, at a border control post at Moscow’s Sheremetyevo airport less than an hour after he returned to Russia from Germany for the first time since he was poisoned with a nerve agent in August.

In a video posted by his team from inside the hearing, an incredulous Navalny said he did not understand how a court session could take place at a police station and why no one had been notified until the last minute.

“I’ve seen a lot of mockery of justice, but the old man in the bunker (Putin) is so afraid that they have blatantly torn up and thrown away” Russia’s criminal code, Navalny said.

“This is ultimate lawlessness.”

“Amazing absurdity”

In another video, Navalny called for the hearing to be open to all journalists, after only pro-Kremlin media were allowed to attend.

“I demand that this procedure be as open as possible, so that all media have the opportunity to observe the amazing absurdity of what is happening here,” he said.

About 100 people, mostly journalists, had gathered in the snow outside the police station and several police vans were waiting nearby with their engines running.

Russia’s FSIN prison service said Sunday that it had detained Navalny, 44, for violating the terms of a suspended sentence he was given in 2014, on fraud charges he says were politically motivated.

Navalny is also facing potential new criminal charges under a probe launched late last year by Russian investigators who say he misappropriated over $4 million worth of donations.

The leading Kremlin critic emerged a decade with his Anti-Corruption Foundation publishing anti-graft investigations that often reveal the lavish lifestyles of the Russian elite.

He has repeatedly led large-scale street protests against Putin, most recently in the summer of 2019, and was gearing up for another challenge to authorities during elections to the lower house State Duma in September.

Newsbeep

He was evacuated to Germany after falling violently ill on a flight over Siberia in August from what Western experts eventually concluded was a poisoning with Soviet-designed nerve agent Novichok.

Navalny accused Putin of ordering the attack, a claim the Kremlin vehemently denies. Russian police have not opened an investigation citing a lack of evidence.

Western condemnation

His arrest on Sunday drew widespread Western condemnation, with the United States, European Union, France and Canada all calling for his release.

Others joined that call on Monday, with EU chief Ursula von der Leyen saying Russian authorities should “immediately release him and ensure his safety”.

The United Nations human rights office said it was “deeply troubled” by the arrest, while German Foreign Minister Heiko Maas said it was “totally incomprehensible”.

Britain’s Foreign Secretary Dominic Raab condemned the detention as “appalling”.

“He must be immediately released. Rather than persecuting Mr Navalny Russia should explain how a chemical weapon came to be used on Russian soil,” Raab wrote on Twitter.

Navalny was poisoned with the same chemical said to have been used in the attempted murder of former spy Sergei Skripal in the English town of Salisbury in 2018.

Russia has hit back at the condemnation, with Foreign Minister Sergei Lavrov on Monday saying it was an attempt to distract attention from domestic problems in Western countries.

“It looks like Western politicians see this as an opportunity to divert attention from the deepest crisis the liberal development model has found itself in,” he said.

Russia frequently accuses the West of unfair criticism of its domestic policies pointing to divisions in Western countries like those that led to the storming of the US Capitol or the Yellow Vests protests in France.

(Except for the headline, this story has not been edited by NDTV staff and is published from a syndicated feed.)



Source link

alexei navalny arrested in Moscow विपक्षी नेता को पहले दिया जहर, ठीक होकर लौटा तो कर लिया गिरफ्तार, कई देश हुए नाराज




alexei navalny arrested in Moscow विपक्षी नेता को पहले दिया जहर, ठीक होकर लौटा तो कर लिया गिरफ्तार, कई देश हुए नाराज – India TV Hindi News





























































Source link

US House of Representatives passes impeachment motion against Donald Trump – US: डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ दूसरी बार महाभियोग प्रस्ताव पारित, 10 रिपब्लिकन सांसद भी खिलाफ


US: डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ दूसरी बार महाभियोग प्रस्ताव पारित, 10 रिपब्लिकन सांसद भी खिलाफ

10 रिपब्लिकन सांसदों ने भी महाभियोग के समर्थन में वोट दिया. (फाइल फोटो)

खास बातें

  • ट्रंप के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव पारित
  • दूसरी बार पारित हुआ महाभियोग प्रस्ताव
  • कैपिटोल हिल्स में 6 जनवरी को हुई थी हिंसा

वॉशिंगटन:

डेमोक्रेटिक-नियंत्रित अमेरिकी प्रतिनिधि सभा (House of Representatives) ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) के खिलाफ दूसरे महाभियोग (Impeachment against Trump) पर बहस के बाद महाभियोग प्रस्ताव को पास कर दिया है. 197 के मुकाबले 232 वोटों से महाभियोग प्रस्ताव पारित हो गया.10 रिपब्लिकन सांसदों ने भी महाभियोग के पक्ष में वोट दिया. अब सीनेट में 19 जनवरी को ये प्रस्ताव लाया जाएगा. दरअसल ट्रंप समर्थकों द्वारा अमेरिकी संसद भवन कैपिटोल हिल्स (Capitol Hills Violence) में जबरन घुसने और हिंसा को लेकर ट्रंप के खिलाफ यह प्रस्ताव लाया गया.

