Pfizer vaccine left several volunteers with severe hangover headache Report latest vaccine update | फिजर की वैक्सीन लेने के बाद वॉलंटियर्स में सिरदर्द, बुखार और मांसपेशियों में दर्द की शिकायत

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


  • Hindi News
  • Happylife
  • Pfizer Vaccine Left Several Volunteers With Severe Hangover Headache Report Latest Vaccine Update

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

3 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक
  • 6 देशों में 43,500 से ज्यादा लोगों ने वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल में हिस्सा लिया
  • वॉलंटियर के मुताबिक, दूसरी डोज लेने पर साइड इफेक्ट और ज्यादा गंभीर हो गया था

अमेरिकी कम्पनी फिजर की वैक्सीन के ट्रायल में शामिल वॉलंटियर्स में साइड इफेक्ट के मामले सामने आए हैं। डेली मेल की रिपोर्ट के मुताबिक, वैक्सीन की पहली डोज दिए जाने के बाद कई वॉलंटियर्स को हैंगओवर जैसा महसूस हुआ। इनमें सिरदर्द, मांसपेशियों में दर्द और बुखार की शिकायते सामने आई हैं।

कम्पनी का दावा, वैक्सीन 90 फीसदी असरदार
इससे पहले कम्पनी ने दावा किया था कि हमारी वैक्सीन कोरोनावायरस पर 90 फीसदी तक असरदार है। रिपोर्ट के मुताबिक, 6 देशों में 43,500 से ज्यादा लोगों ने इस वैक्सीन के तीसरे चरण के ट्रायल में हिस्सा लिया था। यह डबल ब्लाइंड ट्रायल था। इसका मतलब है, ट्रायल में हिस्सा लेने वाले वॉलंटियर्स को यह बताया नहीं गया था कि उन्हें वैक्सीन दी गई है या नहीं।

दूसरी डोज लेने पर साइड इफेक्ट और बढ़ गया
डेलीमेल की रिपोर्ट कहती है, 45 साल के एक वॉलंटियर के मुताबिक, पहली डोज के बाद उन्हें सिरदर्द और शरीर में दर्द के लक्षण महसूस किए। दूसरी डोज के बाद ये लक्षण और गंभीर हो गए। एक अन्य वॉलंटियर का कहना है, वैक्सीन के बाद उन्हें हैंगओवर जैसा लगा लेकिन ये लक्षण कुछ समय के लिए ही थे।

ट्रायल में सिर्फ आधे लोग शामिल किए गए
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, ट्रायल में शामिल सिर्फ आधे लोगों को वैक्सीन दी गई थी। ऐसा इसलिए किया गया था ताकि किस ग्रुप में संक्रमण का कितना खतरा है, इसे समझा जा सके। इससे पता लगाया जाता है कि वैक्सीन काम कर रही है या नहीं।

वैक्सीन के लिए डिलीवरी भी बड़ी चुनौती
वैक्सीन के लिए इसकी डिलीवरी भी बड़ी चुनौती है। कंपनी इस साल के अंत में 1 करोड़ डोज ब्रिटेन सरकार को उपलब्ध करवा देगी। उत्पादन से लेकर हर इंसान तक पहुंचाने में वैक्सीन को माइनस 70 डिग्री तापमान में रखने की जरूरत होगी। ऐसे में बड़ी चुनौती कंपनी से हॉस्पिटल तक इसे पहुंचाने के लिए इस तापमान को बनाए रखना होगा।

ये भी पढ़ें

फ्लू की वैक्सीन कोरोना से संक्रमण का खतरा 39% तक घटा सकती है

जर्मनी के वैज्ञानिकों ने लैब में बनाई कोरोना से लड़ने वाली सबसे असरदार एंटीबॉडी

ब्रिटेन में सूंघने वाली कोरोना वैक्सीन का ट्रायल शुरू, दावा; यह सीधे फेफड़ों पर असर करेगी

2024 तक इतनी वैक्सीन नहीं तैयार हो पाएगी कि दुनियाभर के हर इंसान को दी जा सके : अडार पूनावाला



Source link

Leave a Comment

Translate »
You cannot copy content of this page