IPL 2020: Virat Kohli के बचाव में उतरे उनके बचपन के कोच, कहा- ‘वह इंसान है कोई मशीन नहीं’

People Forget Virat Kohli Is Human, Not A Machine: Coach Rajkumar – IPL 2020: Virat Kohli के बचाव में उतरे उनके बचपन के कोच, कहा- ‘वह इंसान है कोई मशीन नहीं’

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


IPL 2020 में किंग्स इलेन पंजाब (KXIP) के खिलाफ खराब कप्तानी और मैच में कुछ कैच छोड़ने के बाद रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर (RCB) के कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli ) की काफी आलोचना हो रही है।

 

नई दिल्ली। 24 सितंबर को खेले गए IPL के मुकाबले में किंग्स इलेवन पंजाब ने रायल चैलेंजर्स बेंगलूर को 97 रन से हराया था। इस मैच में पंजाब के कप्तान केएल राहुल ने 132 रनों की नाबाद शतकीय पारी खेली थी। इस मैच में मिली बुरी हार के बाद से ही सोशल मीडिया पर विराट कोहली (Virat Kohli ) की जमकर आलोचना हो रही है।

IPL 2020: सबसे तेज सेंचुरी लगाने वाले दूसरे भारतीय बने Mayank Agarwal, जानें IPL इतिहास के 5 सबसे तेज शतक

दरअसल, इस मैच में दुनिया के सबसे फिट खिलाड़ी कोहली ने न केवल खराब कप्तानी की बल्कि दो आसान कैच भी छोड़े थे। इसके बाद से ही लोग विराट की आलोचना कर रहे हैं। लेकिन अब विराट के बचपन के कोच राजकुमार शर्मा ने आलोचना करने वाले लोगों के जवाब दिया है।

मीडिया से बात करते हुए राजकुमार ने कहा कि मैदान पर सभी खिलाड़ी का अच्छा और बुरा दिन होता है, इसे कोई चाहकर भी नहीं बदल सकता क्योंकि इसे कोई भी नियंत्रित नहीं कर सकता है। विराट ने अपने लिए इतने ऊंचे मानदंड स्थापित किए हैं, उन्होंने कई मैच अकेले दम पर जिताए हैं लेकिन इसका मतलब ये नहीं है कि वे हर मैच में वैसा ही प्रदर्शन करें।

IPL 2020: कौन हैं Rahul Tewatia? जिन्होंने सिर्फ 5 गेंदों में हारा मैच जीता दिया

कोच ने आगे कहा कि कि प्रशंसक मैदान पर हर बार उनसे अच्छा प्रदर्शन करने की उम्मीद कर रहे हैं। जो की संभव नहीं है। लोग भूल जाते हैं कि वह केवल इंसान हैं और मशीन नहीं। उन्होंने आगे कहा, किसी से भी एक या दो कैच मिस हो सकता है। यहां तक कि जोंटी रोड्स भी कई कैच नहीं ले पाए। इसका मतलब ये नहीं आप उन्हें ट्रोल करने लगेंगे।

राजकुमार ने जावेद मियांदाद का उदाहरण देते हुए कहा कि जावेद सबसे टॉप क्लास के फिल्डर माने जाते हैं लेकिन उन्होंने भी कई बार स्लिप किया। यह मैदान पर सिर्फ एक बुरा दिन था, जो सबसे अच्छा भी हो सकता है।

 













Source link

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

Translate »
You cannot copy content of this page