Fda Clears Apple Watch Sleep App That Intervenes To Stop Nightmares – डरावने सपनों से छुट्टी दिलाएगी एपल वॉच, इस एप को मिली Fda की मंजूरी

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


टेक, डेस्क अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Thu, 12 Nov 2020 03:59 PM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

यदि आपको भी डरावने सपने आते हैं और आप सारे इंतजाम करके थक चुके हैं तो आपके लिए अच्छी खबर है, क्योंकि बाजार में अब एक ऐसी टेक्नोलॉजी आ गई है जो आपको डरावने सपनों से दूर रखेगी। इस खास टेक्नोलॉजी की विश्वसनीयता को लेकर भी आपको ज्यादा चिंता करने की जरूरत नहीं है, क्योंकि इसे एपल (Apple) ने तैयार किया है और अमेरिका के फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) ने  इसे हरी झंडी भी दे दी है।

इस नए एप को नाइटवेयर (Nightware) नाम दिया गया है जिसे एपल वॉच से कनेक्ट किया जा सकता है। इसका इस्तेमाल 22 साल या इससे अधिक उम्र के ऐसे लोग कर सकते हैं जिन्हें डरावने सपने परेशान करते हैं।

इस एप सोने के दौरान हर्ट रेट को मॉनिटर करता है और फिर उसे एनालाइज करके रिपोर्ट देती है। एपल वॉच के जरिए नाइटवेयर एप डाटा इकट्ठा करता है और इसी डाटा के आधार पर यूजर के लिए एक यूनिक स्लीप प्रोफाइल क्रिएट की जाती है।

इसके बाद हर्ट रेट और बॉडी मूवमेंट के आधार पर एपल वॉत को पता चल जाता है कि आप कोई डरावना सपना देख रहे हैं। वॉच को जैसे ही लगता है कि यूजर डरावने सपने देख रहे है तो वह एपल वॉच पर वाइब्रेशन का अलर्ट आता है, हालांकि इसके लिए यूजर्स का सोते वक्त एपल वॉच पहनना जरूरी है। एफडीए ने कहा है कि नाइटवेयर को सिर्फ प्रेसकिप्शन पर ही उपलब्ध कराया जाएगा।

यदि आपको भी डरावने सपने आते हैं और आप सारे इंतजाम करके थक चुके हैं तो आपके लिए अच्छी खबर है, क्योंकि बाजार में अब एक ऐसी टेक्नोलॉजी आ गई है जो आपको डरावने सपनों से दूर रखेगी। इस खास टेक्नोलॉजी की विश्वसनीयता को लेकर भी आपको ज्यादा चिंता करने की जरूरत नहीं है, क्योंकि इसे एपल (Apple) ने तैयार किया है और अमेरिका के फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन (FDA) ने  इसे हरी झंडी भी दे दी है।

इस नए एप को नाइटवेयर (Nightware) नाम दिया गया है जिसे एपल वॉच से कनेक्ट किया जा सकता है। इसका इस्तेमाल 22 साल या इससे अधिक उम्र के ऐसे लोग कर सकते हैं जिन्हें डरावने सपने परेशान करते हैं।

इस एप सोने के दौरान हर्ट रेट को मॉनिटर करता है और फिर उसे एनालाइज करके रिपोर्ट देती है। एपल वॉच के जरिए नाइटवेयर एप डाटा इकट्ठा करता है और इसी डाटा के आधार पर यूजर के लिए एक यूनिक स्लीप प्रोफाइल क्रिएट की जाती है।

इसके बाद हर्ट रेट और बॉडी मूवमेंट के आधार पर एपल वॉत को पता चल जाता है कि आप कोई डरावना सपना देख रहे हैं। वॉच को जैसे ही लगता है कि यूजर डरावने सपने देख रहे है तो वह एपल वॉच पर वाइब्रेशन का अलर्ट आता है, हालांकि इसके लिए यूजर्स का सोते वक्त एपल वॉच पहनना जरूरी है। एफडीए ने कहा है कि नाइटवेयर को सिर्फ प्रेसकिप्शन पर ही उपलब्ध कराया जाएगा।



Source link

Leave a Comment

Translate »
You cannot copy content of this page