यह भी पढ़ें

डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका के इतिहास में ऐसे पहले राष्ट्रपति बन गए हैं, जिनके खिलाफ एक ही कार्यकाल में दो बार महाभियोग प्रस्ताव पारित हुआ है. इससे पहले अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने एक प्रस्ताव पारित करके देश के निवर्तमान उपराष्ट्रपति माइक पेंस से अपील की थी कि वह डोनाल्ड ट्रंप को पद से हटाने के लिए 25वां संशोधन लागू करें. इस प्रस्ताव को मंगलवार को 205 के मुकाबले 223 मतों से पारित किया गया था.

डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिकी जनता से ‘एकजुट’ रहने की अपील की, महाभियोग का नहीं किया जिक्र

प्रस्ताव में माइक पेंस से अपील की गई थी कि वह कैबिनेट से 25वां संधोशन लागू करने को कहें. इस संशोधन को पूर्व राष्ट्रपति जॉन एफ केनेडी की हत्या के मद्देनजर 50 साल से अधिक समय पहले पारित किया गया था. इसके अनुसार, यदि कोई व्यक्ति राष्ट्रपति पद पर सेवा देने उपयुक्त नहीं रह जाता, तो उसकी जगह किसी और की नियुक्त किए जाने का प्रावधान करने के लिए इस संशोधन का इस्तेमाल किया जाता है.

डोनाल्‍ड ट्रंप बोले, ’25वें संशोधन से मुझे खतरा नहीं, नए राष्‍ट्रपति बाइडेन के लिए जरूर बन सकता है यह खतरा’

कैपिटोल हिल्स पर हुए हमले के बाद तमाम सोशल मीडिया मंचों द्वारा प्रतिबंधित किए जाने के बाद अमेरिका के निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप  ने कहा है कि देश में अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पहले कभी इतने खतरे में नहीं थी. ट्रंप ने कहा, ‘‘अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता पहले कभी इतने खतरे में नहीं थी. मुझे 25वें संशोधन से जरा सा भी खतरा नहीं है, लेकिन नवनिर्वाचित राष्ट्रपति जो बाइडेन (Joe Biden) और उनके प्रशासन के लिए यह आगे खतरा जरूर बन सकता है.”

Facebook और Twitter के बाद YouTube पर भी बैन हुए Donald J. Trump

Newsbeep

उन्होंने आगे कहा, ‘‘देश के इतिहास में जानबूझकर किसी (ट्रंप) को परेशान करने के सबसे निंदनीय कृत्य को आगे बढ़ाते हुए महाभियोग का इस्तेमाल किया जा रहा है और इससे काफी गुस्से एवं विभाजन की स्थिति उत्पन्न हो रही है. इसका दर्द इतना अधिक है कि कुछ लोग इसे समझ भी नहीं सकते, जो कि खासकर इस नाजुक समय में अमेरिका के लिए बेहद खतरनाक है.”

VIDEO: खबरों की खबर : अमेरिका में सियासी हिंसा की आग



Source link

Snapchat Bans US President Donald Trump Permanently From Site


Snapchat Bans Donald Trump Permanently From Site

Operators fear that Donald Trump could use Snapchat to foment more unrest during Joe Biden’s inauguration

San Francisco:

Image-centric social network Snapchat on Wednesday said it has permanently banned US President Donald Trump from the platform, as voices are raised against keeping him off the internet stage.

Trump’s access to social media has been largely cut off since a violent mob of his supporters stormed the Capitol in Washington DC in a deadly attack on January 6.

Operators fear that Trump could use his Snapchat account to foment more unrest in the run-up to President-elect Joe Biden’s inauguration.

“Last week we announced an indefinite suspension of president Trump’s Snapchat account,” Snapchat said in response to an AFP inquiry.

“In the interest of public safety, and based on his attempts to spread misinformation, hate speech, and incite violence, which are clear violations of our guidelines, we have made the decision to permanently terminate his account.”

After the attack on the Capitol by Trump supporters, social media including Facebook, Twitter, and YouTube began to bar him from using their platforms.

Google and Apple pulled Parler apps from their shops for digital content shops stating that the right-leaning social network was allowing users to promote violence.

Amazon Web Services later ousted Parler from its data-centers, essentially forcing the social network offline due to lack of hosting services.

Newsbeep

“I do not celebrate or feel pride in our having to ban real DonaldTrump from Twitter, or how we got here,” Twitter chief Jack Dorsey wrote in a tweet Wednesday.

“After a clear warning we’d take this action, we made a decision with the best information we had based on threats to physical safety both on and off Twitter.”

The actions angered ardent defenders of Trump, who was impeached by the House of Representatives on Wednesday was for inciting “insurrection.”

Texas attorney general Ken Paxton on Wednesday said he is demanding that Amazon, Apple, Facebook, Google and Twitter explain why Trump is not welcomed on their platforms.

Paxton maintained that the “seemingly coordinated de-platforming” of Trump “silences those whose speech and political beliefs do not align with leaders of Big Tech companies.”

The state attorney issued administrative subpoenas calling on the technology companies to share their policies and practices regarding content moderation as well as for information directly related to Parler social network.

