सांकेतिक तस्वीर

Indian Boxers Are Facing Different Challenges In Germany Due To Covid – इटली से बॉक्सरों को जाना है जर्मनी पर कोरोना लगा रहा अड़ंगा

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


स्पोर्ट्स डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Sat, 21 Nov 2020 12:06 PM IST



पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

टोक्यो ओलंपिक की इटली में तैयारियां कर रहे पुरुष और महिला बॉक्सरों का दिसंबर माह में होने वाले कोलोन विश्व कप में भाग लेना अधर में लटक गया है। एक तो बॉक्सरों का वीजा पांच दिसंबर को समाप्त हो रहा है। ऊपर से जर्मनी में बढ़ते हुए कोरोना के मामलों ने बॉक्सिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया को उलझन में डाल दिया है। फिल्हाल बॉक्सरों का एक दिसंबर को इटली से जर्मनी जाने का कार्यक्रम है, लेकिन इस पर अब तक अंतिम मुहर नहीं लग पाई है।

टोक्यो ओलंपिक की तैयारियों के लिए बीएफआई ने इटली के अलावा जर्मनी में ट्रेनिंग और कोलोन विश्व कप में खेलने का कार्यक्रम बनाया था। पहले केमेस्ट्री कप के नाम से विख्यात यह टूर्नामेंट बेहद महत्वपूर्ण है। इसमें दुनिया के नामी-गिरामी मुक्केबाज भाग लेते हैं। भारत इसमें लगातारा भागीदारी करता आया है। टीम इटली में थी और टूर्नामेंट भी इसी समय होना था तो बीएफआई ने इसमें भाग लेने के साथ ट्रेनिंग का कार्यक्रम कोलोन में बना लिया।

सूत्रों का कहना है कि बीएफआई पसोपेश में पड़ी है कि जर्मनी में कोरोना के केस लगातार बढ़ते जा रहे हैं। ऐसे में वहां बॉक्सरों को भेजना ठीक रहेगा या नहीं। ऊपर से पांच दिसंबर को बॉक्सरों का शेनेगन वीजा की अवधि समाप्त हो रही है। फेडरेशन वीजा की औपचारिकताएं तो शुरू कर दी हैं, लेकिन उसे यह नहीं मालूम है कि वीजा कब तक नहीं मिलेगा। अगर वीजा समय से नहीं मिला तो टीम को इटली से सीधे वापस लौटना पड़ेगा। अगर वीजा लग जाता है तो फेडरेशन एक बार फिर सोचेगी कि बॉक्सरों को टूर्नामेंट में खेलने के लिए भेजा जाए या नहीं। इटली में इस वक्त अमित पंघाल, शिवा थापा, सतीश कुमार, सुमित सांगवान, आशीष कुमार, कविंदर बिष्ट, सिमरनजीत कौर, मनीषा, साक्षी समेत 15 बॉक्सर तैयारियां कर रहे हैं।

टोक्यो ओलंपिक की इटली में तैयारियां कर रहे पुरुष और महिला बॉक्सरों का दिसंबर माह में होने वाले कोलोन विश्व कप में भाग लेना अधर में लटक गया है। एक तो बॉक्सरों का वीजा पांच दिसंबर को समाप्त हो रहा है। ऊपर से जर्मनी में बढ़ते हुए कोरोना के मामलों ने बॉक्सिंग फेडरेशन ऑफ इंडिया को उलझन में डाल दिया है। फिल्हाल बॉक्सरों का एक दिसंबर को इटली से जर्मनी जाने का कार्यक्रम है, लेकिन इस पर अब तक अंतिम मुहर नहीं लग पाई है।

टोक्यो ओलंपिक की तैयारियों के लिए बीएफआई ने इटली के अलावा जर्मनी में ट्रेनिंग और कोलोन विश्व कप में खेलने का कार्यक्रम बनाया था। पहले केमेस्ट्री कप के नाम से विख्यात यह टूर्नामेंट बेहद महत्वपूर्ण है। इसमें दुनिया के नामी-गिरामी मुक्केबाज भाग लेते हैं। भारत इसमें लगातारा भागीदारी करता आया है। टीम इटली में थी और टूर्नामेंट भी इसी समय होना था तो बीएफआई ने इसमें भाग लेने के साथ ट्रेनिंग का कार्यक्रम कोलोन में बना लिया।

सूत्रों का कहना है कि बीएफआई पसोपेश में पड़ी है कि जर्मनी में कोरोना के केस लगातार बढ़ते जा रहे हैं। ऐसे में वहां बॉक्सरों को भेजना ठीक रहेगा या नहीं। ऊपर से पांच दिसंबर को बॉक्सरों का शेनेगन वीजा की अवधि समाप्त हो रही है। फेडरेशन वीजा की औपचारिकताएं तो शुरू कर दी हैं, लेकिन उसे यह नहीं मालूम है कि वीजा कब तक नहीं मिलेगा। अगर वीजा समय से नहीं मिला तो टीम को इटली से सीधे वापस लौटना पड़ेगा। अगर वीजा लग जाता है तो फेडरेशन एक बार फिर सोचेगी कि बॉक्सरों को टूर्नामेंट में खेलने के लिए भेजा जाए या नहीं। इटली में इस वक्त अमित पंघाल, शिवा थापा, सतीश कुमार, सुमित सांगवान, आशीष कुमार, कविंदर बिष्ट, सिमरनजीत कौर, मनीषा, साक्षी समेत 15 बॉक्सर तैयारियां कर रहे हैं।



Source link

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

Translate »
You cannot copy content of this page