Triangle of Moon Saturn and Jupiter seen in the sky । आसमान में छाया चांद और ग्रहों का त्रिकोण, चूक गए हैं तो फिर दिखेगा ये दुर्लभ नजारा

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


नई दिल्ली: साल 2020 भले ही आम लोगों के लिए कुछ खास अच्छा नहीं रहा हो लेकिन स्काईवॉचर्स (Skywatchers) और ऐस्ट्रोनॉमर्स (Astronomers) के लिए बेहद खास रहा है. लगभग हर महीने बेशुमार खूबसूरत नजारे आसमान में नजर आए हैं और अभी भी काफी कुछ देखने को मिल ही रहा है.

19 नवंबर की रात दुनिया के कई हिस्सों में ऐसा ही एक दुर्लभ नजारा देखने को मिला, जब चांद, शनि (Saturn) और बृहस्पति (Jupiter) त्रिकोण यानी Triangle बनाते दिखे. यह बहुत ही दुर्लभ नजारा था. इसकी खास बात यह है कि अगले महीने फिर एक ऐसा ही नजारा देखने को मिलेगा. आने वाले महीने का दुर्लभ नजारा इसलिए भी खास है क्योंकि वह 20 साल में एक बार होता है.

आसमान में दिखे कई दुर्लभ नजारे
19 नवंबर को आसमान में अंधेरा होने के साथ ही चांद नजर आने लगा और कुछ ही देर में पहले बृहस्पति और फिर शनि भी दिखने लगा. यह नजारा बेशक कुछ देर तक ही रहा था लेकिन इस दुर्लभ नजारे को कैमरे में कैद करने में स्काईवॉचर्स ने बिल्कुल भी देरी नहीं की. लोगों ने दूरबीन और छोटे टेलिस्कोप (Telescope) की मदद से इसे देखा.

यह भी पढ़ें- अलास्का के इस Glacier से तेजी से पिघल रही बर्फ, Landslide हुआ तो आएगी भयावह सुनामी

यहां तक कि चांद के गड्ढे और बृहस्पति के चांद तक दिखाई दे रहे थे. छोटे टेलिस्कोप की मदद से Saturn के रिंग्स भी नजर आ गए थे. हो सकता है कि यह जानकर आप अफसोस कर रहे हों लेकिन परेशान होने की जरूरत नहीं है. जो लोग यह नजारा नहीं देख पाए थे, वे अगले महीने का इंतजार कर सकते हैं.

यह भी पढ़ें- सौर मंडल में इस ग्रह पर गिर रही हैं ताबड़तोड़ बिजली, देखिए हैरान कर देने वाली तस्वीरें

दिसंबर में फिर बनेगा संयोग
दिसंबर में Saturn और Jupiter फिर एक-दूसरे के करीब रहेंगे. दिसंबर में एक और खास दुर्लभ घटना भी होगी, जिसे The Great Conjunction कहा जाता है. जब चांद दो अन्य ग्रहों के साथ एक ही Celestial Longitude में होता है, तो उसे  कंजक्शन (Conjunction) कहा जाता है.

बृहस्पति और शनि का Conjunction 19.6 साल में एक बार होता है और 1623 के बाद 21 दिसंबर को यह सबसे करीब नजर आएगा.

विज्ञान की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें





Source link

Leave a Comment

Translate »
You cannot copy content of this page