(Except for the headline, this story has not been edited by NDTV staff and is published from a syndicated feed.)





Source link

Donald Trumps impeachment Wednesday confirmed that no one is above the law, says- US House Speaker Nancy Pelosi – कानून से ऊपर कोई नहीं, ट्रंप के खिलाफ महाभियोग पारित होने पर बोलीं स्पीकर नैंसी पलोसी


'कानून से ऊपर कोई नहीं', ट्रंप के खिलाफ महाभियोग पारित होने पर बोलीं स्पीकर नैंसी पलोसी

वाशिंगटन:

13 महीने में दूसरी बार महाभियोग का सामना कर रहे रिपब्लिकन राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) के खिलाफ निचले सदन हाउस ऑफ रिप्रेजेन्टेटिव्स से महाभियोग प्रस्ताव पारित होने के बाद सदन की स्पीकर नैन्सी पेलोसी (Speaker Nancy Pelosi) ने बुधवार को कहा कि सदन की कार्यवाही ने साबित कर दिया है कि “कोई भी कानून से ऊपर नहीं है.”

अमेरिकी संसद ‘कांग्रेस’ के शीर्ष डेमोक्रेट ने एक समारोह में कहा, ” द्विदलीय तरीके से आज सदन ने प्रदर्शित किया कि कोई भी कानून से ऊपर नहीं है,  संयुक्त राज्य अमेरिका का राष्ट्रपति भी नहीं.

US: डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ दूसरी बार महाभियोग प्रस्ताव पारित, 10 रिपब्लिकन सांसद भी खिलाफ

74 वर्षीय ट्रम्प पर “राजद्रोह के लिए लोगों को उकसाने” के आरोपों पर महाभियोग लगाया गया था. उन्होंने अपने समर्थकों को 6 जनवरी को अमेरिकी संसद भवन कैपिटॉल हिल के पास हंगामा और हिंसा के लिए भीड़ को उकसाया था जिसने संसद भवन पर आक्रमण कर दिया था और वहां हिंसा फैलाई थी.

Newsbeep

डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिकी जनता से ‘एकजुट’ रहने की अपील की, महाभियोग का नहीं किया जिक्र

डोनाल्ड ट्रंप अमेरिका के इतिहास में ऐसे पहले राष्ट्रपति बन गए हैं, जिनके खिलाफ एक ही कार्यकाल में दो बार महाभियोग प्रस्ताव पारित हुआ है. इससे पहले अमेरिकी प्रतिनिधि सभा ने एक प्रस्ताव पारित करके देश के निवर्तमान उपराष्ट्रपति माइक पेंस से अपील की थी कि वह डोनाल्ड ट्रंप को पद से हटाने के लिए 25वां संशोधन लागू करें. इस प्रस्ताव को मंगलवार को 205 के मुकाबले 223 मतों से पारित किया गया था.



Source link

Donald Trump May Hire Lawyer Who Spoke At Rally Before Capitol Violence: Report


Trump May Hire Lawyer Who Spoke At Rally Before Capitol Violence: Report

Giuliani’s own pressure on Ukraine helped lead to Trump’s impeachment trial.

President Donald Trump may hire a law professor who spoke at his rally before the riot at the U.S. Capitol to help defend him in an impeachment trial over a charge that he incited the violence, according to two people familiar with the matter.

John Eastman, who joined Trump’s personal lawyer Rudy Giuliani on stage at the Jan. 6 rally, is being considered for a role on Trump’s defense team, the people said.

Giuliani, 76, who told the crowd they should engage in “trial by combat,” may lead the impeachment defense, Reuters reported on Sunday, citing a source. Giuliani has not responded to requests for comment.

Eastman, 60, who made unsubstantiated claims of election fraud at the rally, would neither confirm nor deny whether he will represent Trump, citing attorney-client privilege.

Asked whether he would be willing, Eastman said: “If the President of the United States asked me to consider helping him, I would certainly give it consideration.”

The White House did not immediately respond to a request for comment on Eastman and has declined to comment on Giuliani.

The U.S. House of Representatives on Wednesday made Trump the first U.S. president to be impeached twice, charging him with inciting an insurrection as lawmakers sought to certify President-elect Joe Biden’s victory in the Nov. 3 election.

A former clerk to U.S. Supreme Court Justice Clarence Thomas, Eastman represented Trump last month in unsuccessful challenges to the election.

At the rally, Eastman, who until Wednesday was a professor at Chapman University in California, spoke about “secret folders” of ballots used to defraud the election before Trump took the stage and repeated the discredited claim that the election was stolen from him.

Faculty members and students, among others, subsequently called for Chapman to fire Eastman. In a statement on Wednesday, the university president said an agreement had been reached under which Eastman would immediately retire from Chapman.

Eastman told Reuters he did not believe he did anything wrong. He does not think Trump has culpability, either. “None, whatsoever,” he said.

Newsbeep

Eastman came under fire last summer for an op-ed he wrote in Newsweek that questioned whether Vice President-elect Kamala Harris was eligible to serve because her parents were not U.S. citizens or permanent residents.

Newsweek later apologized for publishing the piece.

