Weather Report: ठंड आने का अभी करना होगा इंतजार, कई राज्यों में बारिश के संकेत | nation – News in Hindi

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


Weather Report: ठंड आने का अभी करना होगा इंतजार, कई राज्यों में बारिश के संकेत

मौसम विभाग ने 4 राज्यों में बारिश के दिए संकेत. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

मौसम विभाग के मुताबिक कुछ राज्यों में 10 से 13 अक्टूबर के बीच भारी बारिश की संभावना बनती देखी जा रही है. इन राज्यों में ओडिशा,मध्य प्रदेश, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश का तटीय इलाका और महाराष्ट्र का ज्यादातर हिस्सा शामिल है.


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    October 11, 2020, 1:51 PM IST

नई दिल्ली. मानसून के वापस न जाने का असर अक्टूबर में पड़ रही तेज गर्मी को देखकर लगाया जा सकता है. मानसून ने एक ओर जहां कई राज्यों में लोगों को गर्मी से बेहाल कर रखा है वहीं कुछ राज्यों में बारिश परेशानी का सबब बनी हुई है. मौसम विभाग के मुताबिक कुछ राज्यों में 10 से 13 अक्टूबर के बीच भारी बारिश की संभावना बनती देखी जा रही है. इन राज्यों में ओडिशा,मध्य प्रदेश, तेलंगाना, आंध्र प्रदेश का तटीय इलाका और महाराष्ट्र का ज्यादातर हिस्सा शामिल है.

मौसम विभाग की मानें तो बंगाल की खाड़ी के आसपास बन रहे दबाव का असर मौसम पर दिखाई पड़ने लगा है. बंगाल की खाड़ी में उच्च दबाव बना रहने के बाद मासून को वापस जाने में देरी हो रही है. कम वायुदाब की वजह से ओडिशा, आंध्र प्रदेश, तेलंगाना, मध्य प्रदेश, मराठवाड़ा, कोंकण, गोवा, कर्नाटक और अंडमान निकोबार में भारी बारिश की संभावनाएं बनती देखी जा रही हैं.

इसे भी पढ़ें:- Weather Report: ऑफ सीजन में मानसून सक्रिय, IMD ने इन राज्‍यों के लिए जारी की भारी बारिश की चेतावनी मौसम विभाग ने अंडमान और उसके आसपास के इलाकों में 10 से 14 अक्टूबर तक अलर्ट जारी कर दिया है. मौसम विभाग के मुताबित 10 से 14 अक्टूबर तक यहां पर तेज बारिश हो सकती है. ऐसे में मछुआरों को समुद्र में जाने से मना किया गया है. मौसम विभाग के मुताबिक दिल्ली से मानसून की वापसी सितंबर में शुरू हो गई थी लेकिन इसकी रफ्तार काफी धीमी होने के कारण मौसम में कोई खास असर देखने को नहीं ​मिल रहा है.





Source link

Leave a Comment

This site is protected by reCAPTCHA and the Google Privacy Policy and Terms of Service apply.

Translate »
You cannot copy content of this page