सीएस संतोष

Dakar Rally Moto Racer Cs Santosh Is Out Of Danger Now, Can Come To India – मौत को मात देकर ठीक हुए मोटो रेसर संतोष, जल्द हो सकती है भारत वापसी

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


स्पोर्ट्स डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Wed, 13 Jan 2021 12:19 PM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

सऊदी अरब में चल रहे डकार रैली के दौरान दुर्घटनाग्रस्त होने वाले हीरो मोटोस्पोर्ट्स के भारतीय राइडर सीएस संतोष अभी चिकित्सकों की ‘निगरानी’ में रहेंगे, लेकिन वह भारत के लिए उड़ान भर सकते हैं। हीरो मोटोस्पोर्ट्स ने मंगलवार को बताया, ‘संतोष की स्थिति स्थिर है और चिकित्सक उस पर नजर रखे हुए हैं। स्कैन और आकलन के आधार पर उन्हें भारत आने की मंजूरी दे दी गई है, जहां वह स्थानीय चिकित्सकों की निगरानी में रहेंगे।’

37 साल के संतोष डकार रैली के दौरान बीते बुधवार को दुर्घटनाग्रस्त हो गए थे, जिसमें उन्हें गंभीर चोट आई थी। दुर्घटना के बाद उन्हें हेलीकॉप्टर से जेद्दाह के अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बयान के मुताबिक, ‘उन्हें नींद की स्थिति में भारत लाया जाएगा ताकि उन्हें कोई परेशानी ना हो। यह एक बहुत ही सकारात्मक घटनाक्रम है क्योंकि वह अब अपने परिवार और परिचितों के साथ रहेंगे।’ यह दुर्घटना उसी मार्ग पर हुई थी, जिसमें हीरो मोटोस्पोर्ट्स के राइडर पाउलो गोंसालवेज का पिछले साल रैली के दौरान ही दुर्घटना में निधन हुआ था।

सऊदी अरब में चल रहे डकार रैली के दौरान दुर्घटनाग्रस्त होने वाले हीरो मोटोस्पोर्ट्स के भारतीय राइडर सीएस संतोष अभी चिकित्सकों की ‘निगरानी’ में रहेंगे, लेकिन वह भारत के लिए उड़ान भर सकते हैं। हीरो मोटोस्पोर्ट्स ने मंगलवार को बताया, ‘संतोष की स्थिति स्थिर है और चिकित्सक उस पर नजर रखे हुए हैं। स्कैन और आकलन के आधार पर उन्हें भारत आने की मंजूरी दे दी गई है, जहां वह स्थानीय चिकित्सकों की निगरानी में रहेंगे।’

37 साल के संतोष डकार रैली के दौरान बीते बुधवार को दुर्घटनाग्रस्त हो गए थे, जिसमें उन्हें गंभीर चोट आई थी। दुर्घटना के बाद उन्हें हेलीकॉप्टर से जेद्दाह के अस्पताल में भर्ती कराया गया था। बयान के मुताबिक, ‘उन्हें नींद की स्थिति में भारत लाया जाएगा ताकि उन्हें कोई परेशानी ना हो। यह एक बहुत ही सकारात्मक घटनाक्रम है क्योंकि वह अब अपने परिवार और परिचितों के साथ रहेंगे।’ यह दुर्घटना उसी मार्ग पर हुई थी, जिसमें हीरो मोटोस्पोर्ट्स के राइडर पाउलो गोंसालवेज का पिछले साल रैली के दौरान ही दुर्घटना में निधन हुआ था।



Source link

Leave a Comment

Translate »
You cannot copy content of this page