Trump may have a tough time retaining legal talent. He has had trouble hiring lawyers since former Special Counsel Robert Mueller’s probe of Russian interference in the 2016 presidential election, and the widespread condemnation of the violence at the Capitol and pressure from anti-Trump groups may discourage others from signing up.

Trump was impeached by the Democratic-led House in 2019 on charges that he pressured Ukraine’s president to announce an investigation of his rival Biden, but was acquitted by the Republican-led Senate in February 2020.

Giuliani’s own pressure on Ukraine helped lead to Trump’s impeachment trial.

White House counsel Pat Cipollone, who helped lead the defense effort during the impeachment over Ukraine, is not expected to participate in the latest effort, according to one person familiar with the matter. Cipollone will leave his post on Jan. 20, when Biden becomes president.

Jay Sekulow, another personal lawyer for Trump who played a role during the first impeachment, also is not expected to be involved.

John Yoo, a conservative legal scholar who also clerked for Thomas and worked in the Department of Justice during the George W. Bush administration, said on Wednesday he did not think Trump would want him to represent him.

“I think he committed impeachable acts,” said Yoo, although he added that he thought incitement was the wrong grounds and “the Senate should not convict him.”

(Except for the headline, this story has not been edited by NDTV staff and is published from a syndicated feed.)



Source link

विजय माल्या को झटका, नहीं मिली ब्रिटेन के दिवालिया मुकदमे में अपील करने की इजाजत



शराब कारोबारी विजय माल्या को बुधवार को ब्रिटेन उच्च न्यायालय के एक आदेश के खिलाफ अपील करने की इजाजत नहीं मिली, जिसमें अदालत ने बंद हो चुकी किंगफिशर एयरलाइंस के कर्ज के संबंध में शुरू की गई दिवालिया कार्रवाई को खारिज करने से इनकार किया था।



Source link

Important role of this Indian woman in closing Donald Trumps Twitter account – डोनाल्ड ट्रंप का ट्विटर एकाउंट बंद करने में इस भारतवंशी महिला की अहम भूमिका


डोनाल्ड ट्रंप का ट्विटर एकाउंट बंद करने में इस भारतवंशी महिला की अहम भूमिका

माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर की शीर्ष अधिवक्ता भारतवंशी विजया गड्डे.

न्यूयॉर्क:

अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप (Donald Trump) का ट्विटर (Twitter) एकाउंट स्थाई रूप से निलंबित करने के अभूतपूर्व फैसले के पीछे इस माइक्रोब्लॉगिंग साइट की शीर्ष अधिवक्ता भारतवंशी विजया गड्डे (Vijaya Gadde) की भूमिका प्रमुख थी. यह फैसला अमेरिकी संसद भवन में निवर्तमान राष्ट्रपति के समर्थकों के हमले की घटना के बाद लिया गया था. हैदराबाद में जन्मीं 45 वर्षीय गड्डे ट्विटर के कानून, लोक नीति एवं विश्वास तथा सुरक्षा की प्रमुख हैं.

यह भी पढ़ें

शुक्रवार को गड्डे ने ट्वीट किया कि ट्रंप के एकाउंट को ‘‘और हिंसा के जोखिम को देखते हुए ट्विटर से स्थाई रूप से निलंबित किया जाता है.” जब ट्रंप का एकाउंट निलंबित किया गया उस वक्त उनके 8.87 करोड़ फॉलोवर थे तथा वह खुद 51 लोगों को फॉलो करते थे.

Newsbeep

गड्डे की ट्विटर प्रोफाइल के मुताबिक 2011 में इस कंपनी से जुड़ने से पहले वह अमेरिकी कंपनी जूनिपर नेटवर्क्स में वरिष्ठ विधिक निदेशक थीं. वह न्यूयार्क यूनिवर्सिटी लॉ स्कूल के न्यासी बोर्ड में भी रह चुकी हैं. उनका बचपन टेक्सास और न्यूजर्सी में बीता है.





Source link

Apple Chief Tim Cook Calls For Accountability In US Capitol Violence: Report


Apple Chief Calls For Accountability In US Capitol Violence: Report

Apple chief Tim Cook said no one is above the law. (File)

San Francisco:

Apple chief Tim Cook says he wants those involved with the deadly attack on the US Capitol last week to be held accountable, even if that includes US President Donald Trump.

“Everyone that had a part in it needs to be held accountable,” Cook said in a CBS This Morning interview posted online Tuesday.

“I think no one is above the law. We’re a rule of law country.”

The remarks came during an interview that was arranged with Cook at Apple headquarters in Silicon Valley to discuss an announcement being made by the company on Wednesday.

Cook did not specifically mention Trump, but said that anyone with a role in the insurrection should be held accountable under the law.

“I don’t think we should let it go,” Cook said.

“This is something we’ve got to be serious about. I think holding people accountable is important.”

Newsbeep

Tech giants Amazon, Apple and Google have all cut ties with Parler, the social media platform popular with some conservatives.

The three mega-corporations have accused the platform of continuing to post messages inciting violence even after the Jan 6 assault on the US Capitol by supporters of Trump.

Twitter has suspended the president’s main account for the same reason.

