Telecom companies add 32.27 lakh new subscriber in October

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  



अक्टूबर में टेलीकॉम...- India TV Paisa
Photo:FILE

अक्टूबर में टेलीकॉम कंपनियों से जुड़े 32 लाख नए सब्सक्राइबर 


नई दिल्ली। अक्टूबर के महीने में नए ग्राहक जोड़ने के मामले में भारती एय़रटेल सबसे आगे रही है। ट्राई द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक अवधि के दौरान भारती एयरटेल ने 36.74 लाख नए ग्राहकों को जोड़ा है। वहीं इस दौरान रिलायंस जियो के साथ 22.28 लाख नए सब्सक्राइबर जुड़े हैं। हालांकि दूसरी तरफ वोडाफोन आइडिया के सब्सक्राइबर की संख्या में गिरावट जारी रही। अक्टूबर के दौरान 26.56 लाख सब्सक्राइबर ने वोडाफोन आइडिया का साथ छोड़ दिया। इस दौरान वायरलैस सब्सक्राइबर की संख्या में शुद्ध रूप से 32.27 लाख की बढ़त दर्ज हुई है।

वही वायरलैस सब्सक्राइबर की संख्या में हिस्सेदारी देखें तो रिलायंस जियो 35.28 फीसदी के साथ सबसे आगे है। वहीं भारती एयरटेल के पास 28.68 फीसदी सब्सक्राइबर है। वोडाफोन आइडिया 25.42 फीसदी हिस्सेदारी के साथ तीसरे स्थान पर है। कुल सब्सक्राइबर का 89 फीसदी से ज्यादा हिस्सा निजी कंपनियों के पास है। वहीं अक्टूबर के महीने में सब्सक्राइबर की संख्या में सबसे ज्यादा ग्रोथ गुजरात में दर्ज हुई है। इसके बाद महाराष्ट्र, तमिलनाडु का नंबर है। वहीं मुंबई, जम्मू कश्मीर और पश्चिम बंगाल में सब्सक्राइबर की संख्या घटी है।

ब्रॉडबैड सब्सक्राइबर की संख्या अक्टूबर के महीने में 1.17 फीसदी बढ़कर 73.4 करोड़ पर पहुंच गई। वायर्ड ब्रॉडबैंड सब्सक्राइबर की संख्या में 1.85 फीसदी बढ़कर 2.15 करोड़, मोबाइल डिवाइस यूजर जिसमें फोन और डोंगल शामिल हैं, की संख्या 1.15 फीसदी बढ़कर 71.2 करोड़ हो गई। ब्रॉडबैंड के मामले में रिलायंस जियो 55.53 फीसदी सब्सक्राइबर के साथ सबसे आगे है।

ट्राई के मुताबिक अक्टूबर के अंत तक देश में कुल टेलीफोन सब्सक्राइबर की संख्या 117.1 करोड़ रही है। इसमें से 115.1 करोड़ वायरलैस और 1.99 करोड़ वायरलाइन टेलीफोन सब्सक्राइबर हैं। इसमे से शहरी इलाकों में 64.7 करोड़ टेलीफोन सब्सक्राइबर थे। अक्टूबर के दौरान शहरी इलाकों में सब्सक्राइबर में ग्रामीण इलाकों के मुकाबले तेज बढ़त दर्ज हुई। वहीं वायरलाइन सबस्क्राइबर की संख्या में गिरावट देखने को मिली है।





Source link

Leave a Comment

Translate »
You cannot copy content of this page