कपिल देव

Kapil Dev Says Split Captaincy Can Not Work In Indian Cricket Culture – भारतीय क्रिकेट में नहीं चलते अलग-अलग कप्तान : कपिल

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


स्पोर्ट्स डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली
Updated Sat, 21 Nov 2020 07:34 AM IST

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

भारत के पूर्व कप्तान कपिलदेव का कहना है कि क्रिकेट के विभिन्न प्रारूपों में अलग-अलग कप्तान की अवधारणा भारतीय क्रिकेट की संस्कृति में नहीं चल सकती। उन्होंने कहा कि एक बहुराष्ट्रीय कंपनी (एमएनसी) में दो मुख्य कार्यकारी (सीईओ) हो सकते हैं, नहीं। 

जब से रोहित शर्मा ने मुंबई इंडियंस को पांचवीं बार आईपीएल का खिताब दिलाया है तब से यह बहस जोरों पर है कि क्या सीमित ओवरों के प्रारूप में रोहित को कप्तानी सौंप देनी चाहिए। कई पूर्व क्रिकेटरों का कहना है कि कम से कम टी20 प्रारूप में रोहित को दायित्व सौंपना चाहिए।

कपिल ने कहा कि यदि कोहली टी20 में खेल रहे हैं और अच्छा कर रहे हैं तो उन्हें बरकरार रखना चाहिए। हालांकि मैं भी नए लोगों का आना पसंद करूंगा लेकिन यह मुश्किल है। विभिन्न प्रारूपों में हमारी 80 या 70 प्रतिशत टीम तो वही है। खिलाड़ी अलग-अलग थ्योरी वाले कप्तान नहीं चाहेंगे। दो कप्तान होंगे तो खिलाड़ी सोचेगा कि वह टेस्ट में मेरा कप्तान होगा। मैं उन्हें नाराज नहीं करूंगा।

भारत के पूर्व कप्तान कपिलदेव का कहना है कि क्रिकेट के विभिन्न प्रारूपों में अलग-अलग कप्तान की अवधारणा भारतीय क्रिकेट की संस्कृति में नहीं चल सकती। उन्होंने कहा कि एक बहुराष्ट्रीय कंपनी (एमएनसी) में दो मुख्य कार्यकारी (सीईओ) हो सकते हैं, नहीं। 

जब से रोहित शर्मा ने मुंबई इंडियंस को पांचवीं बार आईपीएल का खिताब दिलाया है तब से यह बहस जोरों पर है कि क्या सीमित ओवरों के प्रारूप में रोहित को कप्तानी सौंप देनी चाहिए। कई पूर्व क्रिकेटरों का कहना है कि कम से कम टी20 प्रारूप में रोहित को दायित्व सौंपना चाहिए।

कपिल ने कहा कि यदि कोहली टी20 में खेल रहे हैं और अच्छा कर रहे हैं तो उन्हें बरकरार रखना चाहिए। हालांकि मैं भी नए लोगों का आना पसंद करूंगा लेकिन यह मुश्किल है। विभिन्न प्रारूपों में हमारी 80 या 70 प्रतिशत टीम तो वही है। खिलाड़ी अलग-अलग थ्योरी वाले कप्तान नहीं चाहेंगे। दो कप्तान होंगे तो खिलाड़ी सोचेगा कि वह टेस्ट में मेरा कप्तान होगा। मैं उन्हें नाराज नहीं करूंगा।



Source link

Leave a Comment

Translate »
You cannot copy content of this page