Trump’s accounts have also been suspended by other big social media outlets including Facebook, Instagram, Snapchat and Twitch in the wake of the violence in the Capitol.

(Except for the headline, this story has not been edited by NDTV staff and is published from a syndicated feed.)



Source link

विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा, टीकाकरण के बावजूद 2021 में ‘हर्ड इम्यूनिटी’ बनने की संभावना कम



WHO के महानिदेशक के सलाहकार डॉक्टर ब्रूस एल्वर्ड ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र स्वास्थ्य एजेंसी को उम्मीद है कि विश्व के कुछ गरीब देशों में इस माह के अंत या फरवरी में कोरोना वायरस का टीकाकरण शुरू हो सकता है।



Source link

What I said was totally appropriate, Says Donald Trump on his Speech Before US Capitol Siege – डोनाल्ड ट्रम्प ने अमेरिकी कैपिटोल की घेराबंदी से पहले दिए अपने भाषण पूरी तरह से उचित बताया


ऐसे में जब उनके कार्यकाल के केवल 8 दिन शेष बचे हैं, ट्रंप खुद को अकेला पा रहे हैं, पूर्व सहयोगियों ने उन्हें छोड़ दिया है, सोशल मीडिया पर उनपर प्रतिबंध लग गया है, और अब 6 जनवरी को कांग्रेस के ख‍िलाफ दंगा भड़काने के आरोप में वो दूसरी बार महाभ‍ियोग का सामना कर रहे हैं.

टेक्सास के अलामो की उनकी यह यात्रा, जहां वह अमेरिका-मेक्सिको सीमा पर दीवार बनाने में सफलता का दावा करेंगे, कांग्रेस की ओर मार्च करने के लिए अपने हजारों समर्थकों को इकट्ठा करने के बाद यह उनकी पहली लाइव सार्वजनिक उपस्थिति है.

3 नवंबर को हुए चुनावों के बाद, रियल एस्टेट टाइकून सनकी तरीके से इस झूठ को हवा देते रहे हैं कि डेमोक्रेट जो बाइडेन नहीं बल्क‍ि चुनाव में उनकी जीत हुई है, और पिछले हफ्ते अपनी ताकत दिखाने के लिए उन्होंने जो भारी भीड़ इकट्ठा की, उसे उन्होंने पूरी तरह जायज ठहराया.

ट्रंप के भाषण के बाद भीड़ कांग्रेस में घुस गई, पुलिस से लड़ते हुए और दफ्तरों को तहस नहस करते हुए डरे हुए सांसदों को उस कार्यक्रम को रद्द करने के लिए मजबूर किया जिसमें बाइडेन की जीत पर कानूनी मुहर लगनी थी.

उन्होंने अब तक ना तो बाइडेन को बधाई दी है और ना ही अपने समर्थकों से भावी राष्ट्रपति के समर्थन देने को कहा है जो कि 20 जनवरी को शपथ लेंगे – जिसे अमेरिकी चुनाव के बाद राजनीतिक एकजुटता दिखाने का भाव समझा जाता है.

और एक्सियोस के अनुसार, ट्रंप और प्रतिनिधि सभा में शीर्ष रिपब्लिकन केविन मैकार्थी के बीच मंगलवार को फोन पर बातचीत की, जिसमें ट्रंप ने दावा किया कि उनके समर्थकों ने नहीं बल्क‍ि वामपंथी एंटिफा कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस पर हमला किया.

मैकार्थी ने कहा कि ‘ये एंटिफा नहीं थे, मैं जानता हूं, मैं वहीं था.’

Newsbeep

जब ट्रंप ने अपनी कॉन्सपिरेसी थ‍ियरी जारी रखी कि चुनाव के असली विजेता वही हैं, मैकार्थी ने उन्हें टोकते हुए कहा, ‘बस करो, बहुत हो चुका, चुनाव खत्म हो चुके हैं.’

डोनाल्ड ट्रंप पर तख्तापलट का आरोप, कैपिटल हिल्स हिंसा में 4 की मौत

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

What I said was totally appropriate, Says Donald Trump on his Speech Before US Capitol Siege – डोनाल्ड ट्रम्प ने अमेरिकी कैपिटोल की घेराबंदी से पहले दिए अपने भाषण पूरी तरह से उचित बताया


ऐसे में जब उनके कार्यकाल के केवल 8 दिन शेष बचे हैं, ट्रंप खुद को अकेला पा रहे हैं, पूर्व सहयोगियों ने उन्हें छोड़ दिया है, सोशल मीडिया पर उनपर प्रतिबंध लग गया है, और अब 6 जनवरी को कांग्रेस के ख‍िलाफ दंगा भड़काने के आरोप में वो दूसरी बार महाभ‍ियोग का सामना कर रहे हैं.

टेक्सास के अलामो की उनकी यह यात्रा, जहां वह अमेरिका-मेक्सिको सीमा पर दीवार बनाने में सफलता का दावा करेंगे, कांग्रेस की ओर मार्च करने के लिए अपने हजारों समर्थकों को इकट्ठा करने के बाद यह उनकी पहली लाइव सार्वजनिक उपस्थिति है.

