भोपाल मंडल को जुलाई 2020 माह में 69.59% अधिक माल राजस्व की प्राप्ति – RailSamachar

रेलवे की माल परिवहन आय और रेलवे के माध्यम से माल लदान बढ़ाने के लिए भोपाल मंडल, पश्चिम मध्य रेलवे द्वारा लगातार प्रयास किया जा रहा है।

रेलवे बोर्ड के निर्देशानुसार भोपाल मंडल द्वारा व्यापारियों, व्यावसायियों, व्यापार/वाणिज्य संगठनों, फैक्ट्री मालिकों, माल उत्पादकों और मार्केटिंग कंपनियों से संपर्क कर रेलवे के जरिए माल परिवहन की संभावनाओं को तलाशकर अधिक से अधिक माल लदान के साथ पीस-मील माल लदान को भी रेलवे की तरफ आकर्षित करने का प्रयास किया जा रहा है।

इसी क्रम में बल्क माल लदान के साथ-साथ पीस-मील माल लदान के तहत जुलाई 2020 में भोपाल मंडल के विभिन्न माल गोदामों और साइडिंग्स से फर्टिलाइजर, पीओएल, रेलवे गुड्स, कंटेनर एवं खाद्यान्न आदि के कुल 255 रेक 0.65 मिलियन टन माल कुल 11966 वैगनों में लोड करके विभिन्न गंतव्य स्थानों को भेजा गया।

इससे भोपाल मंडल को जुलाई 2020 माह में 69.43 करोड़ रुपए की आय प्राप्त हुई है, जो कि गत वर्ष की समान अवधि में 148 रेक और 7633 वैगनों में लोड किए गए 0.40 मिलियन टन माल से प्राप्त कुल 40.94 करोड़ के राजस्व की अपेक्षा 69.59% अधिक है।

उल्लेखनीय है कि व्यापारियों, व्यावसायियों, व्यापार/वाणिज्य संगठनों, फैक्ट्री मालिकों, माल उत्पादकों और मार्केटिंग कंपनियों को रेलवे के जरिए माल लदान करने के अलावा पीस-मील माल लदान करने की भी सुविधा प्रदान की गई है। इससे फुटकर व्यापारियों को भी पर्याप्त लाभ मिलेगा।

“फुटकर व्यापारी यदि अपना माल सिर्फ दो-चार कंटेनरों में भेजना चाहते हैं, तो वे वैगन लोड रेट पर मालभाड़ा जमा करके अपने माल का लदान कर सकते हैं। इसके अलावा यदि वे ट्रेन लोड पर माल का परिवहन करना चाहते हैं, तो भी उन्हें मालभाड़ा प्रोत्साहन योजनाओं का लाभ मिलेगा।”

यह जानकारी जनसंपर्क विभाग, भोपाल मंडल द्वारा जारी एक विज्ञप्ति में दी गई है।





Source link

Translate »