India Sends Petrolium Minister Dharmedra Pradhan To Kuwait To Condole Death Of Former Amir – पूर्व अमीर के निधन पर श्रद्धांजलि देने के लिए कुवैत पहुंचे पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


न्यूज डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली

Updated Sun, 11 Oct 2020 10:47 PM IST

कुवैत पहुंचे पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान
– फोटो : twitter.com/dpradhanbjp

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर


कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

कुवैत के पूर्व अमीर के निधन पर भारत सरकार की ओर से श्रद्धांजलि देने के लिए पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान दो दिवसीय यात्रा (11 और 12 अक्तूबर) पर कुवैत गए हैं। रविवार को कुवैत पहुंचे प्रधान को भेजने का उद्देश्य यह बताना है कि भारत तेल संपन्न देश कुवैत के साथ अपने संबंधों को कितनी अहमियत देता है।  

शेख सबाह अल-अहमद अल-जाबेर अल-सबाह के निधन पर संवेदनाएं जताने के लिए कुवैत पहुंचे प्रधान अपने साथ राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री का पत्र भी लेकर गए हैं। यह पत्र कुवैत के नेतृत्व को दिया जाएगा। उनका निधन 29 सितंबर को 91 साल की आयु में अमेरिका के एक अस्पताल में हुआ था।

वह भारत सरकार की ओर से कुवैत के नए अमीर शेख नवाफ अल-अहमद अल जाबेर अल-सबाह और क्राउन प्रिंस शेख मिशाल अल-अहमद अल जाबेर अल सबाह को बधाई भी देंगे। मामले की जानकारी रखने वाले लोगों का कहना है कि यह मुलाकात दोनों देशों के बीच संबंधों को नए आयाम प्रदान कर सकती है। 

कुवैत भारत के ऊर्जा स्रोतों की सूची में छठे स्थान पर है। भारत लगातार कुवैत के शीर्ष दस व्यापारिक भागीदारों में से एक रहा है। साल 2015-16 में दोनों देशों के बीच 620 करोड़ डॉलर का द्विपक्षीय व्यापार हुआ था। इसके साथ ही कुवैत की स्वायत्त धन निधि ने 2017 से भारत में 200 करोड़ डॉलर का निवेश किया है।

इससे पहले भारत के विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर एक अक्तूबर को कुवैत के पूर्व अमीर के निधन पर श्रद्धांजलि देने नई दिल्ली में स्थित कुवैती दूतावास पहुंचे थे। वहीं, भारत ने इसे लेकर चार अक्तूबर को राष्ट्रीय शोक भी घोषित किया था। दिवंगत अमीर के नेतृत्व के तहत भारत और कुवैत के संबंध काफी अच्छे रहे हैं।

कुवैत के पूर्व अमीर के निधन पर भारत सरकार की ओर से श्रद्धांजलि देने के लिए पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान दो दिवसीय यात्रा (11 और 12 अक्तूबर) पर कुवैत गए हैं। रविवार को कुवैत पहुंचे प्रधान को भेजने का उद्देश्य यह बताना है कि भारत तेल संपन्न देश कुवैत के साथ अपने संबंधों को कितनी अहमियत देता है।  

शेख सबाह अल-अहमद अल-जाबेर अल-सबाह के निधन पर संवेदनाएं जताने के लिए कुवैत पहुंचे प्रधान अपने साथ राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री का पत्र भी लेकर गए हैं। यह पत्र कुवैत के नेतृत्व को दिया जाएगा। उनका निधन 29 सितंबर को 91 साल की आयु में अमेरिका के एक अस्पताल में हुआ था।

वह भारत सरकार की ओर से कुवैत के नए अमीर शेख नवाफ अल-अहमद अल जाबेर अल-सबाह और क्राउन प्रिंस शेख मिशाल अल-अहमद अल जाबेर अल सबाह को बधाई भी देंगे। मामले की जानकारी रखने वाले लोगों का कहना है कि यह मुलाकात दोनों देशों के बीच संबंधों को नए आयाम प्रदान कर सकती है। 

कुवैत भारत के ऊर्जा स्रोतों की सूची में छठे स्थान पर है। भारत लगातार कुवैत के शीर्ष दस व्यापारिक भागीदारों में से एक रहा है। साल 2015-16 में दोनों देशों के बीच 620 करोड़ डॉलर का द्विपक्षीय व्यापार हुआ था। इसके साथ ही कुवैत की स्वायत्त धन निधि ने 2017 से भारत में 200 करोड़ डॉलर का निवेश किया है।

इससे पहले भारत के विदेश मंत्री डॉ. एस जयशंकर एक अक्तूबर को कुवैत के पूर्व अमीर के निधन पर श्रद्धांजलि देने नई दिल्ली में स्थित कुवैती दूतावास पहुंचे थे। वहीं, भारत ने इसे लेकर चार अक्तूबर को राष्ट्रीय शोक भी घोषित किया था। दिवंगत अमीर के नेतृत्व के तहत भारत और कुवैत के संबंध काफी अच्छे रहे हैं।





Source link

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

Translate »
You cannot copy content of this page