3 नवंबर को हुए चुनावों के बाद, रियल एस्टेट टाइकून सनकी तरीके से इस झूठ को हवा देते रहे हैं कि डेमोक्रेट जो बाइडेन नहीं बल्क‍ि चुनाव में उनकी जीत हुई है, और पिछले हफ्ते अपनी ताकत दिखाने के लिए उन्होंने जो भारी भीड़ इकट्ठा की, उसे उन्होंने पूरी तरह जायज ठहराया.

ट्रंप के भाषण के बाद भीड़ कांग्रेस में घुस गई, पुलिस से लड़ते हुए और दफ्तरों को तहस नहस करते हुए डरे हुए सांसदों को उस कार्यक्रम को रद्द करने के लिए मजबूर किया जिसमें बाइडेन की जीत पर कानूनी मुहर लगनी थी.

उन्होंने अब तक ना तो बाइडेन को बधाई दी है और ना ही अपने समर्थकों से भावी राष्ट्रपति के समर्थन देने को कहा है जो कि 20 जनवरी को शपथ लेंगे – जिसे अमेरिकी चुनाव के बाद राजनीतिक एकजुटता दिखाने का भाव समझा जाता है.

और एक्सियोस के अनुसार, ट्रंप और प्रतिनिधि सभा में शीर्ष रिपब्लिकन केविन मैकार्थी के बीच मंगलवार को फोन पर बातचीत की, जिसमें ट्रंप ने दावा किया कि उनके समर्थकों ने नहीं बल्क‍ि वामपंथी एंटिफा कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस पर हमला किया.

मैकार्थी ने कहा कि ‘ये एंटिफा नहीं थे, मैं जानता हूं, मैं वहीं था.’

Newsbeep

जब ट्रंप ने अपनी कॉन्सपिरेसी थ‍ियरी जारी रखी कि चुनाव के असली विजेता वही हैं, मैकार्थी ने उन्हें टोकते हुए कहा, ‘बस करो, बहुत हो चुका, चुनाव खत्म हो चुके हैं.’

डोनाल्ड ट्रंप पर तख्तापलट का आरोप, कैपिटल हिल्स हिंसा में 4 की मौत

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

What I said was totally appropriate, Says Donald Trump on his Speech Before US Capitol Siege – डोनाल्ड ट्रम्प ने अमेरिकी कैपिटोल की घेराबंदी से पहले दिए अपने भाषण पूरी तरह से उचित बताया


ऐसे में जब उनके कार्यकाल के केवल 8 दिन शेष बचे हैं, ट्रंप खुद को अकेला पा रहे हैं, पूर्व सहयोगियों ने उन्हें छोड़ दिया है, सोशल मीडिया पर उनपर प्रतिबंध लग गया है, और अब 6 जनवरी को कांग्रेस के ख‍िलाफ दंगा भड़काने के आरोप में वो दूसरी बार महाभ‍ियोग का सामना कर रहे हैं.

टेक्सास के अलामो की उनकी यह यात्रा, जहां वह अमेरिका-मेक्सिको सीमा पर दीवार बनाने में सफलता का दावा करेंगे, कांग्रेस की ओर मार्च करने के लिए अपने हजारों समर्थकों को इकट्ठा करने के बाद यह उनकी पहली लाइव सार्वजनिक उपस्थिति है.

3 नवंबर को हुए चुनावों के बाद, रियल एस्टेट टाइकून सनकी तरीके से इस झूठ को हवा देते रहे हैं कि डेमोक्रेट जो बाइडेन नहीं बल्क‍ि चुनाव में उनकी जीत हुई है, और पिछले हफ्ते अपनी ताकत दिखाने के लिए उन्होंने जो भारी भीड़ इकट्ठा की, उसे उन्होंने पूरी तरह जायज ठहराया.

ट्रंप के भाषण के बाद भीड़ कांग्रेस में घुस गई, पुलिस से लड़ते हुए और दफ्तरों को तहस नहस करते हुए डरे हुए सांसदों को उस कार्यक्रम को रद्द करने के लिए मजबूर किया जिसमें बाइडेन की जीत पर कानूनी मुहर लगनी थी.

उन्होंने अब तक ना तो बाइडेन को बधाई दी है और ना ही अपने समर्थकों से भावी राष्ट्रपति के समर्थन देने को कहा है जो कि 20 जनवरी को शपथ लेंगे – जिसे अमेरिकी चुनाव के बाद राजनीतिक एकजुटता दिखाने का भाव समझा जाता है.

और एक्सियोस के अनुसार, ट्रंप और प्रतिनिधि सभा में शीर्ष रिपब्लिकन केविन मैकार्थी के बीच मंगलवार को फोन पर बातचीत की, जिसमें ट्रंप ने दावा किया कि उनके समर्थकों ने नहीं बल्क‍ि वामपंथी एंटिफा कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस पर हमला किया.

मैकार्थी ने कहा कि ‘ये एंटिफा नहीं थे, मैं जानता हूं, मैं वहीं था.’

Newsbeep

जब ट्रंप ने अपनी कॉन्सपिरेसी थ‍ियरी जारी रखी कि चुनाव के असली विजेता वही हैं, मैकार्थी ने उन्हें टोकते हुए कहा, ‘बस करो, बहुत हो चुका, चुनाव खत्म हो चुके हैं.’

डोनाल्ड ट्रंप पर तख्तापलट का आरोप, कैपिटल हिल्स हिंसा में 4 की मौत

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

What I said was totally appropriate, Says Donald Trump on his Speech Before US Capitol Siege – डोनाल्ड ट्रम्प ने अमेरिकी कैपिटोल की घेराबंदी से पहले दिए अपने भाषण पूरी तरह से उचित बताया


ऐसे में जब उनके कार्यकाल के केवल 8 दिन शेष बचे हैं, ट्रंप खुद को अकेला पा रहे हैं, पूर्व सहयोगियों ने उन्हें छोड़ दिया है, सोशल मीडिया पर उनपर प्रतिबंध लग गया है, और अब 6 जनवरी को कांग्रेस के ख‍िलाफ दंगा भड़काने के आरोप में वो दूसरी बार महाभ‍ियोग का सामना कर रहे हैं.

टेक्सास के अलामो की उनकी यह यात्रा, जहां वह अमेरिका-मेक्सिको सीमा पर दीवार बनाने में सफलता का दावा करेंगे, कांग्रेस की ओर मार्च करने के लिए अपने हजारों समर्थकों को इकट्ठा करने के बाद यह उनकी पहली लाइव सार्वजनिक उपस्थिति है.

3 नवंबर को हुए चुनावों के बाद, रियल एस्टेट टाइकून सनकी तरीके से इस झूठ को हवा देते रहे हैं कि डेमोक्रेट जो बाइडेन नहीं बल्क‍ि चुनाव में उनकी जीत हुई है, और पिछले हफ्ते अपनी ताकत दिखाने के लिए उन्होंने जो भारी भीड़ इकट्ठा की, उसे उन्होंने पूरी तरह जायज ठहराया.

ट्रंप के भाषण के बाद भीड़ कांग्रेस में घुस गई, पुलिस से लड़ते हुए और दफ्तरों को तहस नहस करते हुए डरे हुए सांसदों को उस कार्यक्रम को रद्द करने के लिए मजबूर किया जिसमें बाइडेन की जीत पर कानूनी मुहर लगनी थी.

उन्होंने अब तक ना तो बाइडेन को बधाई दी है और ना ही अपने समर्थकों से भावी राष्ट्रपति के समर्थन देने को कहा है जो कि 20 जनवरी को शपथ लेंगे – जिसे अमेरिकी चुनाव के बाद राजनीतिक एकजुटता दिखाने का भाव समझा जाता है.

और एक्सियोस के अनुसार, ट्रंप और प्रतिनिधि सभा में शीर्ष रिपब्लिकन केविन मैकार्थी के बीच मंगलवार को फोन पर बातचीत की, जिसमें ट्रंप ने दावा किया कि उनके समर्थकों ने नहीं बल्क‍ि वामपंथी एंटिफा कार्यकर्ताओं ने कांग्रेस पर हमला किया.

मैकार्थी ने कहा कि ‘ये एंटिफा नहीं थे, मैं जानता हूं, मैं वहीं था.’

Newsbeep

जब ट्रंप ने अपनी कॉन्सपिरेसी थ‍ियरी जारी रखी कि चुनाव के असली विजेता वही हैं, मैकार्थी ने उन्हें टोकते हुए कहा, ‘बस करो, बहुत हो चुका, चुनाव खत्म हो चुके हैं.’

डोनाल्ड ट्रंप पर तख्तापलट का आरोप, कैपिटल हिल्स हिंसा में 4 की मौत

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

US Vice President Mike Pence Rejects 25th Amendment To Oust Donald Trump


US Vice President Mike Pence Rejects 25th Amendment To Oust Donald Trump

Washington:

US Vice President Mike Pence on Tuesday told House leaders he does not support invoking the 25th Amendment process to remove Donald Trump, all but guaranteeing an imminent impeachment vote against the president.

“With just eight days left in the President’s term, you and the Democratic Caucus are demanding that the Cabinet and I invoke the 25th Amendment,” Pence wrote to House Speaker Nancy Pelosi, referring to the process that would declare Trump unable to fulfill his duties and install Pence as acting president for the remainder of the term.

“I do not believe that such a course of action is in the best interest of our nation or consistent with our Constitution,” he said, hours before the House was to vote on a measure calling on him to initiate the 25th Amendment process or risk an impeachment vote against Trump.

Newsbeep

(Except for the headline, this story has not been edited by NDTV staff and is published from a syndicated feed.)



Source link

US Vice President Mike Pence Rejects 25th Amendment To Oust Donald Trump


US Vice President Mike Pence Rejects 25th Amendment To Oust Donald Trump

Washington:

US Vice President Mike Pence on Tuesday told House leaders he does not support invoking the 25th Amendment process to remove Donald Trump, all but guaranteeing an imminent impeachment vote against the president.

“With just eight days left in the President’s term, you and the Democratic Caucus are demanding that the Cabinet and I invoke the 25th Amendment,” Pence wrote to House Speaker Nancy Pelosi, referring to the process that would declare Trump unable to fulfill his duties and install Pence as acting president for the remainder of the term.

“I do not believe that such a course of action is in the best interest of our nation or consistent with our Constitution,” he said, hours before the House was to vote on a measure calling on him to initiate the 25th Amendment process or risk an impeachment vote against Trump.

Newsbeep

(Except for the headline, this story has not been edited by NDTV staff and is published from a syndicated feed.)



Source link

गोताखोरों ने ढूढ़ निकाला दुर्घटनाग्रस्त इंडोनेशियाई विमान का ‘ब्लैक बॉक्स’, इंसानों के अवशेष मिले



इंडोनेशिया के जावा समुद्र में लापता हुए विमान का ब्लैक बॉक्स मिल गया है। इंडोनेशियाई नौसेना के गोताखोरों ने श्रीविजय विमान का ब्लैक बॉक्स तलाश लिया है। यह विमान जावा सागर में दुर्घटनाग्रस्त हो गया था।



Source link

Voting in the House of Representatives tomorrow on impeachment against Donald Trump, difficult to pass in Senate – ट्रंप के खिलाफ महाभियोग पर प्रतिनिधि सभा में वोटिंग कल, सीनेट में पारित होना मुश्किल


ट्रंप के खिलाफ महाभियोग पर प्रतिनिधि सभा में वोटिंग कल, सीनेट में पारित होना मुश्किल

Donald trump ने हिंसा के पहले अपने भाषण को उचित ठहराया

वाशिंगटन:

अमेरिकी संसद भवन कैपिटल हिल में पिछले सप्ताह हुई हिंसा को लेकर अमेरिका के निवर्तमान राष्ट्रपति डोनाल्ड के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव पर बुधवार को मतदान होगा. डेमोक्रेटिक नेताओं के नियंत्रण वाली अमेरिकी प्रतिनिधि सभा में बुधवार को वोटिंग होनी है.

यह भी पढ़ें

सांसदों जैमी रस्किन, डेविड सिसिलिने और टेड लियू ने महाभियोग का प्रस्ताव तैयार किया है. इसे प्रतिनिधि सभा के 211 सदस्यों ने समर्थन दिया है. हाउस ऑफ रिप्रंजेटेटिव में बहुमत के नेता स्टेनी होयर ने सोमवार को अपने पार्टी सहकर्मियों के साथ कान्फ्रेंस कॉल के दौरान कहा कि महाभियोग को लेकर मतदान बुधवार को होगा. इस महाभियोग प्रस्ताव में राष्ट्रपति पर अपने कदमों के जरिए 6 जनवरी को ‘ राजद्रोह के लिए उकसाने’ का आरोप लगाया गया है. इसमें कहा गया है कि ट्रंप ने अपने समर्थकों को कैपिटल बिल्डिंग (संसद परिसर) की घेराबंदी के लिए तब उकसाया, जब वहां इलेक्टोरल कॉलेज के मतों की गिनती चल रही थी और लोगों के धावा बोलने की वजह से यह प्रक्रिया बाधित हुई.

Newsbeep

इस घटना में एक पुलिस अधिकारी समेत पांच लोगों की मौत हो गई. डेमोक्रेटिक सांसदों के पास ट्रंप के खिलाफ महाभियोग प्रस्ताव पारित करने के लिए प्रतिनिधि सभा में पर्याप्त मत है, लेकिन सीनेट में रिपब्लिकन नेताओं के पास 50 के मुकाबले 51 का मामूली अंतर से बहुमत है. सीनेट में महाभियोग प्रस्ताव पारित करने के लिए दो तिहाई सदस्यों के मतों की आवश्यकता होती है. सीनेट में बहुमत के नेता मिच मैकोनल ने कहा है कि अमेरिकी संसद के ऊपरी सदन में महाभियोग पर मतदान 20 जनवरी को होने वाले शपथग्रहण समारोह से पहले नहीं हो सकता.

सांसद इल्हान उमर ने बाद में ट्रंप के खिलाफ महाभियोग के दो आरोप पेश किए हैं. इनमें ट्रंप पर जार्जिया में 2020 राष्ट्रपति पद चुनाव के परिणाम बदलने की कोशिश के लिए सत्ता के दुरुपयोग और तख्तापलट की साजिश रचने के लिए हिंसा को भड़काने के आरोप लगाए गए हैं. उमर ने कहा कि प्रतिनिधि सभा 25वें संशोधन के तहत ट्रंप को हटाने के संबंध में उपराष्ट्रपति (माइक) पेंस और कैबिनेट से अपील करने पर मतदान करेगी. यदि पेंस कार्यवाही नहीं करते हैं और सदन इस सप्ताह महाभियोग प्रस्ताव पर मतदान करेगा. रिपब्लिकन सीनेटर स्टीव डेन्स ने महाभियोग चलाने की अपील को खारिज किया और रिपब्लिकन नेता मैट गाएट्स ने भी इसे ‘‘अनावश्यक एवं विभाजनकारी” बताया.

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)



Source link

Translate »
You cannot copy content of this page